top menutop menutop menu

पुलिस थानों में रखे शराब व मादक पदार्थ नष्‍ट होंगे, अधिकारियों को मिला निर्देश Gorakhpur News

गोरखपुर, जेएनएन। मालखाने में रखी गई जब्त शराब व मादक पदार्थ पुलिस छह माह के भीतर नष्ट करा देगी। एडीजी दावा शेरपा ने जोन के सभी पुलिस कप्तान को इस संबंध में निर्देश दिए। इसके लिए उन्होंने आइजी /डीआइजी रेंज के नेतृत्व में कमेटी गठित कर दी।

पहले करें मूल्‍यांकन

एडीजी जोन ने अपने कार्यालय में जोन के सभी आइजी /डीआइजी रेंज व पुलिस कप्तान के साथ क्राइम मीटिंग की। बारी-बारी से सभी जिले के कप्तान से कानून-व्यवस्था की जानकारी ली। हत्या, लूट व महिला अपराध की समीक्षा करते हुए विवेचना में तेजी लाने का निर्देश दिया। सभी जिलों के पुलिस कप्तान को सुप्रीम कोर्ट के निर्देश की जानकारी देते हुए एडीजी ने कहा कि थानों के मालखाने में रखे जब्त शराब, गांजा, चरस, अफीम, स्मैक व भांग की मात्रा का मूल्यांकन कर लें।

जानकारी देकर ही करना होगा नष्‍ट

एक सप्ताह में रेंज के आइजी/डीआइजी को जानकारी देकर नष्ट कराने की प्रक्रिया शुरू कर दें। मालखाने में केवल जब्त किए गए शराब या मादक पदार्थ का नमूना रखें। बैठक में आइजी बस्ती रेंज, आशुतोष कुमार, डीआइजी रेंज देवीपाटन डॉ. राकेश कुमार, गोरखपुर एसएसपी डॉ. सुनील गुप्ता, एसपी बस्ती हेमराज मीणा, एसपी संतकबीरनगर बृजेश कुमार सिंह, एसपी सिद्धार्थनगर विजय ढूल, एसपी महाराजगंज रोहित सिंह सजवान, एसपी देवरिया श्रीपति मिश्र, एसपी कुशीनगर विनोद कुमार मिश्र मौजूद रहे।

सुप्रीम कोर्ट के निर्देश की दी गई जानकारी

एडीजी जोन दावा शेरपा ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट ने जब्त किए गए शराब व मादक को छह माह के भीतर नष्ट कराने का स्पष्ट निर्देश दिया है। क्राइम मीटिंग में गोरखपुर, बस्ती व देवीपाटन रेंज के सभी पुलिस कप्तान को इसकी जानकारी दी गई है। थाने में केवल जब्त किए गए शराब या मादक पदार्थ का थोड़ा सा नमूना रखा जाएगा।

शराब तस्करी के लिए सुरक्षित बना बार्डर क्षेत्र

शराब तस्करी का देवरिया जिला हब बन गया है। बड़े वाहनों से शराब बनाकर खामपार व बनकटा थाना क्षेत्र के बार्डर इलाके में स्टोर किया जा रहा है और फिर छोटे-छोटे वाहनों से पड़ोसी प्रांत बिहार में खेप पहुंचाई जा रही है। बिहार में इन दिनों बड़े पैमाने पर शराब की तस्करी हो रही है। पहले मेहरौना व रामपुर की तरफ से शराब की तस्करी होती रही। जब उन रास्तों पर पुलिस की सख्ती बढ़ी और गाडिय़ां पकड़ी जाने लगीं तो शराब माफिया ने रास्ता बदल दिया। अब खामपार थाना क्षेत्र के ङ्क्षभगारी बाजार, भवानी छापर, कुकुरघांटी समेत कई स्थानों को सुरक्षित मार्ग तस्करों ने बना लिया है। हरियाणा से शराब मंगाकर स्टोर किया जा रहा है और फिर छोटी गाड़ी से उसे बिहार भेजा जा रहा है। इसके अलावा कुछ शराब की दुकानों से भी शराब बिहार भेजी जा रही है। सीओ भाटपाररानी पंचम लाल ने कहा कि शराब तस्करी रोकने के लिए टीमें लगी है। रात में चौकसी बढ़ा दी गई है। किसी भी दशा में शराब तस्करी नहीं होने दी जाएगी।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.