गोरखपुर-वाराणसी राष्ट्रीय राजमार्ग निर्माण में देरी पर सीएम योगी आद‍ित्‍यनाथ का अल्‍टीमेटम, द‍िसंबर तक पूरा हो काम

दो दिवसीय गोरखपुर दौरे पर आए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने एनेक्‍सी भवन में अधिकारियों के साथ बैठक की। इस दौरान गोरखपुर-वाराणसी राष्ट्रीय राजमार्ग को हर हाल में दिसंबर तक पूरा करने को कहा। कहा कि विकास परियोजनाओं को समय से पूरा करने के लिए तेज गति से काम किया जाए।

Rahul SrivastavaWed, 04 Aug 2021 08:10 PM (IST)
एनेक्सी भवन में अधिकारियों के साथ बैठक लेते मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ। सौ. सूचना विभाग

गोरखपुर, जागरण संवाददाता : मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि गोरखपुर-वाराणसी राष्ट्रीय राजमार्ग को हर हाल में दिसंबर तक पूरा कर लिया जाए। विकास परियोजनाओं को समय से पूरा करने के लिए तेज गति से काम किया जाए। जरूरत पड़े तो श्रमिकों की संख्या बढ़ाई जाए।

एनेक्‍सी भवन में अधिकारियों के साथ विकास कार्यों की समीक्षा कर रहे थे मुख्‍यमंत्री

दो दिवसीय गोरखपुर दौरे पर आए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ बुधवार सुबह एनेक्सी भवन में अधिकारियों के साथ विकास कार्यों की समीक्षा कर रहे थे। उन्होंने एक-एक कर सभी परियोजनाओं की समीक्षा की। जिलाधिकारी की ओर से 11 महत्वपूर्ण परियोजनाओं के प्रगति की जानकारी दी। गोरखपुर-वाराणसी राष्ट्रीय राजमार्ग पर काम तेजी से चल रहा है। उन्होंने गोरखपुर-निचलौल मार्ग को अगस्त तक पूरा करने का निर्देश दिया। मोहद्दीपुर-जंगल कौड़‍िया मार्ग के प्रगति की समीक्षा करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि काम में तेजी लाकर इसे जल्द से जल्द पूरा किया जाए।

निर्माण कार्यों को समयबद्ध ढंग से कराएं पूर्ण

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने निर्देश दिए है कि निर्माण कार्यों को समयबद्ध ढंग से पूर्ण कराते हुए उसकी गुणवत्ता पर विशेष ध्यान रखा जाए। उन्होंने एम्स के निर्माण कार्यों को मैनपावर बढ़ाकर अक्टूबर तक शत प्रतिशत पूर्ण कर लेने के निर्देश संबंधित अधिकारियों को दिए। इसके साथ ही उन्होंने सितंबर तक जंगल कौड़‍िया में निर्माणाधीन महाविद्यालय के कार्य को पूर्ण कराने के निर्देश दिए ताकि समय से उसका लोकार्पण कराया जा सके। मुख्यमंत्री ने जेल बाईपास रोड एवं नौसढ़-पैडलेगंज रोड का काम तेज करने का निर्देश दिया। इन दोनों कार्यों को निर्धारित समय सीमा के भीतर पूरा करने का निर्देश दिया गया।

जीडीए में मानचित्र के प्रकरणों को तेजी से निपटाने का निर्देश

गोरखपुर विकास प्राधिकरण (जीडीए) के कार्यों की समीक्षा करते हुए मुख्यमंत्री ने जलकुंभी के निस्तारण के बारे में जानकारी ली। जीडीए उपाध्यक्ष प्रेम रंजन सिंह की ओर से बताया गया कि करीब 95 फीसद जलकुंभी निकाली जा चुकी है और 15 अगस्त तक ताल को पूरी तरह से साफ कर लिया जाएगा। मुख्यमंत्री ने नया सवेरा पर भी बेहतर सफाई व्यवस्था रखने का निर्देश दिया। ब्रह्मलीन महंत दिग्विजयनाथ की प्रतिमा स्थापना के बारे में भी जानकारी दी गई। बताया गया कि यह काम 24 सितंबर से पहले ही पूरा कर लिया जाएगा। लंबित मानचित्रों एवं नामांतरण के मामलों को निस्तारित करने के लिए आयोजित शिविर की सफलता से भी मुख्यमंत्री को अवगत कराया गया। मुख्यमंत्री ने इस प्रयास को जारी रखकर तेजी से मानचित्र के प्रकरणों को निपटाने का निर्देश दिया है।

