द‍िसंबर में होगा खाद कारखाने का उद्घाटन, गोरखपुर आएंगे पीएम नरेंन्‍द्र मोदी

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी पांच से नौ दिसंबर के बीच कभी भी खाद कारखाना का उद्घाटन करने आ सकते हैं। प्रधानमंत्री के कार्यक्रम को देखते हुए प्रशासन ने तैयारियां तेज कर दी हैं। प्रधानमंत्री खाद कारखाना का उद्घाटन करने के बाद जनसभा को भी संबोधित करेंगे।

Pradeep SrivastavaTue, 16 Nov 2021 10:26 AM (IST)
पीएम नरेंद्र मोदी द‍िसंबर में गोरखपुर आएंगे। - फाइल फोटो

गोरखपुर, जागरण संवाददाता। हिन्‍दुस्‍तान उर्वरक एवं रसायन लिमिटेड (एचयूआरएल) के खाद कारखाना के उद्घाटन की तैयारियां तेज हो गई हैं। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी पांच से नौ दिसंबर के बीच कभी भी खाद कारखाना का उद्घाटन करने आ सकते हैं। प्रधानमंत्री के कार्यक्रम को देखते हुए प्रशासन ने तैयारियां तेज कर दी हैं।

एसएसबी के हेलीपैड पर उतरेंगे पीएम

खाद कारखाना के बगल में सशस्त्र सीमा बल (एसएसबी) का सेंट्रल मुख्यालय है। अब तक प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी दो बार एसएसबी परिसर में आ चुके हैं। खाद कारखाना का उद्घाटन करने के लिए प्रधानमंत्री आएंगे तो उनका हेलीकाप्टर तीसरी बार एसएसबी में उतरेगा। डीएम विजय किरन आनन्द ने प्रधानमंत्री के आगमन की तैयारियों को लेकर खाद कारखाना परिसर में रविवार को बैठक की थी। उन्होंने एडीएम सिटी की अध्यक्षता में चार सदस्यीय कमेटी का गठन किया है। इसमें सिटी मजिस्ट्रेट, लोक निर्माण विभाग के अधीक्षण अभियंता के साथ ही खाद कारखाना के भी अफसरों को शामिल किया गया है।

12 जगह बनेगी पार्किंग

प्रधानमंत्री खाद कारखाना का उद्घाटन करने के बाद जनसभा को भी संबोधित करेंगे। प्रधानमंत्री को सुनने के लिए भारी संख्या में नागरिकों के आने की संभावना को देखते हुए प्रशासन कम से कम 12 जगह पार्किंग बनाने की तैयारी कर रहा है। पार्किंग के लिए सफाई व अन्य व्यवस्था की जिम्मेदारी अफसरों को सौंप दी गई है।

एम्स का भी करेंगे उद्घाटन

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी खाद कारखाना का उद्घाटन करने के साथ ही अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) का भी उद्घाटन करेंगे। इसके लिए भी प्रशासन ने तैयारी तेज कर दी है। प्रधानमंत्री के मदन मोहन मालवीय प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय जाने की भी संभावना जताई जा रही है।

22 जुलाई को हुआ था खाद कारखाना का शिलान्यास

खाद कारखाना का शिलान्यास प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 22 जुलाई 2016 को किया था। इस साल फरवरी महीने में खाद कारखाना का उद्घाटन होना था लेकिन कोरोना संक्रमण की वजह से काम पूरा होने में देर हुई। प्रधानमंत्री के हाथ खाद कारखाना का उद्घाटन होने के बाद कुछ ही देर नीम कोटेड यूरिया का उत्पादन होगा। इसके बाद 40-45 दिन तक कारखाना को बंद कर मशीनों की जांच कराई जाएगी। खाद कारखाना के निर्माण पर आठ हजार और एम्स के निर्माण पर 14 सौ करोड़ रुपये खर्च हुए हैं।

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.