पीएम की होर्डिंग पर कालिख पोतने वाले कांग्रेसियों को मिली जमानत, पूर्व सांसद के पौत्र की तलाश में छापेमारी

पीएम की होर्डिंग पर कालिख पोतने वाले कांग्रेस कार्यकर्ताओं को जमानत मिल गई। - प्रतीकात्‍मक तस्‍वीर

गोरखपुर में प्रधानमंत्री की होर्डिंग से बदसुलूकी के आरोप में गिरफ्तार चार कांग्रेसियों को मंगलवार को कोर्ट से जमानत मिल गई। उन्हें 20-20 हजार रुपये के निजी मुचलके पर छोड़ा गया। 10 अन्य आरोपित कांग्रेसियों की तलाश में मंगलवार को कोतवाली पुलिस ने कई जगह छापेमारी की।

Pradeep SrivastavaWed, 03 Mar 2021 12:31 PM (IST)

गोरखपुर, जेएनएन। प्रधानमंत्री की होर्डिंग से बदसुलूकी के आरोप में गिरफ्तार चार कांग्रेसियों को मंगलवार को कोर्ट से जमानत मिल गई। उन्हें 20-20 हजार रुपये के निजी मुचलके पर छोड़ा गया। 10 अन्य आरोपित कांग्रेसियों की तलाश में मंगलवार को कोतवाली पुलिस ने कई जगह छापेमारी की। आरोपितों में पूर्व सांसद स्व. नरसिंह नारायण पांडेय के पौत्र रोहन पांडेय भी हैं। हालांकि आरोपित ज्यादातर कांग्रेसी मंगलवार को स्वागत समारोह में मौजूद थे।

प्रधानमंत्री की होर्डिंग से की थी बदसुलूकी

पेट्रोलियम पदार्थों की कीमतों में वृद्धि के खिलाफ महानगर कांग्रेस कमेटी ने सोमवार दोपहर एक बजे बेतियाहाता स्थित भारत पेट्रोल पंप के सामने प्रदर्शन किया था। बाद में यूथ कांग्रेस के पदाधिकारियों व सदस्यों ने पेट्रोल पंप पर लगी प्रधानमंत्री की होर्डिंग पर जला मोबिल पोत दिया। इसकी जानकारी मिलते ही कोतवाली पुलिस मौके पर पहुंची और होर्डिंग को साफ कराया। इसके बाद पुलिस ने महानगर कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष आशुतोष तिवारी, यूथ कांग्रेस के जिलाध्यक्ष अभिजीत पाठक, अनुसूचित विभाग के प्रदेश सचिव अमित कनौजिया, प्रदेश महासचिव सुमित पांडेय को गिरफ्तार कर लिया।

यह बनाए गए हैं आरोपित

आशुतोष तिवारी, अभिजीत पाठक, अमित कनौजिया, सुमित पांडेय, रोहन पांडेय, श्याम शरण, मो. अरशद, दिलीप निषाद, निर्मला वर्मा, कुसुम पांडेय, प्रभात चतुर्वेदी, जितेंद्र विश्वकर्मा, आशीष प्रताप सिंह, अनिल दुबे शामिल हैं।

कांग्रेसियों ने किया स्वागत

कोर्ट से जमानत मिलने के बाद कांग्रेसियों ने पदाधिकारियों का स्वागत किया। प्रमुख प्रवक्ता दिलीप निषाद ने बताया कि वरिष्ठ अधिवक्ता व बार काउंसिल के सदस्य व कांग्रेस के पूर्व विधानसभा प्रत्याशी मधुसूदन त्रिपाठी व अन्य अधिवक्ताओं की दलील पर सभी को कोर्ट ने जमानत दे दी। जिलाध्यक्ष निर्मला पासवान ने कहा कि प्रशासन के दम पर जनता की आवाज को दबाने की कोशिश की जा रही है। इस दौरान त्रिभुवन नरायण मिश्र, अरुण कुमार अग्रहरी, अनवर हुसैन, जितेंद्र पांडेय, महेंद्र मोहन तिवारी, सुरेश प्रसाद चौधरी, विजेंद्र तिवारी, अमित शुक्ल, आत्माराम दूबे, नेहा कन्नौजिया, विनोद जोजफ, अमरजीत यादव, मदन त्रिपाठी, उदयवीर सिंह, बादल चतुर्वेदी, राजेंद्र यादव, डा. पीएन भट्ट आदि मौजूद रहे।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.