ट्राली बैग देने के विरोध में उतरे रेलकर्मी, कर्मचारियों का प्रदर्शनऔर सभा Gorakhpur News

प्रदर्शन करते एनई रेलवे मजदूर यूनियन के कार्यकर्ता। जागरण

ट्राली बैग के साथ नरमू ने विद्युत और यांत्रिक विभाग के विलय के खिलाफ भी मोर्चा खोल दिया है। पदाधिकारियों और सदस्यों ने डीजल लाबी में प्रदर्शन करने के बाद प्रमुख मुख्य विद्युत इंजीनियर कार्यालय के सामने भी जमकर नारेबाजी की।

Satish chand shuklaTue, 02 Mar 2021 04:09 PM (IST)

गोरखपुर, जेएनएन। रेलकर्मी लोको पायलटों और गार्डों को लाइन बाक्स की जगह ट्राली बैग दिए जाने की योजना के विरोध में उतर आए हैं। एनई रेलवे मजदूर यूनियन (नरमू) ने गोरखपुर स्टेशन स्थित डीजल लाबी में प्रदर्शन किया।  पूर्वोत्तर रेलवे कर्मचारी संघ (पीआरकेएस) ने सभा कर विरोध जताया।

ट्राली बैग के साथ नरमू ने विद्युत और यांत्रिक विभाग के विलय के खिलाफ भी मोर्चा खोल दिया है। पदाधिकारियों और सदस्यों ने डीजल लाबी में प्रदर्शन करने के बाद प्रमुख मुख्य विद्युत इंजीनियर कार्यालय के सामने भी जमकर नारेबाजी की। महामंत्री केएल गुप्त ने कहा कि अधिकारियों की मनमानी नहीं चलेगी। लोको पायलटों और गार्डों को लाइन बाक्स की जगह ट्राली बैग देने की योजना अव्यावहारिक है। पूर्वोत्तर रेलवे प्रशासन इस निर्णय को वापस लेते हुए विद्युत और यांत्रिक विभाग के विलय को भी समाप्त करे। अन्यथा यूनियन सड़क पर उतरकर आंदोलन के लिए बाध्य होगी। इस मौके पर बसंत चतुर्वेदी, नवीन मिश्रा, विनय श्रीवास्तव, ओंकार सिंह, इंद्रेश कुमार, रविन्द्र, केएजे अंसारी, मनोज गुप्ता और एमके महराज आदि पदाधिकारी मौजूद थे। इसीक्रम में महामंत्री विनोद कुमार राय की अध्यक्षता में पीआरकेएस ने ट्राली बैग के विरोध में सभा की। इस योजना को बंद करने के लिए रेलवे प्रशासन को ज्ञापन भी सौंपा। सभा में एके सिंह, मनोज द्विवेदी, डीके तिवारी, आरपी भटट, ईश्वर चंद्र विद्यासागर और दया शंकर चौधरी आदि पदाधिकारी मौजूद थे।

कैब-वे के गेट पर टीटीई की डयूटी लगने पर  नरमू ने जताई नाराजगी

नरमू ने गोरखपुर रेलवे स्टेशन के कैब-वे के गेट पर टिकट परीक्षकों (टीटीई) की डयूटी लगाए जाने का भी विरोध किया है। सोमवार को नरमू का प्रतिनिधि मंडल प्रमुख मुख्य वाणिज्य प्रबंधक से मिलकर नाराजगी जताई। ज्ञापन सौंपने के बाद महामंत्री ने बताया कि टीटीई कैब-वे पर गेट उठाकर साइकिल, मोटरसाइकिल और आटो पास करा रहे हैं। इससे रेलवे की छवि धूमिल हो रही है। यूनियन इसका विरोध करती है। महामंत्री ने टिकट चेकिंग स्टाफ को इस तरह के कार्यों से मुक्त रखने की मांग की है।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.