गाली वाले वायरल ऑडियो को मुद्दा नहीं बनने देगा नगर निगम प्रशासन

गाली देने का वायरल ऑडियो को नगर निगम प्रशासन मुद्दा बनने नहीं देगा। नगर निगम प्रशासन ने दोनों ऑडियो को पुराना बता कर इसे दबाव बनाने की रणनीति के तहत वायरल कराना बताया है। नगर निगम की तरफ से किसी तरह की जांच की भी कोई तैयारी नहीं है।

Pradeep SrivastavaPublish:Sat, 16 Oct 2021 11:46 AM (IST) Updated:Sat, 16 Oct 2021 11:46 AM (IST)
गाली वाले वायरल ऑडियो को मुद्दा नहीं बनने देगा नगर निगम प्रशासन
गाली वाले वायरल ऑडियो को मुद्दा नहीं बनने देगा नगर निगम प्रशासन

गोरखपुर, जागरण संवाददाता। सहायक अभियंता अशोक सिंह और अवर अभियंता राजकुमार के वायरल ऑडियो को नगर निगम प्रशासन मुद्दा बनने नहीं देना चाहता। नगर निगम प्रशासन ने दोनों ऑडियो को पुराना बता कर इसे दबाव बनाने की रणनीति के तहत वायरल कराना बताया है। इस मामले में नगर निगम की तरफ से किसी तरह की जांच की भी कोई तैयारी नहीं है।

यह है मामला

बता दें क‍ि बीते बुधवार को नगर निगम में उपनगर आयुक्त और बेतियाहाता के पार्षद विश्वजीत त्रिपाठी सोनू के बीच डस्टबिन को लेकर नोकझोंक शुरू हुई। बाद में मामला इतना बढ़ गया कि विश्वजीत त्रिपाठी ने उपनगर आयुक्त को मारने के लिए जूता हाथ में ले लिया। उस समय वहां बैठे बशारतपुर के पार्षद राजेश तिवारी और राप्तीनगर के पार्षद बृजेश सिंह छोटू ने बीच-बचाव कर किसी तरह मामला शांत कराया। उपनगर आयुक्त ने पार्षद के खिलाफ कोतवाली थाने में एफआइआर दर्ज कराई है। इसके अगले दिन बृहस्पतिवार को एक ऑडियो वायरल हुआ। जिसमें एक व्यक्ति नगर निगम के संविदा चालक को अपशब्द कह रहा है और जान से मारने की धमकी दे रहा है।

जांच नहीं करवाएगा नगर न‍िगम

वायरल ऑडियो में आवाज नगर निगम के सहायक अभियंता अशोक सिंह की बताई जा रही है। अशोक सिंह जिस संविदा चालक को अपशब्द कह रहे हैं उसने गुरुवार को ऑडियो के साथ पुलिस में तहरीर दी है। हालांकि अब तक एफआईआर नहीं दर्ज हो सकी है। नगर निगम के अफसरों का कहना है कि उपनगर आयुक्त से बदसलूकी करने के प्रकरण में दर्ज मुकदमा के बाद पार्षद दबाव बनाने के लिए ऐसा कर रहे हैं। वायरल ऑडियो तीन साल पुराना है और इस मामले में उसी समय दोनों पक्षों के बीच समझौता भी हो गया था। इसी तरह अवर अभियंता राजकुमार और पार्षद के बीच बातचीत के दौरान अवर अभियंता की ओर से बोले गए अपशब्द को भी नगर निगम प्रशासन गलत नहीं बता रहा है। इस मामले में भी नगर निगम की तरफ से किसी तरह की जांच की तैयारी नहीं है।

सपा आज अफसरों से करेगी मुलाकात

उप नगर आयुक्त से बदसलूकी के मामले में समाजवादी पार्टी ने भी उपनगर आयुक्त के खिलाफ एफआइआर दर्ज कराने के लिए कोतवाली थाने में तहरीर दी है। गुरुवार को दी गई तहरीर पर अब तक एफआइआर दर्ज नहीं हो सकी है। सपा के पार्षदों का कहना है कि उपनगर आयुक्त के खिलाफ जब तक एफआइआर नहीं तक हो जाएगी वह आंदोलन जारी रखेंगे।