एक नवंबर से शुरू होगी धान खरीद, आधार से लिंक मोबाइल नंबर से होगा किसानों का पंजीकरण

धान खरीद की तैयारियों में इस बार बड़ा बदलाव किया गया है। इस बदलाव के तहत किसानों के आधार कार्ड में दर्ज मोबाइल नंबर से ही धान बिक्री के लिए खाद्य विभाग की वेबसाइट पर पंजीकरण कराया जा सकेगा।

Rahul SrivastavaTue, 14 Sep 2021 01:45 PM (IST)
आधार से लिंक मोबाइल नंबर से ही हो सकेगा किसानों का पंजीकरण। प्रतीकात्मक तस्वीर

गोरखपुर, जागरण संवाददाता : महराजगंज जिले में करीब दो माह बाद नवंबर से न्यूनतम समर्थन मूल्य पर प्रदेश में होने वाली धान की खरीद की तैयारियां अभी से शुरू कर दी गईं हैं। इस बार इसमें बड़ा बदलाव किया गया है। इस बदलाव के तहत किसानों के आधार कार्ड में दर्ज मोबाइल नंबर से ही धान बिक्री के लिए खाद्य विभाग की वेबसाइट पर पंजीकरण कराया जा सकेगा। शासन ने नवंबर से होने वाली धान खरीद के लिए अभी से तैयारी के निर्देश दिए हैं। इसके लिए पंजीयन भी शुरू हो गया है, लेकिन इस बार पंजीयन में बदलाव भी किया गया है।

मोबाइल नंबर से भी वेबसाइट पर कराया जा सकेगा पंजीकरण

पंजीयन में आधार कार्ड में दर्ज मोबाइल नंबर से ही धान बिक्री के लिए खाद्य विभाग की वेबसाइट पर पंजीकरण कराया जा सकेगा। इसके लिए खाद्य विभाग ने साफ्वेयर में बदलाव भी कर दिया है। हालांकि सरकार के इस निर्णय से किसानों को पंजीकरण में बड़ी समस्या होना भी तय मानी जा रही है। अधिकतर किसान के मोबाइल नंबर आधार से लिंक न होने के कारण पंजीकरण नहीं हो सकेगा। इतना ही नहीं जिन किसानों ने अपने मोबाइल नंबर बदल लिए हैं। उन्हें अब आधार कार्ड संशोधन केंद्रों के चक्कर लगाने पड़ेंगे। मौजूदा में बैंकों और डाकघरों में ही आधार कार्ड संशोधन की प्रक्रिया चल रही है। जहां पर भारी भीड़ के कारण लोग वहां जाने से गुरेज करते है। वहीं बीते वर्ष धान खरीद के लिए किसानों द्वारा किसी भी मोबाइल नंबर को अंकित पंजीयन कराया गया था, लेकिन इस बार आधार कार्ड से लिंक मोबाइल नंबर पर ही ओटीपी जाने से अधिकतर किसान परेशान नजर आ रहे हैं।

इस बार किया गया है साफ्टवेयर में बदलाव

जिला खाद्य विपणन अधिकारी अखिलेश कुमार सिंह ने बताया कि पिछली बार किसी भी मोबाइल नंबर को डालकर रजिस्ट्रेशन की प्रक्रिया पूर्ण कर ली जाती थी, लेकिन इस बार सरकार की तरफ से आधार कार्ड से लिक मोबाइल नंबर पर ही ओटीपी भेजकर रजिस्ट्रेशन की प्रकिया पूर्ण करने के लिए साफ्टवेयर में बदलाव किया गया है। अब किसानों को आधार कार्ड से लिंक मोबाइल नंबर पर ही ओटीपी जाएगी। जिसे भरकर पंजीकरण की प्रक्रिया को पूर्ण किया जाएगा। जिन किसानों के मोबाइल नंबर आधार कार्ड से लिंक नहीं है या खो गए हैं, उन्हें आधार संशोधन केंद्रों पर जाकर अपना नया मोबाइल नंबर दर्ज कराना होगा।

जिले में 1.67 लाख हेक्टेयर है धान का रकबा

कृषि विभाग के आंकड़ों की मानें तो महराजगंज जिले के चार तहसीलों में करीब 4.68 लाख किसानों ने इस बार 1.67 लाख हेक्टेयर भूमि पर धान की फसल लगाई है। पिछले वर्ष महराजगंज में लक्ष्य 2.10 लाख मीट्रिक टन लक्ष्य के सापेक्ष विभाग ने 2.47 लाख मीट्रिक टन धान की खरीद की थी। इस बार अभी तक विभाग ने लक्ष्य का निर्धारण नहीं किया है।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.