कोरोना के कारण होली, ईद व लगन रहा फीका, अब आगामी त्योहारों और लगन की तैयारी में जुटे व्यापारी

कोरोना काल में लंबे समय तक बाजारों के बंद रहने की वजह से व्‍यापारियों को काफी नुकसान उठाना पडा। बाजार पूरी तरह से मंदी का शिकार हो गया था। अब आगामी त्‍योहारों से व्‍यापारियों की उम्‍मीद है। इसकी तैयारी में वे जुट गए हैं।

Navneet Prakash TripathiFri, 24 Sep 2021 12:05 PM (IST)
आगामी त्‍योहारों की तैयारी मेंं जुटे व्‍यापारी। प्रतीकात्‍मक फोटो

गोरखपुर, जागरण संवाददाता। कोरोना संकट से बुरी तरह प्रभावित हुए बाजार को अब आगामी त्योहारों और लगन का इंतजार है। दशहरा, दीपावली, भैजा दूज, छठ से लेकर क्रिसमस तक लगातार पडऩे वाले त्योहार और लगन से बाजार की पुरानी रंगत लौटने की उम्मीद जताई जा रही है। त्योहारों पर लोग जमकर खरीदारी करते हैं इसलिए इसका असर कपड़ा, आटोमोबाइल, इलेक्ट्रानिक्स, सराफा, बर्तन समेत सभी तरह के कोराबार पर दिखता है। कोरोना की वजह से इस साल होली, ईद और लगन व्यापारियों के लिए फीका रहा था। त्योहारों और लगन को देखते हुए कारोबारी भी तैयारी में जुट गए हैं। अच्‍छे कारोबार की उम्मीद में बड़े पैमाने पर आर्डर दिए गए हैं।

कोरोना काल में कपडा कारोबार सबसे अधिक प्रभावित

आगामी त्योहारों को देखते हुए सबसे ज्यादा तैयारी कपड़ा (रेडीमेट व साड़ी-सूट, सूटिंग-शर्टिंग), इलेक्ट्राििनक्स व बर्तन कारोबारी कर रहे हैं। कोरोना की वजह से कपड़ा कारोबार सबसे ज्यादा प्रभावित हुआ था। व्यापारियों का कहना है कि अगले माह से त्याहारी सीजन शुरू हो जाएगा। इससे कारोबार को संभलने की उमीद है। इसी उम्मीद में कोलकाता, सूरत, बैंगलुरू, दिल्ली, जयपुर में आर्डर दिए गए हैं।

लंबे समय तक दुकानदारों ने झेली है मंदी

रेडीमेड कारोबारी विजय गुप्ता ने मुताबिक दुकानदारों ने लंबे समय तक मंदी झेली है। अब कारोबार का सारा दारोमदार त्योहारों और लगन पर है। ऐसे में पूरी उम्मीद है कि जो नुकसान हुआ है उसकी बहुत हद तक भरपाई हो जाएगी। सराफा कारोबारी संतोष रस्तोगी ने बताया कि करीब डेढ़ माह तक दुकानें बंद होने से कारोबार पर बुरा असर पड़ा है। अगर सबकुछ सामान्य रहा तो आने वाले त्योहार व्यापारियों के लिए खुशियां लेकर आएगा।

नवंबर-दिसंबर की लगन से है काफी उम्‍मीद

नवंबर-दिसंबर की लगन से भी काफी उम्मीदें हैं। बर्तन कारोबारी सुशील कुमार वर्मा ने कहा कि दो वर्षों से बर्तन उद्योग काफी प्रभावित रहा है। धनतेरस में खरीदारी के अलावा विवाह में बर्तन सेट देने की परंपरा है। इसको ध्यान में रखकर बर्तनों का स्टाक मंगवाया गया है। कपड़ा कारोबारी आकाश गंगा ने कहा कि दीपावली के बाद ही लगन शुरू हो जाएगा। कई वर्षों बाद ऐसा शुभ अवसर आया है जिसका सभी कारोबारी बेसब्री से इंतजार कर रहे हैं।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.