India Nepal Border Opened: नेपाल-भारत सीमा खोलने की तैयारी, नेपाल सरकार ने ल‍िया न‍िर्णय

India Nepal Border Opened नेपाल सरकार ने 22 मार्च 2020 से बंद भारत सीमा को खोलने का न‍िर्णय ल‍िया है। नेपाल की कैबिनेट ने यह न‍िर्णय ल‍िया है। अभी केवल मालवाहक वाहनों को ही प्रवेश दिया जा रहा है। पर्यटकों पर भी पाबंदी है।

Pradeep SrivastavaWed, 22 Sep 2021 06:05 AM (IST)
करीब डेढ साल से बंद भारत-नेपाल सीमा शीघ्र खुलने जा रही है। - प्रतीकात्‍मक तस्‍वीर

गोरखपुर, जेएनएन। India Nepal Border Opened: नेपाल सरकार ने लगभग डेढ़ साल से बंद चल रही भारत सीमा को खोलने का निर्णय लिया है। मंगलवार को नेपाल कैबिनेट की बैठक में इस निर्णय पर मुहर भी लग गई हैैं। हालांकि, नेपाल सरकार ने सीमा खोलने की तिथि तय नहीं की है, लेकिन माना जा रहा है कि इसी माह सामान्य आवागमन शुरू हो जाएगा।

सीमा कब खुलेगी इसका न‍िर्णय राज्य सरकारें लेंगीं

सीमा कब से खोली जाएगी, इसकी फैसला वहां की राज्य सरकारों को करना है। कैबिनेट के फैसले से दोनों देशों के सीमावर्ती इलाकों के लोग उत्साहित हैैं।और बेसब्री से सीमा खुलने का इंतजार कर रहे हैैं। लोग उम्‍मीद कर रहे हैं कि सीमा इसी माह खोल दी जाएगी। भारत औन नेपाल के सीमावर्ती गांवों के लोगों को रोजमर्रा की जरूरतें पूरी करने के लिए दिन में कई बार एक देश से दूसरे देश में आना-जाना पडता है। सीमा खुल जाने से उनके लिए आसानी हो हो जाएगी।

कोरोना संक्रमण के कारण 22 मार्च 2020 से लगी है आवागमन पर पाबंदी

कोरोना संक्रमण को देखते हुए नेपाल सरकार ने 22 मार्च, 2020 से भारत सीमा से आवागमन पर पाबंदी लगा रखी है। केवल मालवाहक वाहनों को ही प्रवेश दिया जा रहा है। पर्यटकों पर भी पाबंदी है। जिन्हें स्वास्थ्य संबंधी सेवाओं की आवश्यकता है, वह अनुमति लेकर आ-जा सकते हैैं। सीमा खुलने से आवागमन सामान्य हो जाएगा, हालांकि वहां के अधिकारियों को आदेश का इंतजार है।

बार्डर खुलने की सूचना पर उत्साहित हैं सीमावर्ती क्षेत्र के लोग, आदेश का इंतजार

बेलहिया भंसार कार्यालय के अधिकारियों का कहना है कि अभी मालवाहक वाहनों के प्रवेश की ही अनुमति है। सीमा खोलने का आदेश आने पर उसके अनुसार कार्यवाही की जाएगी। रूपनदेही के सीडीओ ऋषिराम तिवारी ने बताया कि कैबिनेट की बैठक में सीमा खुलने का निर्णय ले लिया गया है लेकिन राज्य या जिला प्रशासन के पास अभी तक कोई आदेश नहीं आया हैं।

पर्यटकों से वसूली के आरोप में नेपाली पुलिसकर्मी व दलाल हिरासत में

भारतीय पर्यटकों पर लगी पाबंदी के बावजूद एक टूर एंड ट्रैवेल एजेंसी व बार्डर की बेलहिया (नेपाल) पुलिस द्वारा रकम वसूली कर भारतीय पर्यटकों को सरहद पार कराने का मामला प्रकाश में आया है। इस मामले में बेलहिया पुलिस कर्मी व ट्रैवल एजेंट को हिरासत में लेकर भैरहवा स्थित प्रहरी प्रमुख कार्यालय ले जाया गया है। मामले ने तूल तब पकड़ा जब रविवार को काठमांडू पहुंचे भारत के गुजरात से आए आठ पर्यटकों को काफी दुश्वारियों का सामना करना पड़ा। सोनौली-बेलहिया सीमा से पर्यटकों को नेपाल पुलिस कर्मी ने रकम वसूल कर  सीमा पार करने दिया। फिर वह पशुपतिनाथ दर्शन के लिए काठमांडू पहुंच गए। वहां की पुलिस ने जब पर्यटकों से पूछताछ की तो एक पुलिस कर्मी  भारतीयों से रकम लेकर नेपाल प्रवेश कराने का दोषी पाया गया।

प्रति पर्यटक हुई थी 500 रुपये की वसूली

काठमांडू पर्यटन विभाग की पूर्व सभापति चित्रलेखा यादव की शिकायत पर हुई जांच में जो बात सामने आई उसके मुताबिक भारतीय पर्यटकों से सोनौली से बेलहिया प्रवेश के लिए 500 रुपये भारतीय प्रति पर्यटक वसूली की गई थी। इसके अलावा टूर एंड ट्रैवेल कंपनी के एजेंट ने रास्ते की यात्रा, होटल व खाना खर्च के नाम भी अधिक रकम वसूले थे। भारतीय पर्यटकों में से एक नेपाल के पर्यटन विभाग से जुड़े उच्चाधिकारियों का परिचित था। इसलिए मामला उजागर हो गया। इस संबंध में नेपाल के रूपनदेही ज‍िले के एसपी मनोज केसी ने कहा क‍ि सोनौली-बेलहिया सीमा पर भारतीय पर्यटकों से रकम वसूली कर सरहद पार कराने के आरोप में एक पुलिसकर्मी व बेलहिया के गुजराती टूर एंड ट्रैवेल से जुड़े एक कर्मचारी को हिरासत में लिया गया है। पूछताछ जारी है।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.