top menutop menutop menu

Coronavirus : सिद्धार्थनगर में भी कोरोना का खतरा, हसनैन के जनाजे में शामिल व्‍यक्ति की रिपोर्ट पॉजिटिव Siddharthnagar News

सिद्धार्थनगर, जेएनएन। सिद्धार्थनगर जिले के इटवा तहसील क्षेत्र में एक व्यक्ति की कोरोना रिपोर्ट स्क्रीन पॉजिटिव (संदिग्ध) आई है। जिसको लेकर स्वास्थ्य विभाग व प्रशासनिक अमले में हड़कंप मच गई है। क्योंकि अभी तक इस जनपद में एक भी ऐसा मामला सामने नहीं आया था। संदिग्ध व्यक्ति बिस्कोहर निवासी है। मरीज पहले से जिला अस्पताल में क्वारंटाइन है।

बस्‍ती के हसनैन की हुई थी कोरोना से मौत

बस्ती में कोरोना से हसनैन की मौत हुई थी। जिसकी मिट्टी में शामिल होने के लिए बिस्कोहर से दो लोग गए थे। जानकारी होने पर उक्त दोनों सहित परिवार के कुल 15 लोगों को कोरांटाइन एवं जांच हेतु जिले पर भेजा गया था। हालांकि जो लोग मिट्टी में गए थे, उनकी और अन्य सदस्यों की रिपोर्ट निगेटिव आई थी। मगर रात में एक की रिपोर्ट संदिग्ध पॉजिटिव आई है। जिसको लेकर हड़कंप मच गया। सुबह से ही प्रशासनिक अधिकारियों का बिस्कोहर में जमावड़ा लगने लगा है। उक्त मुहल्ले के आसपास दो सौ मीटर दूरी के इलाके को सील कर दिया गया है। एसडीम विकास कश्यप ने कहा कि जो रिपोर्ट आई है। उसमें एक संदिग्ध पॉजिटिव मिला है। शीघ्र ही स्थिति स्पष्ट हो सकेगी।

आइसोलेशन वार्ड में भर्ती महिला की मौत

बाबा राघवदास मेडिकल कॉलेज गोरखपुर में कोरोना के मद्देनजर बने आइसोलेशन वार्ड में भर्ती महराजगंज की एक महिला की इलाज के दौरान मौत हो गई। परिजन शव लेकर चले गए। महिला का कोरोना संक्रमण जांच के लिए सैंपल नहीं लिया गया। मृत्यु प्रमाण-पत्र में दिल व फेफड़े का अटैक बताया गया है। महराजगंज के नौतनवां निवासी अमीनल हक अपनी पत्नी जुबैदा खातून को लेकर सोमवार की रात मेडिकल कॉलेज पहुंचे। उन्हें सांस लेने में परेशानी हो रही थी। मेडिसिन विभाग में जांच के बाद डॉक्टरों ने उन्हें सुपर स्पेशलिटी में बने आइसोलेशन वार्ड में भेज दिया। इलाज शुरू होने के करीब आधे घंटे बाद महिला की हालत बिगडऩे लगी। थोड़ी देर बाद उनकी मौत हो गई। प्राचार्य डॉ. गणेश कुमार ने कहा कि महिला बेहद गंभीर स्थिति में यहां आई थीं। उन्हें बचाने का पूरा प्रयास किया गया। उन्हें सीओपीडी (सांस की बीमारी) थी। साथ ही उनके दोनों गुर्दे खराब थे। कोरोना संक्रमण के लक्षण उनमें नहीं थे, इसलिए सैंपल नहीं लिया गया। यह पूछने पर कि उन्हें कोरोना के आइसोलेशन वार्ड में भर्ती क्यों किया गया तो प्राचार्य ने कहा कि अब हर सांस के मरीज को वहीं भर्ती किया जा रहा है।

अमेरिका में बाघिन के संक्रमण की सूचना पर सोहगीबरवा में अलर्ट

अमेरिका के न्यूयार्क के चिडिय़ाघर में बाघिन के कोरोना संक्रमण की पुष्टि होने के बाद सोहगीबरवा वन्य जीव प्रभाग में भी अलर्ट घोषित हो गया है। वनकर्मियों को सैनिटाइजर का प्रयोग करने व मास्क पहनकर जंगल में जाने का निर्देश दिया गया है। जंगल के बीच रहने वाले लोगों को भी सिर्फ एक निर्धारित रास्ते का ही उपयोग करने को कहा गया है। सोहगीबरवा में बाघ, तेंदुआ सहित कई वन्य जीव विचरण करते हैं। ऐसे में इनकी सुरक्षा को लेकर विभाग ने विशेष एडवाइजरी जारी की है। डीएफओ (प्रभागीय वनाधिकारी) पुष्प कुमार के. ने पत्र जारी कर वन्यजीवों की सुरक्षा के लिए निर्देश दिया है। उन्होंने कहा कि कोई भी व्यक्ति वन क्षेत्र में खाना न फेंकने पाए, इसकी नियमित निगरानी हो। सोहगीबरवा प्रभाग की सीमा बिहार के वाल्मीकि नगर टाइगर रिजर्व फारेस्ट व नेपाल के चितवन नेशनल पार्क से जुड़ी हुई है। ऐसे में तीनों वनक्षेत्रों के जानवर एक-दूसरे जंगल में विचरण करते रहते हैं।

वन्यजीवों में कोरोना संक्रमण की स्थिति उत्पन्न न होने पाए, इसके लिए विशेष सतर्कता बरती जा रही है। वनकर्मियों को इस संबंध में विशेष  निर्देश दिए गए हैं। - पुष्प कुमार के., डीएफओ सोहगीबरवा वन्य जीव प्रभाग। 

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.