योग की मदद से कोरोना के मरीजों को कर रहे हैं निरोग

सिद्धार्थनगर कोविड की जंग में योग और आयुर्वेद काफी कारगर साबित हो रहे हैं। होम आइसोल

JagranMon, 21 Jun 2021 06:15 AM (IST)
योग की मदद से कोरोना के मरीजों को कर रहे हैं निरोग

सिद्धार्थनगर : कोविड की जंग में योग और आयुर्वेद काफी कारगर साबित हो रहे हैं। होम आइसोलेशन में रहने वाले मरीज भी इसका सहारा ले रहे हैं। योग के क्षेत्र में कई विश्व रिकार्ड बनाने वाले जिले के अल्लापुर मंझारी के महेश योगी कोई चिकित्सक नहीं, लेकिन योग विद्या की मदद से कोविड संक्रमितों व गंभीर बीमारियों से ग्रसित लोगों को निरोग कर रहे हैं। परिणाम भी सामने आ रहा है अस्पतालों से इलाज के बाद हार चुके लोग भी स्वस्थ हो रहे हैं।

सिद्धार्थनगर जनपद के मूल निवासी महेश त्रिपाठी ने योग के क्षेत्र में विश्व स्तर तक रिकार्ड कायम किया है। वर्तमान में वह दिव्य योग पीठ अयोध्या के संस्थापक हैं और वहीं आश्रम संचालित कर योग की शिक्षा देने में लगे हैं। उनके आश्रम में योग व आयुर्वेद के सहारे बीमारों का इलाज भी होता है। कोविड के 32 मरीजों में से 13 उनके आश्रम से स्वस्थ होकर लौट चुके हैं। इतना ही नहीं शहजादपुर जिला अंबेडकरनगर के एक व्यक्ति तो शुगर व ब्लडप्रेशर से निजात पा रहे हैं। दवा से जब उन्हें लाभ नहीं मिला तो स्वजन उन्हें आश्रम छोड़ गए हैं। इस समय वह काफी हद तक स्वस्थ हो चुके हैं।

-----------

नियमित कराए जाते हैं यह आसन-

कपालभाति, प्राणायाम से सभी विषैले पदार्थ शरीर से बाहर निकलते हैं इसे तीन से पांच मिनट तक कराया जाता है। अनुलोम- विलोम से नाड़ियों में उर्जा का संचार होता है। इससे आक्सीजन लेबल भी मेंटेन रहता है। आवृत्ति शीतली प्राणायाम बुखार से निजात के लिए कराया जाता है। भस्त्रिका प्राणायाम से सांस लंबी होती है और सांस संबंधित समस्या से मुक्ति मिलती है। आवृत्ति भ्रामरी शरीर में शांति के लिए कराते हैं।

शहीद गली, हनुमानगढ़ी, अयोध्या की तक्षिला तिवारी ने बताया कि कोविड संक्रमण से हालत बिगड़ती जा रही थी, लेकिन आश्रम के योग व औषधियों से ठीक हो गई। आंबेडकरनगर के शैलेंद्र कुमार दुबे कहते हैं कि विश्वास ही नहीं था कि शुगर व बीपी से छुटकारा मिल सकेगा। पीजीआई के इलाज से भी लाभ नहीं मिला तो योग गुरू महेश जी के सानिध्य में पहुंचकर इलाज प्रारंभ किया। एक महीना हुआ पहले से काफी स्वस्थ हूं।

--

सिखाते हैं आनलाइन आसन-

योगाचार्य महेश योगी कहते हैं कि सुबह चार से छह बजे तक वे आनलाइन योगासन लोगों को इंटरनेट मीडिया के जरिये सिखा रहे हैं। प्रतिदिन शाम 5.30 बजे से छह बजे तक वर्चुअल ही लोगों की जिज्ञासाओं को भी शांत किया जाता है। बताया कि इम्युनिटी बढ़ाने के लिए प्राणायाम, भस्त्रिका, कपालभांति, अनुलोम-विलोम, भ्रामरी, भुजंग आसन, गोमुख आसन, सर्वांगासन, हलासन, भारद्वाज आसन, पादासन, त्रिकोणासन सहायक हैं, इनका नियमित अभ्यास करना चाहिए।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.