जल्द पूरे कर लिए जाएं एम्स के अधूरे काम

समीक्षा बैठक के दौरान मुख्यमंत्री ने कहा कि अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) के अधूरे कार्यों को जल्द पूरा कर लिया जाए। अक्टूबर में एम्स का लोकार्पण कराया जाना है। टीकाकरण की समीक्षा करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि टीकाकरण में किसी प्रकार की अनियमितता नहीं मिलनी चाहिए। यह पूरी तरह से निश्शुल्क है। आनलाइन पंजीकरण के बाद ही टीका लगाया जाए। इंसेफ्लाइटिस की समीक्षा करते हुए उन्होंने कहा कि जिस क्षेत्र से इसके मामले आ रहे हों, वहां उपचार के सभी उपाय किए जाएं। सीएचसी एवं पीएचसी पर इंसेफ्लाइटिस ट्रीटमेंट सेंटर (ईटीसी) को क्रियाशील किया जाए। जिससे मरीजों को सुविधा मिल सके। आक्सीजन प्लांट की समीक्षा करते हुए उन्होंने कहा कि इसकी नियमित निगरानी के लिए नोडल अधिकारी तैनात किए जाएं। आक्सीजन कांसेंट्रेटर के रख-रखाव की पर्याप्त व्यवस्था करने का निर्देश दिया गया।

गीडा का जितना होगा विस्तार, निवेशकों को आमंत्रित करना होगा आसान

गोरखपुर औद्योगिक विकास प्राधिकरण (गीडा) के कार्यों की समीक्षा करते हुए मुख्यमंत्री ने भूमि अधिग्रहण के कार्य को तेज करने का निर्देश देते हुए कहा कि औद्योगिक गलियारे के आसपास तेजी से जमीन खरीदी जाए, जिससे लैंड बैंक बढ़ सके। आदित्य बिड़ला ग्रुप से बात कर उनकी जरूरतों को पूरा करते हुए जल्द से जल्द निवेश कराने का निर्देश भी मुख्यमंत्री ने दिया। उन्होंने गीडा सीईओ पवन अग्रवाल को निर्देश दिया कि उद्यमियों की सुविधा का ख्याल रखा जाए। उनके साथ संवाद कर समस्याओं का निराकरण किया जाए। यदि किसी मामले में उच्च स्तर पर बात की जरूरत हो तो मुख्यमंत्री के संज्ञान में लाकर समस्या का निराकरण कराया जाए। मुख्यमंत्री ने कहा कि गीडा का विस्तार किया जाए। इसका जितना विस्तार होगा, लैंड बैंक जितना अधिक होगा, निवेशकों को आमंत्रित करना उतना ही आसान होगा।

बिजली की नियमित आपूर्ति की जाए सुनिश्चित

मुख्यमंत्री ने बिजली निगम के अधिकारियों को निर्देश दिया कि शहरी एवं ग्रामीण क्षेत्रों में बिजली की नियमित आपूर्ति सुनिश्चित की जाए। उन्होंने पांच अगस्त को आयोजित होने वाले प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना की तैयारियां पूर्ण कर लेने तथा हर जगह पर नोडल अधिकारी तैनात करने के निर्देश दिये। बैठक में जिलाधिकारी विजय किरन आनंद, जीडीए के उपाध्यक्ष प्रेम रंजन सिंह, मुख्य विकास अधिकारी इंद्रजीत सिंह, मुख्य कार्यपालक अधिकारी गीडा पवन अग्रवाल आदि अधिकारी उपस्थित रहे।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.