संविदाकर्मियों ने आंदोलन और तेज करने की दी चेतावनी

उत्तर प्रदेश राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन संविदा कर्मचारी संघ के बैनर तले स्वास्थ्यकर्मियों ने सात सूत्रीय मांगों को लेकर शुक्रवार को दूसरे दिन सीएमओ कार्यालय पर धरना दिया। कहा कि जब तक सात सूत्रीय मांगों को पूरा नहीं किया जाएगा।

JagranFri, 03 Dec 2021 09:07 PM (IST)
संविदाकर्मियों ने आंदोलन और तेज करने की दी चेतावनी

सिद्धार्थनगर : उत्तर प्रदेश राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन संविदा कर्मचारी संघ के बैनर तले स्वास्थ्यकर्मियों ने सात सूत्रीय मांगों को लेकर शुक्रवार को दूसरे दिन सीएमओ कार्यालय पर धरना दिया। कहा कि जब तक सात सूत्रीय मांगों को पूरा नहीं किया जाएगा। आंदोलन जारी रहेगा। पांच सदस्यीय प्रतिनिधि मंडल ने सीएमओ डा. संदीप चौधरी से मुलाकात की। सीएमओ ने बताया कि गैर जनपद स्थानांतरण एवं समान मानदेय की मांग उच्चाधिकारियों ने मान लिया है। आंदोलनकारियों ने कहा कि लिखित न मिलने तक आंदोलन जारी रहेगा।

संघ के जिलाध्यक्ष मनीष पांडेय ने कहा कि संगठन पूर्व में आंदोलन किया था। अधिकारियों के आश्वासन पर आंदोलन खत्म हुआ था। पर आज तक उसे पूरा नहीं किया गया। कहा कि संविदा के सापेक्ष जो विभाग में पद सृजित नहीं हुआ है, उनका सृजन किया जाए। राजेश मिश्रा ने कहा कि वेतन पालिसी न होने के कारण समान पद एवं योग्यता होने के बावजूद एक समान मानदेय नहीं मिल पा रहा है। मानदेय विसंगति को दूर किया जाए। प्रमोद कुमार संत ने कहा कि संविदा कर्मियों को सातवां वेतन आयोग के तहत महंगाई भत्ता व अन्य लाभ दिलाया जाए।नौकरी की सुरक्षा मिले। मानबहादुर ने कहा कि आयुष्मान भारत योजना के तहत सभी कर्मियों का कार्ड बनाया जाए। आशा कार्यकर्ताओं को एक नियत मानदेय का निर्धारण किया जाए। डा. बृजेश चंद्रा, संजीत गुप्ता, विरेंद्र कुमार मौर्या, सतीश श्रीवास्तव, पंकज कुमार, राजकुमार,सतीश चंद्र वर्मा, हरिश्चंद्र यादव, अनस अंसारी, संजू, प्रवीन त्रिपाठी, इसरावती, सरोज यादव, आवेश श्रीवास्तव, बालेश्वर कुमार, पवन राज, नूर आलम आदि उपस्थित रहे। कम उम्र के चिकित्सकों की कोविड वार्ड में लगेगी ड्यूटी सिद्धार्थनगर: कोरोना का नया वैरिएंट ओमिक्रान सामने आ चुका है। कई देश इसकी गिरफ्त में आ चुके हैं। लोगों को संक्रमण से बचाने के लिए स्वास्थ्य विभाग सक्रिय हो गया है। एमसीएच विग में पूर्व में संचालित कोविड विग को दो माह पूर्व बंद कर दिया गया था। मरीजों के बढ़ती संख्या को देखते हुए इसे फिर से सक्रिय किया जा रहा है। सतर्कता के लिहाज से चिकित्सकों एवं पैरामेडिकल स्टाफ की ड्यूटी लगाई जा रही है। विभाग के अधिकारियों ने पत्र जारी करके कम उम्र एवं पूरी तरह से स्वस्थ स्टाफ की ही ड्यूटी लगाने का निर्देश दिया है।

कई देशों में कोरोना के नए वैरिएंट ओमिक्रान के मिलने के बाद स्वास्थ्य विभाग संक्रमित मरीजों को अस्पताल में भर्ती करने की तैयारी पूरी कर ली है। करीब दो माह से बंद एल टू अस्पताल के स्थान पर आठ बेड मरीजों के लिए आरक्षित कर दिया गया है। आठ-आठ घंटे पर ड्यूटी पर दो-दो चिकित्सकों को लगाया गया है। इसके अलावा स्टाफ नर्स को भी रिजर्व रखा गया है। ड्यूटी में ऐसे चिकित्सक एवं स्टाफ को रखा जा रहा है, जो कम उम्र के हों और पूरी तरह से स्वस्थ हों।

......

इन संदिग्धों की होगी कोविड जांच

अस्पताल में सर्दी, जुकाम, बुखार से पीड़ित होकर आने वाले मरीजों की एंटीजन जांच होगी। रिपोर्ट पाजिटिव आने पर उन्हें तत्काल भर्ती कर लिया जाएगा। इनकी आरटीपीसीआर जांच भी कराई जाएगी। संयुक्त जिला अस्पताल की सीएमएस डा. नीना वर्मा ने बताया कि कम उम्र एवं पूरी तरह से स्वस्थ चिकित्सक एवं पैरामेडिकल स्टाफ की ड्यूटी कोरोना संक्रमित के इलाज में लगाई जाएगी। सभी स्टाफ बाकायदा सूची तैयार की जा रही है।

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.