गोली से घायल पूर्व प्रधान की मौत, ग्रामीणों ने चौकी का किया घेराव, चौकी इंचार्ज निलंबित Gorakhpur News

महुआडाबर चौकी पर ग्रामीणों से बातचीत करते एसपी दक्षिणी एके सिंह। जागरण

महुआडाबर चौकी अंतर्गत ग्रामसभा मिश्रौलिया के पूर्व प्रधान व प्रधान पद प्रत्याशी राघवेंद्र उर्फ गिलगिल दूबे की सोमवार शाम केजीएमयू में मौत हो गई। बीते 14 अप्रैल को ग्रामसभा के एक अन्य प्रधान प्रत्याशी शंभू यादव ने उन्हें गोली मार दी थी।

Rahul SrivastavaTue, 20 Apr 2021 06:30 AM (IST)

गोरखपुर, जेएनएन : खजनी थाना क्षेत्र के महुआडाबर चौकी अंतर्गत ग्रामसभा मिश्रौलिया के पूर्व प्रधान व प्रधान पद प्रत्याशी राघवेंद्र उर्फ गिलगिल दूबे की सोमवार शाम किंग जार्ज मेडिकल यूनिवर्सिटी (केजीएमयू) में मौत हो गई। बीते 14 अप्रैल को ग्रामसभा के एक अन्य प्रधान प्रत्याशी शंभू यादव ने उन्हें गोली मार दी थी। उनकी मौत की सूचना पर ग्रामीणों ने देर शाम महुआडाबर चौकी का घेराव किया। एसएसपी ने महुआडाबर चौकी इंचार्ज को निलंबित कर दिया है।  

राघवेंद्र व शंभू यादव में हुआ था विवाद

बुधवार रात करीब दस बजे वोट मांगने को लेकर 50 वर्षीय राघवेंद्र दुबे उर्फ गिलगिल व शंभू यादव के बीच में विवाद हुआ था। शंभू ने समर्थकों के साथ राघवेंद्र को गोली मार दी थी। गोली उनके पेट में दाईं तरफ लगी थी। उन्हें नजदीकी स्वास्थ्य केंद्र ले जाया गया, जहां से राघवेंद्र को मेडिकल कालेज रेफर कर दिया गया था। 16 अप्रैल को उन्हें केजीएमयू ले जाया गया। 17 अप्रैल को उनका केजीएमयू में आपरेशन हुआ था। राघवेंद्र की मौत को लेकर गांव में सन्नाटा पसरा हुआ है। स्वजन लखनऊ से शव लेकर मिश्रौलिया के लिए निकल चुके हैं। पुलिस ने घटना के दिन ही शंभू यादव को हिरासत में ले लिया था, लेकिन उसे चार दिन बाद जेल भेजा है। राघवेंद्र के स्वजन पुलिस की भूमिका पर सवाल भी उठाने लगे थे। हालांकि पुलिस ने बताया कि घटना में प्रयुक्त असलहा बरामद करने के लिए वह शंभू से पूछताछ में जुटी थी। राघवेंद्र की मौत की सूचना पर गांव में थानाध्यक्ष मृत्युंजय राय भी हमराहियों के साथ पहुंच गए हैं।

आक्रोशित ग्रामीणों ने किया चौकी का घेराव, इंचार्ज निलंबित

मिश्रौलिया में पूर्व प्रधान व प्रधान प्रत्याशी राघवेंद्र दुबे की मौत को लेकर आक्रोशित ग्रामीणों ने शाम करीब सात बजे से महुआडाबर चौकी का घेराव किया। चौकी इंचार्ज पर आरोप लगाया कि उनकी लापवाही से यह घटना घटी है। घटना के दिन राघवेंद्र को कुछ पूर्व में आशंका थी। उन्होंने इसे लेकर चौकी इंचार्ज के फोन पर इसकी शिकायत की थी, लेकिन उन्होंने इसकी अनदेखी की। इस दौरान एसपी साउथ एके सिंह ग्रामीणों को समझाने में जुटे रहे, लेकिन ग्रामीण उनकी बात मानने को तैयार नहीं थे। ग्रामीणों का पक्ष सुनने के बाद उन्होंने इसकी जानकारी एसएसपी को दी। एसएसपी दिनेश कुमार पी ने कार्य में लापरवाही मानते हुए चौकी इंचार्ज महुआडाबर भागवत चौधरी को निलंबित कर दिया। साथ ही विभागीय जांच भी शुरू करा दी है।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.