Kapilavastu Mahotsav: पूर्व कृषि मंत्री राधा मोहन सिंह बोले, पहले था प्रश्नों का प्रदेश, अब बना है़ उत्तर प्रदेश

पहले यह प्रदेश प्रश्नों का प्रदेश था अब उत्तर प्रदेश बन गया है़। मोदी व योगी की सरकार किसानों को मजबूत करने में लगी है़। यह बातें पूर्व केंद्रीय कृषि मंत्री व यूपी भाजपा प्रभारी डा. राधा मोहन सिंह ने 21 नवंबर को कही।

Navneet Prakash TripathiSun, 21 Nov 2021 05:05 PM (IST)
कपिलवस्‍तुु महोत्‍सव में कालानमक चावल गोष्‍ठी को संबोधित करते पूर्व कृषि मंत्री राधोमोहन सिंह। जागरण

गोरखपुर, जागरण संवाददाता। पहले यह प्रदेश प्रश्नों का प्रदेश था अब उत्तर प्रदेश बन गया है़। मोदी व योगी की सरकार किसानों को मजबूत करने में लगी है़। यह बातें पूर्व केंद्रीय कृषि मंत्री व यूपी भाजपा प्रभारी डा. राधा मोहन सिंह ने 21 नवंबर को कही। वह कपिलवस्तु महोत्सव में आयोजित कालानमक चावल गोष्ठी में बतौर मुख्य अतिथि बोल रहे थे। कहा कि भारत की आत्मा गांवों में बसती है़। गांवों को मजबूत बनाने के लिए किसानों को मजबूत बनाना होगा और इसके लिए मोदी व योगी सरकार जुटी हुई है़।

किसानों को मजबूत बनाने के सपने देखती है योगी-मोदी सरकार

कहा कि प्रदेश में पहले सिर्फ प्रश्न पूछे जाते थे अब उत्तर प्रदेश बन गया है़। पहले सत्ता में ऐसे लोग थे जो दिन में तो किसानों के लिए नारे लगवाते थे पर अपनी ऊर्जा अपने वंश को मजबूत करने में लगाते थे। अब स्थिति बदल गई है़। मोदी व योगी की सरकार दिन में किसानों के लिए नारे लगाती है़ तो रात में किसानों को मजबूत करने के लिए सपनें देखती है़। कहा कि केंद्र व सूबे की सरकार आर्थिक विकास के साथ सांस्कृतिक विरासत को मजबूत करने के साथ भगवान बुद्ध की क्रीड़ा स्थली कपिलवस्तु को अंतरराष्ट्रीय पहचान दिलाने में लगी हुई है़।

2.60 करोड किसानों के खाते में भेजे जाते हैं छह हजार रुपये

प्रदेश में 2.60 करोड़ किसानों के खाता में प्रतिवर्ष छह हजार रुपये भेजे जा रहे हैं। बेसिक शिक्षा राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) डा . सतीश चंद द्विवेदी ने कहा कि भाजपा सरकार में किसानों की आर्थिक स्थिति बेहतर हुई है़। डुमरियागंज सांसद जगदम्बिका पाल ने कहा कि भगवान बुद्ध के प्रसाद के रूप में काला नमक चावल की प्रसिद्धि है़। पूर्ववर्ती सरकार की उदासीनता से काला नमक की खेती से किसानों का मोह भंग हो रहा था।

सीएम योगी ने काला नमक को दी पहचान

सीएम योगी सरकार ने एक जिला एक उत्पाद योजना चलाकर काला नमक की पुरानी पहचान वापस दिलाने का कार्य किया है़। आज काला नमक चावल का निर्यात विदेशों को भी किया जा रहा है़। कपिलवस्तु विधायक श्याम धनी राही ने कहा कि जनपद का विकास तेजी से हो रहा है़। डुमरियागंज विधायक राघवेंद्र प्रताप सिंह ने आगंतुकों के प्रति आभार व्यक्त किया। प्रगतिशील किसान डा . महेंद्र पांडेय ने कालानमक पर गीत सुनाए।

सोहना कृषि विज्ञान केंद्र ने विकसित की नई प्रजाति

इसके पूर्व अंतरराष्ट्रीय राइस रिसर्च सेंटर के वैज्ञानिक डा . विवेक कुमार सिंह व डा . अजय मिश्रा ने बताया कि सोहना कृषि विज्ञान केंद्र द्वारा विकसित कालानमक धान की प्रजातियों को परखा है़। दो प्रजातियों के बीज अभी परीक्षण के अधीन हैं। भारतीय कृषि अनुसंधान केंद्र के डा. वैभव ने कालानमक धान की उपज बढ़ाने, सुगंध बनाए रखने, उत्पादन लागत कम करने व बेहतर बाजार की उपलब्धता पर अपने विचार व्यक्त किए। इस दौरान भाजपा जिलाध्यक्ष गोविंद माधव, कपिलवस्तु विधानसभा प्रभारी अखिलेश मणि त्रिपाठी, आशीष शुक्ला, कृषि वैज्ञानिक डा . एसएन सिंह, डा . एसके मिश्रा, डा . मार्कण्डेय, डा . प्रदीप कुमार, डा . विजय कुमार सिंह आदि मौजूद रहे। 

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.