गीडा क्षेत्र में तेजी से किया जाए औद्योगिक पार्कों का विकास

गोरखपुर औद्योगिक विकास प्राधिकरण (गीडा) में प्रस्तावित आइटी पार्क रेडीमेड गारमेंट पार्क प्लास्टिक पार्क जैसे औद्योगिक पार्कों बिजनेस कारीडोर होटल मैनेजमेंट इंस्टीट््यूट एवं फ्लैटेड फैक्ट्री सहित विभिन्न परियोजनाओं का काम तेज हो सकेगा। जिलाधिकारी ने इंवेस्टर्स समिट में हुए एमओयू के बारे में चर्चा की।

Navneet Prakash TripathiPublish:Thu, 02 Dec 2021 05:25 PM (IST) Updated:Thu, 02 Dec 2021 05:25 PM (IST)
गीडा क्षेत्र में तेजी से किया जाए औद्योगिक पार्कों का विकास
गीडा क्षेत्र में तेजी से किया जाए औद्योगिक पार्कों का विकास

गोरखपुर, जागरण संवाददाता। गोरखपुर औद्योगिक विकास प्राधिकरण (गीडा) में प्रस्तावित आइटी पार्क, रेडीमेड गारमेंट पार्क, प्लास्टिक पार्क जैसे औद्योगिक पार्कों, बिजनेस कारीडोर, होटल मैनेजमेंट इंस्टीट््यूट एवं फ्लैटेड फैक्ट्री सहित विभिन्न परियोजनाओं का काम तेज हो सकेगा। जिला उद्योग बंधु की बैठक में इस बात के निर्देश देते हुए जिलाधिकारी विजय किरन आनंद ने उपायुक्त उद्योग रवि कुमार शर्मा को इनसे जुड़े कार्यों को प्राथमिकता पर निस्तारित करने को कहा।

डीएम ने सुनी उद्यमियों की समस्‍याएं

कलेक्ट्रेट सभागार में बुधवार को आयोजित बैठक में जिलाधिकारी ने कहा कि उद्यमियों की समस्याओं का समय से पूरी गुणवत्ता के साथ निस्तारण होना चाहिए। उद्यमियों की ओर से गीडा में चोरी की बढ़ती घटनाओं का मामला उठाया गया। जिलाधिकारी ने इन घटनाओं पर अंकुश लगाने के लिए पुलिस की मोबाइल टीम बनाकर नियमित रूप से गश्त करने का निर्देश दिया।

इंवेस्‍टर्स समिट में हुए एमओ यू की हुई चर्चा

जिलाधिकारी ने इंवेस्टर्स समिट में हुए एमओयू के बारे में चर्चा की। एक जिला एक उत्पाद (ओडीओपी) योजना की समीक्षा के दौरान बताया गया कि इस योजना में 142 आवेदन बैंकों को भेजे गए थे, जिनमें से 49 स्वीकृत हो गए हैं और 28 मामलों में ऋण वितरित किया जा चुका है। इसी तरह मुख्यमंत्री युवा स्वरोजगार योजना में 106 का लक्ष्य है और 253 आवेदन बैंकों को भेजे गए हैं। 69 स्वीकृत हैं और 39 में ऋण वितरित हो चुका है।

प्राथमिकता के आधार पर पूरी की जाएंगी शासन की योजनाएं

जिलाधिकारी ने कहा कि शासन की सभी योजनाओं को प्राथमिकता के आधार पर पूरा किया जाए। बैंक के अधिकारी वरीयता के आधार पर इन योजनाओं से जुड़ी पत्रावलियों का निस्तारण करें। स्टार्टअप योजना की समीक्षा के दौरान जिलाधिकारी ने कहा कि इससे जुड़ी कार्यशाला का आयोजन किया जाए।

भविष्‍य में शाम को होगी उद्योग बंधू की बैठक

बैठक में लघु उद्योग भारती के जिलाध्यक्ष दीपक कारीवाल ने उद्यमियों की समस्या का जिक्र करते हुए कहा कि बैठक का समय शाम को होना चाहिए, जिससे सभी उद्यमी पहुंच सकें। उन्होंने मंडलीय उद्योग बंधु एवं जिला उद्योग बंधु की बैठकों में एक सप्ताह का अंतर रखने की भी मांग की। जिलाधिकारी ने इन मांगों पर सहमति जताई। बैठक के दौरान चैंबर आफ इंडस्ट्रीज के महासचिव प्रवीण मोदी, लघु उद्योग भारती के भोला जायसवाल, उमेश छापडिय़ा, उद्यमी अनंत अग्रवाल, अङ्क्षचत्य लाहिड़ी आदि उपस्थित रहे।