जेल में गैंगस्टर के पास मिला एंड्रायड मोबाइल, सिम गायब

एक दिन पूर्व वीडियो वायरल होने के बाद सख्त हुआ जेल प्रशासन जेलर ने गैंगस्टर व हत्यारोपित के खिलाफ दर्ज कराया मुकदमा

JagranSun, 20 Jun 2021 05:54 AM (IST)
जेल में गैंगस्टर के पास मिला एंड्रायड मोबाइल, सिम गायब

जागरण संवाददाता, देवरिया:

जिला कारागार की बैरक में हत्यारोपित के मोबाइल से बातचीत करने का वीडियो इंटरनेट मीडिया पर वायरल होने के बाद जेल प्रशासन सख्त हो गया है। शनिवार को बैरक की तलाशी के दौरान कुशीनगर जनपद के रहने वाले एक गैंगस्टर के पास से एंड्रायड मोबाइल बरामद किया गया। मोबाइल से सिम गायब मिला। इस मामले में जेलर ने कोतवाली में गैंगस्टर व उसके सहयोगी हत्यारोपित के खिलाफ जेल अधिनियम के तहत मुकदमा दर्ज कराया है।

शुक्रवार को जेल के एक बैरक के चार बंदियों की बातचीत का वीडियो इंटरनेट मीडिया पर 31 सेकेंड का वायरल हो गया। वीडियो में एक बंदी मोबाइल पर बात कर रहा है। अन्य तीन बंदी आसपास लेटे हैं। कारागार प्रशासन की तलाशी में हत्यारोपित बंदी रतन उर्फ अम्बुज यादव के पास से मोबाइल बरामद हुआ। इस मामले में पुलिस ने मुकदमा दर्ज किया है। इस घटना के 24 घंटे के भीतर शनिवार को जेल प्रशासन ने रतन यादव की बैरक की एक बार फिर तलाशी कराई। तलाशी के दौरान साथ रह रहा कुशीनगर जनपद के तरयासुजान थाना क्षेत्र के ग्राम जबही का रहने वाला गैंगस्टर शिट्टू उर्फ नंदकिशोर सिंह के पास से एंड्रायड मोबाइल बरामद कर किया। मोबाइल में सिम नहीं मिला। जेल प्रशासन ने सख्ती से पूछताछ की, लेकिन उसने कुछ नहीं बताया। जेलर जेपी त्रिपाठी ने गैंगस्टर नंदकिशोर व बरहज के अमांव का रहने वाला हत्यारोपित बंदी रतन के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया है। कोतवाल राजू सिंह ने कहा कि जेल से दो दिनों में बरामद किए गए दो मोबाइल के मामले में दो मुकदमे दर्ज किए गए हैं। इसकी विवेचना शुरू कर दी गई है। डीआइजी जेल पहुंचे जिला जेल, वीडियो वायरल के मामले की जांच की जागरण संवाददाता, देवरिया:

जिला कारागार से बंदी के मोबाइल पर बात करने का वीडियो वायरल होने के बाद शासन स्तर से पूछताछ शुरू हो गई है। मामला गंभीर होता देख डीआइजी जेल डा.रामधनी शनिवार की शाम जिला जेल पहुंचे और पूरे मामले की जानकारी ली। तीन घंटे तक डीआइजी कारागार में ही जमे रहे।

एक दिन पूर्व जेल के एक बैरक में बंदी के मोबाइल पर बात करने का वीडियो वायरल हुआ। तलाशी के दौरान दो मोबाइल बरामद की गई है। डीआइजी जेल शनिवार को कारागार पहुंचे और जेल अधीक्षक केपी त्रिपाठी तथा जेलर जेपी त्रिपाठी से घंटों बातचीत की। इसके बाद वह बैरक संख्या 17 पहुंचे और बंदी रतन तथा शिट्टू से पूछताछ किए। हालांकि बंदी डीआइजी के सवालों का जवाब देने से कतराते रहे। माना जा रहा है कि इस मामले में कई कर्मचारियों पर कार्रवाई की गाज गिर सकती है।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.