CM योगी आदित्‍यनाथ की निर्माण श्रमिकों को सौगात, खाते में पहुंचा एक-एक हजार

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का श्रमिकों से संवाद का कार्यक्रम गोरखपुर समेत मेरठ कानपुर झांसी वाराणसी और हमीरपुर में प्रस्तावित था। अन्य जनपदों के श्रमिकों से मुख्यमंत्री ने बात की लेकिन तकनीकी दिक्कत के चलते गोरखपुर के श्रमिक भीम प्रताप पुत्र साधु शरण से संवाद नहीं कर सकें।

Satish Chand ShuklaThu, 10 Jun 2021 01:09 PM (IST)
मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ की फाइल फोटो, जेएनएन।

गोरखपुर, जेएनएन। प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने गोरखपुर मंडल के 131109 निर्माण श्रमिकों के खाते में एक-एक हजार रुपये आनलाइन स्थानांतरित कर दिया। श्रमिकों को यह धनराशि श्रम विभाग के अधीन उप्र भवन एवं अन्य सन्निर्माण कर्मकार कल्याण बोर्ड के अंतर्गत श्रम विभाग की आपदा राहत सहायता योजना के अंतर्गत प्रदान किया गया है। लखनऊ से आनलाइन आयोजित कार्यक्रम के दौरान मुख्यमंत्री ने कई जनपदों के श्रमिकों से सीधा संवाद भी किया। इस दौरान उन्होंने उप्र राज्य सामाजिक सुरक्षा बोर्ड के पोर्टल का भी लोकार्पण किया।

जनपद में कार्यक्रम का आयोजन सांसद व विधायकों की मौजूदगी में एनआइसी सभागार व एपीसीओ इंफ्राटेक प्राइवेट लिमिटेड गोरखपुर लिंक एक्सप्रेस-वे, बेलघाट रोड ग्राम नकौड़ी में किया गया। जहां चयनित श्रमिकों को जनप्रतिनिधियों ने प्रमाण पत्र वितरित किया। नकौड़ी में गोरखपुर लिंक एक्सप्रेस-वे के निर्माण प्लांट पर खजनी के विधायक संत प्रसाद एवं जिलाधिकारी के.विजेंद्र पांडियन ने पांच चयनित श्रमिकों भीम प्रताप, विमला देवी, कुंती देवी, छोटू व केदार को प्रमाण पत्र सौंपा। इस दौरान डीएम ने सिकरीगंज बेलघाट 11 किलोमीटर डबल लेन सड़क के निर्माण कार्य को 15 दिन के अंदर पूर्ण कराने के लिए अधिकारियों को निर्देश दिए।

45 प्रकार के कर्मकारों का होता है पंजीयन

उप श्रमायुक्त अमित कुमार मिश्र ने बताया कि असंगठित कर्मकार सामाजिक सुरक्षा अधिनियम 2008 के अंतर्गत 45 प्रकार के कर्मकारों की श्रेणी धोबी, दर्जी, माली, मोची, नाई, रिक्शा चालक, बुनकर, फुटपाथ व्यापारी, ठेला लगाने वाले, समाचार पत्र वितरक के रोजगार में लगे कर्मकारों का पंजीयन 60 रुपये शुल्क जमा कर पांच वर्ष तक के लिए होता है। इसके तहत इन्हें मुख्यमंत्री जन आरोग्य योजना व मुख्यमंत्री दुर्घटना बीमा योजना का लाभ प्राप्त किया जा सकता है। कार्यक्रम में प्रमुख रूप से सदर सांसद रवि किशन शुक्ल, विधायक राधा मोहन दास अग्रवाल, विपिन सिंह, महेंद्र पाल सिंह, संगीता यादव, सीडीओ इंद्रजीत सिंह आदि मौजूद रहे।

जिले के श्रमिक से संवाद नहीं कर सके मुख्यमंत्री

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का श्रमिकों से संवाद का कार्यक्रम गोरखपुर समेत मेरठ, कानपुर, झांसी, वाराणसी और हमीरपुर में प्रस्तावित था। अन्य जनपदों के श्रमिकों से मुख्यमंत्री ने बात की, लेकिन तकनीकी दिक्कत के चलते गोरखपुर के श्रमिक भीम प्रताप पुत्र साधु शरण से संवाद नहीं कर सकें।

मंडल में इतने मजदूर हुए लाभान्वित

गोरखपुर जिले के 28850, कुशीनगर जिले के 42460, महराजगंज के 46030 और देवरिया जिले के 13589 मजदूर लाभान्वित हुए हैं।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.