अब राजस्व एवं पुलिसकर्मियों को लगेगी कोरोना वैक्सीन, प्रशासन ने शुरू की तैयारी Gorakhpur News

प्रशासन ने राजस्व एवं पुलिसकर्मियों को कोरोना वैक्सीन लगाने की तैयारी शुरू कर दी है। - प्रतीकात्‍मक तस्‍वीर

गोरखपुर में जिलाधिकारी कार्यालय पुलिस कार्यालय एवं तहसील कार्यालयों में कार्यरत करीब 1500 अधिकारी एवं कर्मचारियों को वैक्सीन लगाने की तैयारी की जा रही है। वैक्सीन लगाने के लिए मंडलायुक्त कार्यालय एवं चकबंदी कार्यालय के कर्मचारी एवं सफाईकर्मियों को भी शामिल किया जा रहा है।

Publish Date:Sun, 17 Jan 2021 02:30 PM (IST) Author: Pradeep Srivastava

गोरखपुर, जेएनएन। कोरोना से बचाव के लिए दूसरे चरण में राजस्व कर्मियों, पुलिसकर्मियों को भी वैक्सीन लगायी जाएगी। इसकी तैयारी शुरू कर दी गई है। 18 जनवरी तक विशेष प्रारूप पर कर्मचारियों का नाम, पदनाम, पता, मोबाइल नंबर, जन्मतिथि, पहचान पत्र आदि जानकारियां अपलोड करनी होंगी।

जिलाधिकारी कार्यालय, पुलिस कार्यालय एवं तहसील कार्यालयों में कार्यरत करीब 1500 अधिकारी एवं कर्मचारियों को वैक्सीन लगाने की तैयारी की जा रही है। वैक्सीन लगाने के लिए मंडलायुक्त कार्यालय एवं चकबंदी कार्यालय के कर्मचारी एवं सफाईकर्मियों को भी शामिल किया जा रहा है। तहसील कार्यालयों में विवरण जुटाने का काम शुरू हो गया है। विवरण जुटाने के बाद डाटा को अपलोड किया जाएगा। डाटा अपलोड करने के लिए प्रशिक्षण भी दिया जा चुका है। डाटा अपलोड करेन के बाद इसे मुख्य चिकित्साधिकारी कार्यालय को भेजा जाएगा। मुख्य चिकित्साधिकारी कार्यालय से इस विवरण को को-विन पोर्टल पर अपलोड किया जाएगा। वेबसाइट के माध्यम से ही अधिकारियों एवं कर्मचारियों को बताया जाएगा कि टीका लगवाने के लिए उन्हें कब उपलब्ध होना है। किस बूथ पर टीका लगेगा, इस बात की जानकारी भी दी जाएगी।

25 जनवरी के बाद लगेगी वैक्सीन

अपर जिला मजिस्ट्रेट वित्त एवं राजस्व राजेश कुमार ङ्क्षसह ने बताया कि राजस्व, पुलिस, सफाईकर्मियों को दूसरे चरण में टीका लगवाया जाएगा। टीकाकरण 25 जनवरी के बाद होगा। प्रथम चरण में 100 कर्मियों को वैक्सीन लगायी जाएगी।

पहले दिन 56 साल और इससे ज्यादा आयु वालों को लगा टीका

पहले चरण में 56 साल और इससे ज्यादा उम्र वाले स्वास्थ्यकर्मियों को कोरोना का टीका लगाया गया है। चेहरे पर बिना शिकन, संतोष का भाव लिए सभी स्वास्थ्यकर्मियों ने टीका लगवाकर 56 इंच का सीना दिखाया। ठंड के कारण कपड़े निकालने और पहनने में भले ही देर हुई पर टीकाकरण के लिए अपना बायां हाथ बढ़ाने में कोई पीछे नहीं रहा।

स्वास्थ्य विभाग की पहली सूची में 56 वर्ष की आयु से लगायत 60 वर्ष की आयु वाले स्वास्थ्यकर्मियों को शामिल किया गया था। जिला महिला अस्पताल की प्रमुख अधीक्षक डा. माला कुमारी सिन्हा की उम्र 60 वर्ष है। सभी को सकारात्मक संदेश देने के लिए डा. माला ने खुद ही सबसे पहले टीका लगवाने का संकल्प लिया था। प्रमुख अधीक्षक के बाद महिला अस्पताल के वरिष्ठ शिशु एवं बाल रोग विशेषज्ञ डा. अजय शंकर देवकुलियार ने टीका लगवाया। डा. अजय की उम्र 59 वर्ष है। डा. अजय ने अपना कोट व स्वेटर निकाला, टीका लगवाया और फिर खड़े होकर सभी कपड़े दोबारा पहनें। इसके बाद आब्जर्वेशन रूम में पहुंचकर आधा घंटा इंतजार किया।

लाइन लगाकर लगवाया टीका

महिला अस्पताल में टीकाकरण के लिए आने वाले स्वास्थ्यकर्मियों के लिए गैलरी में प्रतीक्षालय बनाया गया था। यहां कोतवाली थाने की कांस्टेबल मोहिनी यादव व प्रियंका भारती की ड्यूटी लगाई गई थी। दोनों कांस्टेबल टीकाकरण के लिए आने वाले स्वास्थ्यकर्मियों का नाम सूची में मिलाने के बाद हाथ सैनिटाइज करा रही थीं। यदि कोई बिना मास्क आया तो उन्हें मास्क दे रही थीं। सबको कुर्सी पर बैठ कर अपनी बारी का इंतजार करने की सलाह दी जाती रही लेकिन टीका लगवाने की इतनी जल्दबाजी दिखी कि स्वास्थ्यकर्मियों ने लाइन लगा दिया।

बेड पर कोई नहीं लेटा

कोरोना का टीका लगाने के बाद आब्जर्वेशन रूम में कुर्सी व बेड की व्यवस्था की गई थी। यदि किसी को टीका लगाने के बाद कोई समस्या होती तो बेड पर लिटाकर उनका इलाज किया जाता। जिला महिला अस्पताल में टीका लगाने के बाद किसी को कोई दिक्कत नहीं हुई। स्वास्थ्यकर्मी टीका लगवाने के बाद कुर्सी पर बैठे और आधे घंटे बाद अपने काम पर वापस चले गए।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.