कारगिल में बहा था महराजगंज का लहू, शहीद हुए थे दो लाल

28 मई 1999 को शहीद होने के बाद जब तिरंगे में लिपटा पूरन थापा का शव नौतनवा कस्बे में पहुंचा था तो आंखें नम लेकिन सीना चौड़ा था। मां सुमित्रा देवी ने कहा था कि मेरा लाल देश की रक्षा करते हुए शहीद हुआ।

Satish Chand ShuklaMon, 26 Jul 2021 04:09 PM (IST)
पूरन थापा की प्रतिमा के सामने दीप प्रज्ज्वलित कर नमन करते एसएसबी के कार्यवाहक कमांडेट बरजीत सिंह व अन्‍य। जागरण

गोरखपुर, जागरण संवाददाता। कारगिल की ऊंची चोटियों पर महराजगंज का लहू भी बहा था। दुश्मनों से लड़ते हुए नौतनवा के दो लाल भी शहीद हुए थे। भारतीय सेना के रणबाकुंरों पूरन बहादुर थापा और प्रदीप कुमार थापा की शहादत को तराई के लोग बड़ी शिद्दत से याद करते हैं। अलग-अलग समय पर शहीद हुए दोनों जवान तिरंगे में लिपटे हुए पहुंचे थे और महराजगंज के हर दिल में देशभक्ति की लहरें हिलोर मार रही थीं। जज्बात आसमान छू रहे थे। वह जज्बात आज भी कायम है। पूरन के भाई और बेटे भी सेना में भर्ती हुए तो नौतनवां के सैनिक गांव के नाम से मशहूर उदितपुर के युवाओं ने भी सेना में शामिल होकर देश सेवा की शपथ ली। टाइगर हिल्स पर तिरंगा फहराने वाले विनोद सिंह के साथ रिजर्व में शामिल छह जवानों ने भी कारगिल युद्ध में अपनी भूमिका को सार्थक किया। नई भर्ती के इन रिजर्व जवानों सेना मेडल से नवाजा गया था।

28 मई 1999 को शहीद होने के बाद जब तिरंगे में लिपटा पूरन थापा का शव नौतनवा कस्बे में पहुंचा था तो आंखें नम, लेकिन सीना चौड़ा था। मां सुमित्रा देवी ने कहा था कि बेटा असमय चला गया, दुख है लेकिन इस बात का गर्व है कि मेरा लाल देश की रक्षा करते हुए शहीद हुआ। पूरन थापा के जाने का गम लोग भुला भी नहीं पाए थे कि नौ नवंबर 1999 को नौतनवा के महेंद्र नगर निवासी प्रदीप कुमार थापा के शहीद होने की सूचना मिली। दोनों की शहादत आने वाली पीढिय़ों को प्रेरणा देती रहे, इसके लिए नौतनवा कस्बे में उनकी प्रतिमा स्थापित की गई है। यहां हर रोज लोग उन्हें शीश झुका कर नमन करते हैं।

नहीं जाने देंगे देश की एक इंच भूमि

पूरन थापा व प्रदीप कुमार थापा के शहीद होने के बाद उनके बेटे व भाई सेना में शामिल हुए। पूरन थापा के बाद छोटे भाई श्याम थापा लंबे समय तक कारगिल में तैनात रहने के बाद अब पंजाब में पाकिस्तान से लगी हुई सीमा पर तैनात हैैं। श्याम कहते हैैं कि भाई ने देश रक्षा में बलिदान किया है। जब तक मेरे शरीर में जान है, भारत मां की एक इंच भूमि नहीं जाने दूंगा। प्रदीप कुमार थापा के बड़े बेटे अमर बहादुर थापा तब सेना में भर्ती हो चुके थे। छोटे बेटे केहर बहादुर भी सेना में शामिल हुए और हिमाचल प्रदेश में तैनात हैं। दोनों कहते हैैं, हमारे रहते कोई भारत की तरफ आंख उठा कर नहीं देख सकता है।

युद्ध के दौरान सैनिक गांव से भर्ती हुए छह जवान

कारगिल युद्ध के दौरान महराजगंज का सैनिक गांव उदितपुर भी पीछे नहीं रहा। युद्ध के दौरान छह जवान सेना में भर्ती हुए थे। नायब सूबेदार मोहित गुरुंग व सोनू गुरुंग, हवलदार कमल गुरुंग, आनंद गुरुंग, संदीप गुरुंग व तेजू गुरुंग रिजर्व रखे जाने के कारण आमने-सामने का युद्ध तो नहीं कर पाए लेकिन मिली जिम्मेदारी को ऐसे निभाया कि उन्हें सेना मेडल से नवाजा गया। ये छह जवान अब अरुणाचल प्रदेश व जम्मू-कश्मीर में तैनात हैं।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.