गोरखपुर का युवक मलेशिया में पांच माह से जेल में बंद, दर-दर भटक रहा परिवार

जेल के संबंध में प्रतीकात्‍मक फाइल फोटो।

मुन्ना तिवारी अक्टूबर 2019 में मलेशिया रोजी-रोजगार के लिए गए। कुछ महीने काम करने के बाद कोरोना के चलते काम बंद हो गया। हवाई सेवा बंद हो जाने के कारण वापस देश आ नहीं सके। इसी दौरान मलेशिया पुलिस ने उन्हें पकड़ लिया।

Publish Date:Thu, 21 Jan 2021 01:37 PM (IST) Author: Satish chand shukla

गोरखपुर, जेएनएन। बड़हलगंज कोतवाली क्षेत्र के बगहा गांव निवासी एक युवक कई महीने से मलेशिया के जेल में बंद है। जिसकी रिहाई के लिए उसकी पत्नी व बच्चे दर-दर भटक रहे हैं। हालांकि उन्‍होंने जनप्रतिनिधियों से लेकर पुलिस प्रशासन के लोगों से भी गुहार लगाई पर रिहाई की बात अभी बन नहीं पाई है। गांव के मुन्ना तिवारी अक्टूबर 2019 में मलेशिया रोजी-रोजगार के लिए गए। कुछ महीने काम करने के बाद कोरोना के चलते काम बंद हो गया। हवाई सेवा बंद हो जाने के कारण वापस देश आ नहीं सके। इसी दौरान मलेशिया पुलिस ने उन्हें पकड़ लिया। काफी दिन तक उनसे संपर्क न होने के कारण परिवार के लोग परेशान रहे।

पांच माह से बंद है जेल में

कुछ महीना बाद वहां की पुलिस की मदद से उन्होंने घर पर फोन कर 27 अगस्त 2020 से जेल में बंद होने की सूचना परिवार वालों को दी। तभी से परिवार के लोग उनको जेल से छुड़ाकर घर लाने के लिए दर-दर ठोकर खा रहे हैं लेकिन अभी तक सफलता नहीं मिल सकी है। उनकी पत्नी नंदिनी व पुत्र दुर्गेश का कहना है कि स्थानीय सासंद से लेकर उच्चाधिकारियों तक गुहार लगाई लेकिन आश्वासन के सिवाय कुछ नहीं मिला। वीजा समाप्त हो जाने के कारण मलेशिया पुलिस ने गिरफ्तार किया है।

विदेश भेजने वाले एजेंट पर दर्ज है मुकदमा

विदेश भेजने वाले एजेंट के खिलाफ देवरिया जिले के रुद्रपुर थाने में रिपोर्ट दर्ज कराने के साथ ही वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक से भी गुहार लगा चुके हैं। दिल्ली स्थित दूतावास से फोन से बात हुई तो उन्होंने कहा कि मलेशिया स्थित भारतीय दूतावास से संपर्क करें। वहां भी बात हुई लेकिन कोई प्रतिक्रिया नहीं आई। इस संबंध में एसडीएम राजेंद्र बहादुर का कहना है कि पीडि़त परिवार को जिलाधिकारी महोदय को प्रार्थना पत्र देना चाहिए। वे शासन को लिखेंगे। जिसके बाद दूतावास से कार्रवाई होगी।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.