UP Panchayat Election: विधायकों को साल में दो करोड़, इन प्रधानों को मिलेंगे 25-25 करोड़ रुपये

गोरखपुर की कई ऐसी ग्राम पंचायतें हैं जिनको इस वर्ष 25-25 करोड़ रुपये से अधिक रुपये मिलेंगे। प्रतीकात्‍मक तस्‍वीर

गोरखपुर की 10 ग्राम पंचायतें तो ऐसी हैं जिन्हें 10 करोड़ रुपये का परफार्मेंस ग्रांट न केवल आवंटित हो चुका है बल्कि पेशगी के तौर पर पहली किस्त के 50-50 लाख रुपये भी मिल चुके हैं। अभी भारी-भरकम बजट अगले कार्यकाल में भी आना है।

Publish Date:Wed, 20 Jan 2021 10:47 AM (IST) Author: Pradeep Srivastava

गोरखपुर, रजनीश त्रिपाठी। यूं तो पंचायत चुनाव की सरगर्मी हर गांव में बढ़ गई है, लेकिन 34 गांव ऐसे हैं जहां के प्रत्याशी प्रधानी पाने के लिए कोई भी हथकंडा अपनाने को तैयार हैं। हों भी क्यों न? इन गांवों के खाते में इतनी रकम पहुंचने वाली है, जितनी शायद विधायक को भी न मिले। 10 ग्राम पंचायतें तो ऐसी हैं, जिन्हें 10 करोड़ रुपये का परफार्मेंस ग्रांट न केवल आवंटित हो चुका है, बल्कि पेशगी के तौर पर पहली किस्त के 50-50 लाख रुपये भी मिल चुके हैं। कुछ प्रधानों ने कार्यकाल के अंतिम समय में भले ही यह रकम खर्च कर दी, लेकिन भारी-भरकम बजट तो अगले कार्यकाल में आना है। इसी रकम की प्रत्याशा में हर प्रत्याशी प्रधान बनने की कोशिश में जुटा है। 

प्रधान बनने के लिए दावेदारों ने झोंकी ताकत, मतदाता ही नहीं प्रत्याशियों की भी घेराबंदी

सामान्य गांवों में जहां प्रत्याशी बैनर-पोस्टर, होर्डिंग लगाकर दावेदारी जताने में जुटे हैं वहीं परफार्मेंस ग्रांट के लिए चयनित गांवों में दावतों और सेवा का दौर अभी से शुरू हो गया है। कोई बीमार को अस्पताल पहुंचाने में जुटा है तो कोई बस बुक कराकर मतदाताओं को गंगा स्नान कराकर पुण्य कमाने के जुगाड़ में है। जिसके बेटे-बेटियों की शादी है, उसके घर तो मददगारों की लाइन लग गई है। कोई राशन देने की बात कह रहा है तो कोई टेंट-शामियाना बिजली का खर्च उठाने को तैयार है। रात की दावतों का तो पूछना ही नहीं है। प्रत्याशी अपने खास समर्थकों के घर दावतों का आयोजन कर पुराने गिले-शिकवे दूर करने में जुट गए हैं। मतदाताओं के कोर्ट-कचहरी, थाना-पुलिस और सरकारी महकमों से जुड़े लंबित कामों को कराने के लिए भी प्रत्याशी कार्यालयों का चक्कर काटते नजर आ रहे हैं।

प्रधान होंगे रुपयों के मालिक

वर्ष 2016-17 के 700 करोड़ रुपये के परफार्मेंस ग्रांट में से करीब 300 करोड़ रुपया गोरखपुर की 37 ग्राम पंचायतों को आवंटित किया गया है। तीन ग्राम पंचायतों के नगर निकाय में शामिल होने के चलते उनकी डीपीआर पर विचार नहीं किया गया। 34 ग्राम पंचायतों के लिए आवंटित 300 करोड़ रुपये डीपीआर के हिसाब से गांवों में बांटे जाएंगे, जिन्हें खर्च करने का अधिकार प्रधान और सचिव को होगा।

इन मदों में खर्च की जाएगी रकम

परफार्मेंस ग्रांट की रकम ग्राम पंचायतें सड़क, नाली, स्ट्रीट लाइट, कूड़ा प्रबंधन, पेयजल, भूगर्भ जल, लैंड स्केपिंग, पार्क, खेल मैदान, पौधरोपण, जिम, स्कूल, अन्य सरकारी भवनों के सुदृढ़ीकरण के अलावा ग्राम पंचायत को सुचारू रूप से चलाने के लिए जरूरी अवस्थापना मद में खर्च की जाएगी।

इन गांवों को मिलनी है इतनी ग्रांट

परसिया तिवारी (बड़हलगंज) 7.67

किशुनपुर उर्फ बगही (बांसगांव) 4.57

कटया (बेलघाट) 4.03

नकौड़ी खास (बेलघाट) 3.74

औरंगाबाद (भटहट) 3.48

जंगल हरपुर (भटहट) 10.09

बेलवा (ब्रह्मपुर) 5.61

चौमुखा (कैम्पियरगंज) 11.97

जंगल तिनकोनिया नंबर एक (चरगांवा) 11.76

परमेश्वरपुर (चरगांवा) 19.72

बनकटा (गोला) 3.80

भड़सरा (गोला) 4.34

तुर्कवलिया (जंगल कौडिय़ा) 12.18

काजीपुर (जंगल कौडिय़ा) 4.56

बासपार (कौड़ीराम) 3.94

बेलीपार (कौड़ीराम) 6.36

कौड़ीराम (कौड़ीराम) 5.45

भेउसा उर्फ बनकटा (खजनी) 18.62

जयपालपुर (खजनी) 4.80

साखडाड पांडेय (खजनी) 6.34

छितौना (खोराबार) 3.53

मकरहठ  (पाली) 3.19

मुस्तफाबाद (पाली) 3.69

नेवास (पाली) 8.92

नारंग पट्टी (पाली) 3.57

रूद्रपुर (पिपराइच) 17.63

जंगल दीर्घन सिंह (पिपरौली) 4.06

जंगल रानी सुहास कुंवारी (पिपरौली) 25.53

सीयर (पिपरौली) 4.47

भौंवापार (पिपरौली) 16.64

भडसार (सहजनवां) 14.23

भीमापार (सहजनवां) 4.03

रघुनाथपुर (सहजनवां) 8.62

भोपा बाजार (सरदारनगर) 7.80 

का मरचा (उरूवां) 3.01 

नारायणपुर (उरूवां) 8.08

सिसवा उर्फ सिउवा (उरूवां) 6.27

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.