Railway News: गोरखपुर-लखनऊ इंटरसिटी समेत आधा दर्जन ट्रेनें छह द‍िन के ल‍िए न‍िरस्‍त

Railway News 19 नवंबर 25 नवंबर तक गोरखपुर-लखनऊ इंटरसिटी सहित आधा दर्जन ट्रेनें निरस्त रहेंगी। छपरा-गोमतीनगर एक्सप्रेस 19 से 24 नवंबर तक गोमतीनगर- छपरा कचहरी एक्सप्रेस 20 से 25 नवंबर तक गोरखपुर- मैलानी एक्सप्रेस 19 से 24 नवंबर तक और मैलानी- गोरखपुर एक्सप्रेस 20 से 25 नवंबर तक न‍िरस्‍त रहेगी।

Pradeep SrivastavaFri, 19 Nov 2021 07:02 AM (IST)
एनईआर की आधा दर्जन ट्रेनें छह द‍िन के ल‍िए न‍िरस्‍त कर दी गई हैं। - प्रतीकात्‍मक तस्‍वीर

गोरखपुर, जागरण संवाददाता। पूर्वोत्तर रेलवे के लखनऊ मंडल स्थित सीतापुर-बुढ़वल रेलमार्ग के दोहरीकरण के तहत नान इंटरलाकिंग चल रहा है। इसके चलते ट्रेनों का संचालन प्रभावित है। लखनऊ मंडल के जनसंपर्क अधिकारी महेश गुप्ता के अनुसार 19 नवंबर से गोरखपुर-लखनऊ इंटरसिटी व गोरखपुर-मैलानी एक्सप्रेस सहित आधा दर्जन ट्रेनें निरस्त रहेंगी।

निरस्त रहने वाली ट्रेनें

12531-12532 गोरखपुर-लखनऊ-गोरखपुर इंटरसिटी 19 से 24 नवंबर तक।

15114 छपरा कचहरी-गोमतीनगर एक्सप्रेस 19 से 24 नवंबर तक।

15113 गोमतीनगर- छपरा कचहरी एक्सप्रेस 20 से 25 नवंबर तक।

15009 गोरखपुर- मैलानी एक्सप्रेस 19 से 24 नवंबर तक।

15010 मैलानी- गोरखपुर एक्सप्रेस 20 से 25 नवंबर तक।

दिल्ली और मुंबई जाने वाली ट्रेनों का नहीं मिल रहा कन्फर्म टिकट

उधर, छठ के में फुल हुईं ट्रेनें अब भी खाली नहीं हो पाई हैं। गोरखपुर से दिल्ली जाने वाली कई ट्रेनों में नो रूम है। कई रूटों पर तत्‍काल में भी ट‍िकट नहीं म‍िल पा रहा है। तत्काल कन्फर्म टिकट महज 50 से 60 सेकेंड में बुक हो जा रहे हैं। काउंटर पर किसी तरह एक कन्फर्म टिकट निकल रहा, शेष दलालों के हाथ में जा रहा है। दलाल फर्जी वेबसाइटों के माध्यम से रेलवे से तेज आनलाइन टिकट बुक कर मनमाना किराया वसूल रहे हैं। बस्ती में फर्जी वेबसाइटों का मास्टर माइंड के पकड़े जाने के बाद भी टिकटों के अवैध कारोबार पर अंकुश नहीं लग पा रहा। यहां जान लें कि प्रत्येक ट्रेन का 25 से 30 फीसद बर्थ और सीट तत्काल कोटे के लिए आरक्षित रहता है। सामान्य से लगभग 30 फीसद अधिक किराया लगता है।

गोरखपुर जंक्शन की घड़ियां खराब

गोरखपुर जंक्शन की घड़ियां खराब हो गई हैं। यात्रियों को समय की सटीक जानकारी नहीं मिल पा रही। उन्हें समय देखने के लिए प्लेटफार्म पर जाना पड़ रहा है। स्टेशन डायरेक्टर आशुतोष गुप्ता के अनुसार घड़ियां खराब हो गई हैं। कंपनी ने हाथ खड़े कर दिए हैं। कंपनी का कहना है कि घड़ियां बन नहीं पाएंगी। ऐसे में अब नई घड़ियां लगाने की तैयारी चल रही है। टेंडर की प्रक्रिया शुरू हो गई है। यहां जान लें कि जंक्शन के मध्य गुंबद पर पूर्व, पश्चिम और दक्षिण दिशाओं में तीन घड़ियां लगाई गई थीं। लोग दूर से ही समय देख लेते थे। यह घड़ियां जंक्शन की पहचान भी होती हैं।

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.