गोरखपुर में एक भी नहीं मिला कोरोना पॉजिटिव, पहली बार शून्य आई संक्रमितों की संख्या

गोरखपुर में कोरोना संक्रमण के मामले लगातार कम हो रहे हैं। - प्रतीकात्‍मक तस्‍वीर

गोरखपुर में 26 अप्रैल 2020 के बाद पहली बार बुधवार को एक भी व्यक्ति पाजिटिव नहीं मिला है जबकि कोरोना संक्रमण के 1373 नमूनों की जांच हुई। अब तक 21458 लोग संक्रमित हो चुके हैं। 365 की मौत हो चुकी है। 21079 स्वास्थ्य हो चुके हैं।

Pradeep SrivastavaThu, 25 Feb 2021 11:19 AM (IST)

गोरखपुर, जेएनएन। गोरखपुर के लिए राहत भरी खबर है। 26 अप्रैल 2020 के बाद पहली बार बुधवार को एक भी व्यक्ति पाजिटिव नहीं मिला है, जबकि कोरोना संक्रमण के 1373 नमूनों की जांच हुई। अब तक 21458 लोग संक्रमित हो चुके हैं। 365 की मौत हो चुकी है। 21079 स्वास्थ्य हो चुके हैं। जिले में केवल 14 सक्रिय मरीज बचे हैं। सीएमओ डा. सुधाकर पांडेय ने इसकी पुष्टि की है।

26 अप्रैल को पहला कोरोना मरीज मिला था

गोरखपुर जिले में 26 अप्रैल को पहला कोरोना मरीज मिला था। उरुवा के हाटा बुजुर्ग निवासी एक 49 वर्षीय व्यक्ति हार्ट के मरीज थे, वह दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल से लाकडाउन के दौरान एंबुलेंस से अपने गांव लौटे थे। गांव के बाहर एक झोपड़ी में ही रुक गए थे। वहीं से वह उसी दिन एंबुलेंस से बाबा राघव दास मेडिकल कालेज आ गए। वहां जांच में कोरोना संक्रमित निकले। जिले के वह पहले कोरोना के मरीज थे, उन्हें ठीक होने में एक माह का समय लगा। इसके बाद क्रमश: दिल्ली व मुंबई से लोग आते गए और संक्रमितों की संख्या बढऩे लगी।

अगस्त-सितंबर में चरम पर पहुंच गया था संक्रमण

अगस्त-सितंबर 2020 में स्थिति यह हो गई थी कि कोरोना अस्पतालों में बेड नहीं मिल रहे थे। आनन-फानन में अनेक कोविड अस्पताल खोले गए। लेवल टू अस्पतालों की संख्या बढ़ाई गई। दशहत का माहौल पैदा हो गया था। लेकिन बुधवार को एक भी संक्रमित न मिलने से स्वास्थ्य विभाग ने राहत की सांस ली। सीएमओ डा. सुधाकर पांडेय ने कहा कि अब कोरोना लगभग खत्म हो गया है। बचा-खुचा संक्रमण आम नागिरकों की जागरूकता व टीकाकरण खत्म कर देगा। बचाव के नियमों का सभी लोग पालन करते रहें। इससे केवल कोरोना ही नहीं, इंसेफ्लाइटिस, डेंगू आदि कई तरह की बीमारियों की रोकथाम होगी।

पहली व दूसरी डोज का टीकाकरण शुरू

उधर, गुरुवार को पहली व दूसरी डोज का टीकाकरण शुरू हो गया है। 78 बूथों पर 7400 लोगों को कोरोना का टीका लगाने का लक्ष्य रखा गया है। अब तक जारी सूची से बचे हुए स्वास्थ्य कर्मियों व फ्रंटलाइन वर्करों के लिए मापअप राउंड व 28 व 29 जनवरी को पहली डोज ले चुके लोगों के लिए दूसरी डोज का टीकाकरण आयोजित किया गया है। सभी बूथों पर उत्सव व उल्लास का माहौल है। लोग बारी-बारी से टीकाकरण करा रहे हैं।

टीकाकरण सुबह 10 बजे शुरू हो गया है। हर बूथ के गेट पर सुरक्षा कर्मी तैनात हैं। टीका लगवाने पहुंच रहे लोगों का नाम वे सूची से मिला रहे हैँ। परिचय पत्र देखने के बाद अंदर प्रवेश दे रहे हैं। वहां सत्यापन हो रहा है। इसके बाद लोगों को वेटिंग रूम में बैठाया जा रहा है। बारी-बारी से वे टीकाकरण कक्ष में जा रहे हैं और टीका लगवा रहे हैं। टीका लगवाने के बाद उन्हें आब्जर्वेशन कक्ष में भेजा रहा है। वहां 30 मिनट विशेषज्ञों की निगरानी में रहने के बाद ही उन्हें छोड़ा जा रहा है।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.