कुशीनगर में नागरिक उड्डयन विभाग की भूमि से हटाया गया अतिक्रमण

कुशीनगर में नागरिक उड्डयन विभाग की भूमि से हटाया गया अतिक्रमण

कुशीनगर के कसया में स्थित सरकारी जमीन से हटाए गए 33 परिवार हटाए गए लोगों को कांशीराम आवास सहित अन्य जगहों पर बसाने के प्रयास में जुटा प्रशासन खाली कराई गई भूमि पर सुपर मार्केट व पार्किंग बनाने की है सरकार की योजना।

JagranFri, 05 Mar 2021 04:08 AM (IST)

कुशीनगर: नगर में कसया-पडरौना मार्ग पर नवीन फल मंडी के समीप गुरुवार को नागरिक उड्डयन विभाग की भूमि पर किए गए अवैध निर्माण को प्रशासन ने बुलडोजर से ध्वस्त कराया। कार्रवाई में 33 परिवारों का अवैध निर्माण ढहाया गया। बेघर हुए लोगों को अन्यत्र बसाने का प्रशासन प्रयास कर रहा है।

दोपहर बाद ज्वाइंट मजिस्ट्रेट पूर्ण बोरा पुलिस फोर्स के साथ मौके पर पहुंचे और अतिक्रमण हटाने का आदेश दिया। कुछ लोग मोहलत मांगें तो ज्वाइंट मजिस्ट्रेट ने इन्कार कर दिया। इसी दौरान राजस्व विभाग की टीम ने भूमि का सीमांकन भी किया। ज्वाइंट मजिस्ट्रेट ने बताया कि यह भूमि नागरिक उड्डयन विभाग के नाम से भू-राजस्व अभिलेख में दर्ज है। गाटा संख्या 864, क्षेत्रफल 0.628 हेक्टेअर है। इस पर अवैध तरीके से कुछ लोगों ने निर्माण कर लिया था। उन्हें हटने के लिए सभी को सूचना दी गई थी,लेकिन किसी ने इस पर गंभीरता नहीं दिखाई। यहां सुपर मार्केट व वाहन स्टैंड बनवाने की योजना है। यहां से हटाए गए लोगों को कांशीराम आवास अथवा अन्य जगह बसाने का प्रबंध किया जाएगा। इन्हें एक सप्ताह के लिए खाद्यान्न उपलब्ध कराने हेतु पूर्ति विभाग के निरीक्षक अभिषेक कुमार सिंह को निर्देश दिया गया है।

अधिकारियों ने सुलझाया भूमि विवाद

खड्डा थाना क्षेत्र के परशुरामपुर में भूमि विवाद की सूचना मिलने पर एसडीएम अरविद कुमार व तहसीलदार डा. एसके राय गुरुवार को मौके पर पहुंचे और विवाद का निपटारा किया। कुछ लोग कब्रिस्तान की भूमि की पैमाइश की मांग कर रहे थे तो कुछ लोगों को अवैध कब्जा किए जाने की शिकायत थी। इसको लेकर कई दिनों से गांव में तनातनी चल रही थी।

एसडीएम व तहसीलदार मौके पर पहुंचकर दोनों पक्ष के लोगों से वार्ता की। कब्रिस्तान की भूमि की पहले हुई पैमाइश वाले हिस्से में किसी तरह का हस्तक्षेप नहीं करने का निर्देश दिया। प्रभारी निरीक्षक आरके यादव, एसआइ पीके सिंह मौजूद रहे।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

पांच राज्यों के विधानसभा चुनावों से जुड़ी प्रमुख जानकारियों और आंकड़ों के लिए क्लिक करें।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.