कोरोना वायरस के नए स्ट्रेन की जांच को भेजे गए सौ नमूने Gorakhpur News

कोरोना वायरस के किस स्ट्रेन ने जिले के लोगों को संक्रमित कर तबाही मचाई थी इसका पता अभी तक नहीं चल सका है। स्ट्रेन के बारे में जानकारी जुटाने के लिए 100 नमूने जांच के लिए देश के विभिन्न संस्थानों में भेजे गए लेकिन रिपोर्ट नहीं आ सकी है।

Pradeep SrivastavaThu, 24 Jun 2021 12:10 PM (IST)
गोरखपुर में तबाही मचाने वाले कोरोना वायरस के स्ट्रेन का जांच के बाद भी पता नहीं चल सका।

गोरखपुर, गजाधर द्विवेदी। कोरोना के किस स्ट्रेन ने जिले के लोगों को संक्रमित कर तबाही मचाई थी, इसका पता अभी तक नहीं चल सका है। स्ट्रेन के बारे में जानकारी जुटाने के लिए चार माह में 100 नमूने जांच के लिए देश के विभिन्न संस्थानों में भेजे गए, लेकिन अभी तक किसी की रिपोर्ट नहीं आ सकी है। इस माह फिर 15 नमूने भेजने की तैयारी चल रही है।

नए स्ट्रेन का पता लगाने के लिए भेजे गए सौ नमूने

बाबा राघव दास मेडिकल कालेज (बीआरडी) के माइक्रोबायोलाजी विभाग ने पांच बार व क्षेत्रीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान केंद्र (आरएमआरसी) ने तीन बार नमूने भेजे हैं। माइक्रोबायोलाजी विभाग ने पहली व दूसरी बार मार्च में क‍िंग जार्ज मेडिकल यूनिवर्सिटी (केजीएमयू) लखनऊ में चार नमूने भेजे थे। वहां से नमूनों के खराब होने की सूचना आ गई। इसके बाद तीन बार नमूने दिल्ली स्थित इंस्टीट्यूट आफ जीनोमिक्स एंड इंटीग्रेटिव बायोलाजी (आइजीआइबी) में भेजे गए।

अभी तक नहीं आई कहीं से जांच रिपोर्ट

इसके अलावा आरएमआरसी तीन बार नेशनल इंस्टीट्यूट आफ वायरोलाजी (एनआवी), पुणे में नमूने भेज चुका। ताकि पता चल सके कि कौन सा स्ट्रेन जिले में आया है और समय रहते उसकी रोकथाम हो सके। लेकिन दबे पांव आया कोरोना उत्पात मचाकर जाने की तैयारी में है, लेकिन अभी तक दोनों संस्थान जांच रिपोर्ट का इंतजार कर रहे हैं।

फ‍िर भेजे जाएंगे 15 नमूने

बीआरडी मेडिकल कालेज के माइक्रोबायोलाजी विभाग से गुरुवार को 15 नमूने भेजे जाएंगे। नमूने तैयार कर लिए गए हैं। उनकी पैङ्क्षकग हो गई हैं। विभागाध्यक्ष डा. अमरेश ङ्क्षसह ने बताया कि गुरुवार को दोपहर बाद नमूने भेज दिए जाएंगे।

भेजे गए 25 से कम सीटी वैल्यू के नमूने

कोरोना के नए स्ट्रेन का पता लगाने के लिए जिन मरीजों के नमूने भेजे गए हैं, उनकी रीयल टाइम पालीमरेज चेन रियेक्शन (आरटीपीसीआर) जांच की सीटी वैल्यू 25 या उससे कम रही है। जिन मरीजों की सीटी वैल्यू 25 से नीचे होती, उनमें वायरस लोड अधिक होता है।

बीआरडी से भेजे गए नमूने

मार्च- 04

अप्रैल- 09

मई- 22

जून- 15

आरएमआरसी से भेजे गए नमूने

मार्च- 05

अप्रैल- 15

मई- 30

केजीएमयू से तो नमूनों के खराब होने की सूचना आ गई थी। लेकिन आइजीआइबी से जब पूछा जा रहा है तो काम के दबाव होने की बात कही जा रही है। उम्मीद है कि शीघ्र ही जांच रिपोर्ट आ जाएगी। - डा. अमरेश स‍िंह, अध्यक्ष, माइक्रोबायोलाजी विभाग, बीआरडी मेडिकल कालेज।

एनआइवी, पुणे में नमूनों की जांच शुरू हो गई है। इसके बाद उसका अध्ययन किया जाएगा। अध्ययन के बाद ही वहां से रिपोर्ट आएगी। इसे आने में 15 से 20 दिन का समय लग सकता है। - डा. हीरावती, वायरोलाजिस्ट, आरएमआरसी। 

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.