गोरखपुर विश्वविद्यालय में प्रवेश के ल‍िए मारामारी, बीएससी की 150 सीट पर 4188 आवेदन

गोरखपुर विश्वविद्यालय में बीएससी (एजी) 150 सीट पर 3933 और बीएससी मैथ की 300 सीट पर 5463 अभ्यर्थियों ने आवेदन किया है। यानी बीएससी बायो की एक सीट के लिए 27 और बीएससी (एजी) में 26 और बीएससी मैथ की एक सीट के लिए 18 अभ्यर्थियों में कड़ी प्रतिस्पर्धा होगी।

Pradeep SrivastavaSun, 22 Aug 2021 01:40 PM (IST)
गोरखपुर विश्वविद्यालय में प्रवेश के लिए मारामारी हो रही है। - प्रतीकात्‍मक तस्‍वीर

गोरखपुर, जागरण संवाददाता। दीनदयाल उपाध्याय गोरखपुर विश्वविद्यालय में प्रवेश के लिए आवेदन का सिलसिला थम गया है। सीट के मुताबिक अभ्यर्थियों के बीच मुकाबले की स्थित साफ हो गई है।

स्नातक में बीएससी बायो की , बीएससी (एजी) 150 सीट पर 3933 और बीएससी मैथ की 300 सीट पर 5463 अभ्यर्थियों ने आवेदन किया है। यानी बीएससी बायो की एक सीट के लिए 27 और बीएससी (एजी) में 26 और बीएससी मैथ की एक सीट के लिए 18 अभ्यर्थियों में कड़ी प्रतिस्पर्धा होगी। ऐसे ही बीटेक की 240 सीट के लिए 2572 लोगों ने आवेदन किया है। इनमें से 96 सीट पर विश्वविद्यालय की प्रवेश परीक्षा के माध्यम से प्रवेश लिया जाएगा। ऐसे में एक बीटेक की एक सीट के लिए 26 अभ्यर्थियों के बीच मुकाबला होगा। बीका में एक सीट पर आठ और बीए में पांच अभ्यर्थियों के बीच लड़ाई है।

स्नातक की 4022 सीटों के लिए 65730 अभ्यर्थियों ने कराया पंजीकरण

विश्वविद्यालय प्रशासन के मुताबिक स्नातक के विभिन्न विषयों की कुल 4022 सीटों के लिए 65730 अभ्यर्थियों ने पंजीकरण कराया है। ऐसे ही परास्नातक की 1905 सीटों के लिए 20197 अभ्यर्थी पंजीकृत हुए हैं। स्नातक, परास्नातक और स्पेशल कोर्स की 8827 सीट में प्रवेश के लिए विदेशों के साथ साथ 31 राज्यों से अब तक 89472 विद्यार्थियों ने पंजीकरण कराया है। 40 अभ्यर्थी में प्रवेश की रेस में शामिल हैं। नए पाठ्यक्रमों के प्रति 1333 अभ्यर्थियों ने रुचि दिखाई है। इन पाठ्यक्रमों में आवेदन का विकल्प 25 अगस्त तक खुला हुआ है।

कोर्स सीट आवेदन

बीए 2437 11475

बीएससी मैथ 300 5463

बीकॉम 500 4261

बीएससी बॉयो 150 4188

बीएससी एजी 150 3933

बीटेक 96 2572

बीबीए 75 1066

बीसीए 50 1713

बीए-एलएलबी 150 2123

छात्रों ने जलाया पाकिस्तान का पुतला

दीनदयाल उपाध्याय गोरखपुर विश्वविद्यालय के मुख्य द्वार पर छात्रनेता नारायण दत्त पाठक के नेतृत्व में छात्रों ने महाराजा रणजीत ङ्क्षसह की मूर्ति तोड़े जाने के विरोध में पाकिस्तान का प्रतीकात्मक रूप से पुतला जलाया। छात्रों ने कहा कि पाकिस्तान के लाहौर में महाराजा रणजीत ङ्क्षसह की मूर्ति को तोड़ा गया गया है, जिसकी कड़ी ङ्क्षनदा करते हैं। महाराजा रणजीत ङ्क्षसह के सम्मान के लिए पाकिस्तान का विरोध किया गया है। महाराजा रणजीत ङ्क्षसह ने अफगानियों को हराया था। देश की आजादी में उनका महत्वपूर्ण योगदान है। प्रदर्शन करने वालों में छात्र नेतानारायण दत्त पाठक, सत्यम गोस्वामी, शिवम त्रिपाठी, शिवम मिश्रा, पंकज तिवारी, अजय गौतम, आकर्ष उपाध्याय, सतीश प्रजापति, अभिषेक यादव, उज्जवल ङ्क्षसह, विवेक, अकाश ङ्क्षसह राजपूत, अनुपम गौड़, हिमांशु राय, पुनीत त्रिपाठी, कार्तिक यादव, अजय यादव, हर्ष आदि मौजूद रहे।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.