पंचायत चुनाव में चौकीदार की मदद से करेंगे क्राइम कंट्रोल Gorakhpur News

चौकीदारों की साइकिल की मरम्मत व टार्च खरीदने के लिए चौकीदारों के खाते में 9.47 लाख रुपये भेजे गए हैं।

पंचायत चुनाव में चौकीदार की मदद से पुलिस क्राइम कंट्रोल करेगी। डीआइजी/एसएसपी ने इसका खाका तैयार किया है। पुलिस के साथ ही हर छोटी बड़ी सूचना पर चौकीदार नजर रखेंगे। थानेदार सूचना को अपनी गोपनीय डायरी में दर्ज करेंगे।

Publish Date:Sun, 17 Jan 2021 06:00 PM (IST) Author: Rahul Srivastava

गोरखपुर, जेएनएन : पंचायत चुनाव में चौकीदार की मदद से पुलिस क्राइम कंट्रोल करेगी। डीआइजी/एसएसपी ने इसका खाका तैयार किया है। पुलिस के साथ ही हर छोटी बड़ी सूचना पर चौकीदार नजर रखेंगे। थानेदार सूचना को अपनी गोपनीय डायरी में दर्ज करेंगे और सत्यापन कराकर आवश्यक कार्रवाई करेंगे। जिले के 25 थानाक्षेत्र में कुल 1285 चौकीदार हैं। चुनाव में चौकीदार की मदद के लिए पहले से तैयारी भी की जा रही है।

साइकिल की मरम्मत व टार्च के लिए 9.47 लाख रुपये

साइकिल की मरम्मत व टार्च खरीदने के लिए चौकीदारों के खाते में 9.47 लाख रुपये भेजे गए हैं। चौकीदार की नियुक्ति ही गांव में होने वाली गतिविधियों की जानकारी के लिए होती है, लेकिन इसका इस्तेमाल पुलिस कम ही कर पाती है। इसको देखते हुए डीआइजी/एसएसपी जोगेंद्र कुमार ने चौकीदारों की जिम्मेदारी तय कर दी है। पंचायत चुनाव के दौरान उनसे क्या काम लेना है सीओ व थानेदार को बताया गया है। चौकीदार गांव के होते है इस वजह से उन्हें हर गतिविधि की जानकारी रहती है लेकिन उपेक्षा होने की वजह से सूचना थाने तक नहीं पहुंचाते। इसलिए सभी से कहा गया है कि गांव में अपने सूचनातंत्र को मजबूत करें।

अगले सप्ताह से शुरू होगी बैठक 

सीओ व थानेदार अगले सप्ताह से थाने पर चौकीदार के साथ बैठक करेंगे। पंचायत चुनाव के दौरान कैसे काम करना है इसकी जानकारी देंगे। सभी चौकीदार रोटेशन के हिसाब से सप्ताह में एक दिन थाने पहुंचकर थानेदार को गांव में चल रही गतिविधि की जानकारी देंगे। अधिकारी अपने स्त्रोत से सूचना को तस्दीक करेंगे। सही मिलने पर समय रहते निरोधात्मक कार्रवाई करेंगे।

चौकीदारों की तय की जाएगी जिम्‍मेदारी

डीआइजी/एसएसपी जोगेंद्र कुमार ने बताया कि पंचायत चुनाव में चौकीदारों की जिम्मेदारी तय की जाएगी। सप्ताह में एक दिन थाने आकर वे गांव में चल रही गतिविधि की जानकारी थानेदार को देंगे। जिसे तस्दीक कराया जाएगा। मामला सही मिलने पर समय रहते पुलिस कार्रवाई करेगी। चौकी प्रभारी, हल्का दारोगा व सिपाही भी अपने स्तर से नजर रखेंगे।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.