नई बाजार कांड में बैकफुट पर पुुलिस, उपद्रवियों की गिरफ्तारी में आनकानी, जानें-क्‍या है वजह Gorakhpur News

पुलिस के संबंध में प्रतीकात्‍मक फाइल फोटो, जेएनएन।

मतगणना में गड़बड़ी करने का आरोप लगाते हुए उपद्रवियों ने पांच मई को पुलिस चौकी पीएसी की फूंकने के साथ ही ब्लाक कार्यालय पशु चिकित्सालय व साधन सहकारी समिति में तोड़फोड़ की थी। इसमें आरोपितों को गिरफ्तार करने का प्रयास बंद कर दिया गया है।

Satish Chand ShuklaFri, 14 May 2021 04:27 PM (IST)

गोरखपुर, जेएनएन। नई बाजार कांड में पुलिस बैकफुट पर आ गई है। आरोपितों को गिरफ्तार करने का प्रयास बंद कर दिया गया है। मतगणना में गड़बड़ी करने का आरोप लगाते हुए उपद्रवियों ने पांच मई को पुलिस चौकी, पीएसी की फूंकने के साथ ही ब्लाक कार्यालय, पशु चिकित्सालय व साधन सहकारी समिति में तोड़फोड़ की थी। झंगहा पुलिस ने इस मामले में 61 नामजद, 500 अज्ञात लोगों पर गंभीर धाराओं में छह अलग-अलग एफआइआर दर्ज की है।

अधिशासी अभियंता ने की थी गड़बड़ी

ब्रह्मपुर ब्लाक के रिटर्निंग अफसर व बाढ़ खंड प्रथम के अधिशासी अभियंता वीरेंद्र कुमार यादव ने जिला पंचायत चुनाव की मतगणना में गड़बड़ी करते हुए वार्ड नंबर 60 व 61 से जीते हुए प्रत्याशी की जगह दूसरे नंबर के प्रत्याशी को प्रमाण पत्र दे दिया था।जिसके बाद लोगों ने हेराफेेरी का आरोप लगाकर पांच मई की शाम छह बजे नई बाजार पुलिस चौकी, पीएसी की बस में आग लगा दी। चौकी प्रभारी व सिपाहियों को जिंदा जलाने की कोशिश करने के साथ ही उनके ऊपर फायरिंग की। चौकी परिसर में खड़ी पुलिसकर्मियों की बाइक के साथ ही रजिस्टर व जरूरी कागजात के साथ ही बैरक में रखे सामान उठा ले गए।घटना के बाए जिले की फोर्स के साथ पहुंचे एसएसपी दिनेश कुमार पी ने बल प्रयोग कर उपद्रवियों को खदेड़ा। पुलिस ने मौके से 30 लोगों को पकड़ा था, जिसमें 18 को अगले दिन जेल भेजा गया। इस कार्रवाई के बाद से पुलिस बैकफुट पर है। अधिकारियाें का दावा है कि वीडियो देखकर उपद्रवियों को चिन्हित किया जा रहा है। जिसकी वजह से किसी की गिरफ्तारी नहीं हो रही है। एसएसपी दिनेश कुमार पी ने बताया कि पुलिस चौकी, पीएसी की बस जलाने वालों की तलाश चल रही है।कोई भी दोषी छूटेगा नहीं।

रिटर्निंग अफसर की हुई थी गिरफ्तारी

डीएम के निर्देश पर पंचायत चुनाव के रिटर्निंग अफसर उप संचालक चकबंदी सुनील कुमार ने झंगहा थाने में ब्रह्मपुर ब्लाक के रिटर्निंग अफसर वीरेंद्र कुमार यादव के खिलाफ झंगहा थाने में कूटरचित दस्तावेज तैयार कर जालसाजी करने का मुकदमा दर्ज कराया था।जिसके बाद पुलिस ने उन्हें गिरफ्तार कर भेज दिया। 

इन धाराओं में दर्ज है केस

उपद्रवियों के खिलाफ झंगहा थाने में हत्या की कोशिश, डकैती, बलवा, मारपीट, तोडफ़ोड़, आगजनी, सरकारी काम में बाधा डालने, सेवन सीएलए, आपदा प्रंबधंन अधिनियम सहित 20 धाराओं में छह अलग-अलग केस दर्ज है।उप संचालक चकबंदी, चौकी प्रभारी नई बाजार, बीडीओ ब्रह्मपुर, पीएसी के प्लाटून कमांडर, पशु चिकित्साधिकारी व साधन सहकारी समिति के सचिव ने तहरीर दी है।

इन पर दर्ज हुआ है केस

झंगहा पुलिस ने इस मामले में विशाल तिवारी, संजय निषाद, बलबीर गौड़, संगम निषाद, व्यासमुनि निषाद, उत्तम निषाद, गजेंद्र साहनी, मयंक निषाद, अर्जुन मौर्य, महेंद्र निषाद, नीलेश निषाद, गोविंद, राकेश निषाद, अमित साहनी, पन्नेलाल निषाद, नेबूलाल निषाद, अभय साहनी, बृजेश निषाद, दीपक निषाद, रमेश निषाद, अनिरूद्ध साहनी, अमरेंद्र , रविंद्र, पप्पू निषाद, दूधनाथ निषाद, रामशक्ल साहनी, लक्ष्मन निषाद, नीलेश निषाद, अमर साहनी, अमन, सुनील, सुरेंद्र चौहान, अफरीद खान, राज, वीरेंद्र चौहान, भुअर साहनी, शिवकुमार, रामबाबू, सूरज साहनी, अमरजीत, कमलेश, राकेश साहनी, चौथी निषाद, रामअशीष केवट, महेंद्र निषाद, सुरेंद्र निषाद, रामबहादुर निषाद, रवि निषाद, जयगोविंद निषाद, आदित्य निषाद, सिकंदर, बहादुर निषाद, मनीष कुमार, ऋषि, ओमप्रकाश निषाद, सुनील साहनी, गौरीशंकर, आकाश, रवि निषाद व कोदई निषाद सहित 61 लोगों पर केस दर्ज किया है।

 

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.