गोरखपुर में साइकिल बाजार से आउट हुआ चाइना, कोरोना काल से बेहिसाब बिक्री

गोरखपुर में साइकिल से चलते लोगों का फाइल फोटो।
Publish Date:Tue, 29 Sep 2020 07:30 AM (IST) Author: Satish Shukla

गोरखपुर, जेएनएन। साइकिल कभी कम आय वाले लोगों की आवाजाही का प्रमुख साधन था, लेकिन कोरोना काल में स्वास्थ्य के प्रति जागरूकता कहें या मजबूरी, हर वर्ग के लोगों को साइकिल की सवारी खूब रास आ रही है। यही वजह है कि अब लोग शौक के लिए भी साइकिल खरीद रहे है। बीते तीन माह में साइकिल की बिक्री में 20 फीसदी तक बढ़ोतरी दर्ज की गई है। वहीं मांग के अनुरूप प्रोडक्शन न होने के कारण कीमतें भी पांच से आठ फीसद तक बढ़ी है। जनवरी तक चाइन से बड़ी मात्रा में साइकिल और उसके पार्ट्स आयात होते थे, लेकिन पहले कोरोना और फिर चीन से खराब हुए रिश्तों के कारण वहां से माल आना बंद हो गया। बड़े कारोबारियों ने चाइनीज साइकिल का आर्डर देना भी बंद कर दिया है।

15 सौ से लेकर 15 हजार तक की बिक रहीं साइकिलें

सुबह-सबेरे जिम में व्यायाम करने के शौकीन लोगों से लेकर अपने काम पर निकलने या जरूरी काम निपटाने के लिए भी लोग इन दिनों साइकिल का सहारा ले रहे हैं। स्कूल बंद होने के चलते बच्‍चों की साइकिल भी खूब बिकी। रेती रोड और मियां बाजार में साइकिल की लगभग सभी दुकानों पर पूरे दिन ग्राहक नजर आते हैं। किसी को 22 इंच की स्टैंडर्ड तो कोई एमटीबी रेंजर या एसएलआर पसंद कर रहा है। 15 सौ से लेकर 15 हजार रुपये तक की साइकिल आसानी से बिक रही है। शोरूम हिन्दुस्तान साइकिल के मालिक सौरभ सेठी ने बताया कि बिक्री में बढ़ोतरी से यह संकेत मिल रहा है कि शहरी लोग व्यायाम और छोटी दूरी तय करने के लिए साइकिल का इस्तेमाल कर रहे हैं। मांग बढऩे से साइकिल उद्योग को नई ऊर्जा मिली है। लुधियाना और पंजाब में फैक्ट्रियां 24 घंटे चल रही हैं। रेती स्थित पन्ना साइकिल स्टोर के मालिक शैलेश जायसवाल के मुताबिक मैंने अब तक अपने जीवन में साइकिल की इतनी मांग कभी नहीं देखी। खासकर ब'चों की (चार से लेकर दस साल) साइकिल सबसे ज्यादा बिक रही है। मंगलवार को दुकान बंद रहती है बावजूद इसके ग्राहक दुकान खोलने का दवाब बनाते हैं।

ऑनलाइन भी खूब बिक रहीं साइकिलें

सिर्फ दुकानों से नहीं बल्कि ऑनलाइन भी साइकिल की खूब बिक्री हो रही है। फ्लिपकार्ट, अमेजन, फस्टक्राई के अलावा दर्जनों ई-कामर्स कंपनियों से लोग साइकिल मंगवा रहे हैं। कूरियर का काम करने वाले संतोष के मुताबिक पहलेे कभी-कभार ही साइकिल आया करती थी, लेकिन अब प्रतिदिन 80 से लेकर 100 साइकिलें मंगवाई जा रही है। इनमें ब'चों के अलावा महंगी साइकिलें भी शामिल हैं।

चाइनीज आर्डर बंद, अब पंजाब और गाजियाबाद से आ रहा सामान

फिलहाल साइकिल और पार्ट्स लुधियाना, पंजाब और गाजियाबाद से आ रहा है। मांग को देखते हुए कई लोकल कंपनियों ने भी बाजार में दस्तक दी है। लोकल कंपिनयों की साइकिलें ब्रांडेड के मुकाबले 15 से 18 फीसद तक सस्ती हैं।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.