गोरखपुर के मोहम्मद आसिफ ने श्रीराम मंदिर के लिए दिए पांच लाख, सऊदी में करते हैं नौकरी

आरएसएस कार्यालय में प्रांत प्रचारक के पास पांच लाख रुपये चेक के साथ मोहम्‍मद आसिफ।

सऊदी अरब में नौकरी करने वाले आसिफ आजकल छुट्टी पर घर आए हुए हैं। वह अध्योध्या में बन रहे भव्य राम मंदिर में सहयोग करना चाहते हैं। उन्होंने प्रांत प्रचारक सुभाष को पांच लाख रुपये का चेक प्रदान किया।

Publish Date:Thu, 28 Jan 2021 05:21 PM (IST) Author: Satish chand shukla

गोरखपुर, जेएनएन। श्रीराम जन्म भूमि पर बनने वाले भव्य राम मंदिर के लिए पूरे देश में समर्पण अभियान चलाया रहा है। हजारों लोग इस अभियान का हिस्सा बन चुके हैं। इसी में एक और नाम जुड़ा है गोरखपुर के शाहपुर निवासी मोहम्मद आसिफ का। वर्षों से सऊदी अरब में नौकरी करने वाले मोहम्मद आसिफ गुरुवार की सुबह राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ कार्यालय माधवधाम पहुंचे और श्रीराम में आस्था जताते हुए पांच लाख रुपये का चेक प्रांत प्रचारक सुभाष को दिया। आसिफ के जज्बे को देख वहां मौजूद लोग हैरान रह गए।

आसिफ सीधे पहुंचे आरएसएस कार्यालय

करीब 15 वर्षों से सऊदी अरब में नौकरी करने वाले आसिफ आजकल छुट्टी पर घर आए हुए हैं। वह अध्योध्या में बन रहे भव्य राम मंदिर में सहयोग करना चाहते हैं। गुरुवार की सुबह छह बजे वहां माधव धाम पहुंचे। वहां मौजूद कार्यकर्ताओं ने उनसे आने की वजह पूछी तो उन्होंने बताया कि कारोड़ों लोगों की आस्था के प्रतीक श्रीराम का भव्य मंदिर बन रहा है। वे भी राममंदिर के लिए दिल से चंदा देना चाहते हैं। उन्होंने प्रांत प्रचारक सुभाष को पांच लाख रुपये का चेक प्रदान किया। आसिफ की बात सुनकर वहां मौजूद सभी लोग हैरान रह गए।

दान दाताओं में आसिफ गोरखपुर के पहले मुस्लिम शख्स

आसिफ गोरखपुर के पहले मुस्लिम शख्स हैं जिन्होंने श्रीराम मंदिर के लिए इतनी बड़ी राशि दी है। बकौल आसिफ, पांच लाख रुपये का चेक देकर वह बहुत अच्छा महसूस कर रहे हैं। पिछले वर्ष ही यह सोच लिया था कि जब मंदिर बनेगा तो उसमें जरूर सहयोग करूंगा। उन्होंने प्रांत प्रचारक की प्रशंसा करते हुए कहा कि श्रीराम किसी एक धर्म के मानने वालों के लिए नहीं बल्कि सबके लिए हैं।

आरएसएस के प्राण तिवारी ने बताया कि एक मुस्लिम व्यक्ति द्वारा राम मंदिर के लिए इतना समर्पण देखकर बहुत खुशी हुई। मंदिर के लिए सहयोग करता है तो हम उसका स्वागत करेंगे चाहे वह किसी भी धर्म व जाति का हो। उन्‍होंने कहा कि श्रीराम सभी के हैं। इसलिए सभी लोगों को चाहिए कि वह जाति धर्म से ऊपर उठकर मंदिर निर्माण में सहयोग करें। 

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.