top menutop menutop menu

सवेरा योजना : बुजुर्गों के पंजीकरण में घटी दिलचस्पी, रैंकिंग में 35वें नबर पर पहुंचा जिला Gorakhpur News

गोरखपुर, जेएनएन। महराजगंज में पुलिस बुजुर्गों का सहारा बने, यह उम्मीद धराशायी होती दिख रही है। सवेरा योजना के तहत वरिष्ठ नागरिकों के पंजीकरण में पुलिस की दिलचस्पी कम होने से समस्या खड़ी हो गई है। इस लापरवाही से जिले की रैंकिंग नीचे आ गई। अब इसमें सुधार को जोर आजमाइश शुरू हो गई है। डीजीपी के फरमान के बाद सिर्फ दो हजार वरिष्ठ नागरिकों का पंजीकरण हो पाया है।

क्या है सवेरा योजना

वरिष्ठ नागरिकों की सुरक्षा के लिए पुलिस ने सवेरा स्कीम की शुरूआत की। डीजीपी ओपी सिंह की ओर वरिष्ठ नागरिकों के पंजीकरण के लिए कहा। थानों में सवेरा सेल का गठन किया गया। यहां उप निरीक्षक सहित चार पुलिसकर्मी तैनात किए गए। इसके अलावा बीट के सिपाही क्षेत्र में मौजूद बुजुर्गों का पंजीकरण कर आनलाइन करेंगे। परेशानी होने पर जैसे ही बुजुर्ग 112 नंबर डायल करेंगे। वैसे ही पुलिस मदद के लिए पहुंच जाएगी। डीजीपी का यह फरमान महराजगंज जिले में दम तोड़ता नजर आ रहा है।

रैकिंग से मची खलबली

यूपी सरकार की ओर से रैंकिंग जारी की गई। जिसमें गोरखपुर जोन की स्थिति भी कुछ अच्छी नहीं रही। सवेरा स्कीम में सबसे अधिक वरिष्ठ नागरिकों के पंजीकरण बदायू जिले में हुआ। रैंकिंग में जिले को पहला स्थान मिला। जबकि सोनभद्र दूसरे, एटा तीसरे, सिद्धार्थनगर चौथे व औरैया पांचवे स्थान पर रहे। महराजगंज जिला 35वें स्थान पर रहा। रैंकिंग सुधारने के लिए पुलिस मुख्यालय की ओर से निर्देशित किया गया। एसपी रोहित सिंह सजवान ने वरिष्ठ नागरिकों के पंजीकरण के लिए थानों को कहा है।

इसमें और सुधार की जरूरत

इस संबंध में पुलिस अधीक्षक रोहित सिंह सजवान का कहना है कि करीब दो हजार वरिष्ठ नागरिकों का पंजीकरण हो पाया है। रैंकिंग में जिला 35वें नंबर है। इसमें और सुधार की जरूरत है। इसके लिए अधिक पंजीकरण के लिए कहा गया है। ताकि पुलिस बुजुर्गों की समस्या का समाधान कर सके।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.