अब लोको पायलटों और गार्डों पर दबाव नहीं बनाएगा रेलवे, जानिए पूरा मामला

परीक्षण के लिए रेलवे के लोको पायलटों और गार्डों को लाइन बाक्स की जगह ट्राली बैग दिए जा रहे हैं। रेलवे बोर्ड के साथ बैठक के बाद आल इंडिया रेलवे मेंस फेडरेशन के महामंत्री शिव गोपाल मिश्र ने नरमू सहित संबद्ध सभी जोनल संगठनों को इससे अवगत करा दिया।

Rahul SrivastavaThu, 16 Sep 2021 04:43 PM (IST)
लोको पायलटों और गार्डों पर दबाव नहीं बनाएगा रेलवे। प्रतीकात्मक तस्वीर

गोरखपुर, जागरण संवाददाता : परीक्षण के लिए रेलवे के लोको पायलटों और गार्डों को लाइन बाक्स की जगह ट्राली बैग दिए जा रहे हैं। ट्राली बैग को लेकर रेलवे प्रशासन अब रनिंग स्टाफ पर कोई दबाव नहीं बनाएगा। रेलवे बोर्ड के साथ बैठक के बाद आल इंडिया रेलवे मेंस फेडरेशन (एआइआरएफ) के महामंत्री शिव गोपाल मिश्र ने पूर्वोत्तर रेलवे के एनई रेलवे मजदूर यूनियन (नरमू) सहित संबद्ध सभी जोनल संगठनों को इस जानकारी से अवगत करा दिया।

लाइन बाक्स की जगह ट्राली बैग देने पर अड़ा रेलवे प्रशासन

हालांकि, रेलवे बोर्ड और फेडरेशनों ने बीच का रास्ता ही निकाला है। रेलवे प्रशासन लाइन बाक्स की जगह ट्राली बैग देने पर अड़ा है। जबकि, रनिंग स्टाफ (लोको पायलट और गार्ड) ट्राली बैग का विरोध कर रहा है। गार्डों ने तो बैग लेने से साफ मना कर दिया है, जबकि लखनऊ मंडल के लोको पायलट बैग लेकर चलने लगे हैं। इसके बाद भी उनका आंदोलन जारी है। आल इंडिया लोको रनिंग स्टाफ एसोसिएशन के आह्वान पर पूर्वोत्तर रेलवे के लोको पायलटों ने गोरखपुर स्टेशन स्थित डीजल लाबी परिसर में प्रदर्शन किया। पदाधिकारियों ने रेलवे बोर्ड से ट्राली बैग का आदेश वापस लेने की मांग की। इस मौके पर विनय कुमार शर्मा, जेएन शाह, शिव पूजन वर्मा, प्रदीप कुमार, विशाल कुमार और कृष्ण कुमार आदि लोको पायलट मौजूद थे। यहां जान लें कि लखनऊ मंडल प्रशासन ने गोरखपुर सहित सभी स्टेशनों पर लाइन बाक्स की जगह ट्राली बैग अनिवार्य कर दिया है। इसको लेकर रनिंग स्टाफ के अलावा कर्मचारी संगठनों में आक्रोश है।

रनिंग स्टाफ से मिले मजदूर यूनियन के महामंत्री

एनई रेलवे मजदूर यूनियन (नरमू) के महामंत्री केएल गुप्त ने सुबह फेरी कार्यक्रम के तहत रेलवे स्टेशन के डीजल लाबी में कार्यरत रनिंग स्टाफ से मिले। इस दौरान उन्होंने ट्राली बैग के विरोध में रनिंग स्टाफ के चल रहे आंदोलन का समर्थन किया। साथ ही कहा कि एआइआरएफ के साथ आयोजित बैठक में लिए निर्णय के बाद आंदोलन की रूपरेखा तय की जाएगी। इस मौके पर ओंकार सिंह आदि यूनियन के पदाधिकारी मौजूद थे।

निजीकरण के विरोध में पीआरकेएस का प्रदर्शन

निजीकरण के विरोध में पूर्वोत्तर रेलवे कर्मचारी संघ (पीआरकेएस) का प्रदर्शन जारी रहा। यांत्रिक कारखाना के गेट पर आरपी भट्ट, विजय पाठक, दीपक चौधरी, कुलदीप मणि त्रिपाठी व ईश्वर चंद्र विद्यासागर आदि पदाधिकारियों के नेतृत्व में संघ ने यांत्रिक कारखाना गेट पर प्रदर्शन किया। पदाधिकारियों ने रेल मंत्रालय से रेलवे की संपत्तियों की बिक्री पर रोक लगाने की मांग की। महामंत्री विनोद कुमार राय ने बताया कि निजीकरण के विरोध में 18 सितंबर तक धरना-प्रदर्शन चलता रहेगा। इस मौके पर जय प्रकाश, सतीश श्रीवास्तव, लक्ष्मीनारायण और आरडी सिंह आदि मौजूद थे।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.