घर बैठे परीक्षा लेने वाला देश का पहला विश्वविद्यालय बनेगा डीडीयू, ऐसे होगी परीक्षा Gorakhpur News

गोरखपुर विश्वविद्यायल शोध पात्रता परीक्षा ऑनलाइन करवाने जा रहा है। - प्रतीकात्‍मक तस्‍वीर

गोरखपुर विश्वविद्यायल की ओर से आयोजित होने वाली शोध पात्रता परीक्षा 2020-21 को अभ्यर्थी घर बैठ कर ही देंगे क्योंकि विश्वविद्यालय यह परीक्षा आनलाइन कराने जा रहा है। 10 जनवरी को आयोजित होने वाली इस परीक्षा की विश्वविद्यालय प्रशासन ने पूरी तैयारी कर ली है।

Pradeep SrivastavaWed, 06 Jan 2021 12:25 PM (IST)

गोरखपुर, जेएनएन। दीनदयाल उपाध्याय गोरखपुर विश्वविद्यायल की ओर से आयोजित होने वाली शोध पात्रता परीक्षा 'रेट' (2020-21) को अभ्यर्थी घर बैठ कर ही देंगे क्योंकि विश्वविद्यालय यह परीक्षा आनलाइन कराने जा रहा है। 10 जनवरी को आयोजित होने वाली इस परीक्षा की विश्वविद्यालय प्रशासन ने पूरी तैयारी कर ली है। विश्वविद्यालय का यह दावा है कि घर बैठे परीक्षा में सम्मिलित होने का अवसर देने वाला गोरखपुर विश्वविद्यालय देश का पहला विश्वविद्यालय होगा। रेट के लिए विश्वविद्यालय होम बेस्ड रिमोट प्राक्टर्ड विधि का इस्तेमाल करेगा। परीक्षा में कुल पांच हजार विद्यार्थी शामिल होंगे। कुलपति प्रो. राजेश सिंह ने बताया कि परीक्षा की शुचिता को बनाए रखने के लिए आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस के साथ ह्यूमन प्राक्टङ्क्षरग का इस्तेमाल किया जाएगा।

70 सवालों के लिए मिलेंगे डेढ़ घंटे

रेट का प्रश्नपत्र डेढ़ घंटे का होगा। इस दौरान हल करने के लिए अभ्यर्थियों को 70 बहुविकल्पीय प्रश्न दिए जाएंगे। 35 वसवाल रिसर्च मेथोडोलाजी से होंगे जबकि 35 सवाल विषय से पूछे जाएंगे। अभ्यर्थी लैपटाप, डेक्सटाप या मोबाइल फोन से परीक्षा दे सकते हैं। इसके लिए अभ्यर्थियों को पोर्टल पर पंजीकरण कराना होगा। अभ्यर्थियों को यूजर आइडी और पासवर्ड की सूचना ई-मेल और एसएमएस के माध्यम से दी जाएगी। निर्धारित तिथि और समय पर अभ्यर्थियों को यूजर आइडी और पासवर्ड से लागिन करना होगा। यदि अभ्यर्थी परीक्षा देने के लिए मोबाइल फोन का इस्तेमाल करते हैं तो उन्हें एक अतिरिक्त स्मार्ट फोन रखना होगा। जिससे वह एक फोन से कैमरा और माइक्रोफोन को आन करके गूगल मीट से जुड़ सकें और दूसरे फोन से परीक्षा में शामिल हो सकें। परीक्षा का समय पूरा होने पर अभ्यर्थी को अपना उत्तर जमा करने के लिए सबमिट बटन पर क्लिक करना होगा। निर्धारित समय सीमा के बाद सबमिशन स्वीकार नहीं होगा।

कैमरे से हुई छेड़छाड़ तो परीक्षा से होंगे निष्कासित

कुलपति ने बताया कि परीक्षा के दौरान अभ्यर्थी को बोलने या बात करने की अनुमति नहीं होगी। यदि अभ्यर्थी कैमरे के साथ कोई छेड़छाड़ करता है तो उनको परीक्षा से निष्कासित करने का निर्णय तत्काल ले लिया जाएगा।

परीक्षा देने से पहले पूरी करनी होगी यह औपचारिकता

अभ्‍यर्थियों को अपना स्कैन किया हुआ फोटो पहचान पत्र, रेट पंजीकरण संख्या के साथ विश्वविद्यालय की मेल आईडी \क्रस्रस्रह्वद्दह्वह्म्द्गह्ल२०२०२०२१ञ्चद्दद्वड्डद्बद्य. ष्शद्व पर प्रेषित करना होगा। उन्हें परीक्षा शुरू होने से आधा घंटा पहले लागिन करना होगा। उन्हेंं अपने दस्तावेजों की हार्डकापी पहचान के लिए कैमरे पर दिखाना होगा। सत्यापन के बाद ही अभ्यर्थी को परीक्षा में शामिल होने का मौका मिलेगा। परीक्षा में शामिल होने के दौरान इस बात का खास ख्याल रखना होगा कि उनका चेहरा स्पष्ट रूप से दिखाई दे।

इसे लेकर बरतनी होगी विशेष सतर्कता

अभ्यर्थी को परीक्षा के दौरान लैपटाप/डेस्कटाप/मोबाइल के कैमरे के सामने बैठना होगा।

चेहरा स्पष्ट दिखे, इसके लिए कमरे में प्रकाश की व्यवस्था रखनी होगी।

परीक्षा के दौरान अभ्यर्थी के आसपास कोई न रहे, यह सुनिश्चित करना होगा।

परीक्षा के दौरान अभ्यर्थी बाथरूम जाने के लिए ब्रेक नहीं ले सकेंगे।

परीक्षा देते समय मोबाइल, लैपटाप या डेस्कटाप पर किसी अन्य विंडो को नहीं खोलना होगा।

यह सुनिश्चित करना होगा कि परीक्षा देने के लिए इस्तेमाल किए जाने वाले नेटवर्क में डाटा दो जीबी से कम न हो और स्पीट कम से कम 5 एमबीपीएस हो।

परीक्षा में शामिल होने के लिए अभ्यर्थी को वही फोटो पहचान पत्र दिखाना होगा, जिसे अभ्यर्थी ने स्कैन करके ई-मेल पर भेजा होगा।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.