सीबीआइ ने लिए 19 लोगों के बयान, कागजात सहेजकर आज लखनऊ लौट जाएगी टीम

देवरिया जिले के चर्चित बाल गृह कांड की जांच कर रही सीबीआइ अपने कैंप कार्यालय डाक बंगला में जमी रही और कागजात सहेजते नजर आई। सीबीआइ आज लखनऊ के लिए रवाना हो जाएगी। स्टेशन रोड पर संचालित बाल गृह कांड की जांच सीबीआइ के इंस्पेक्टर विवेक श्रीवास्तव कर रहे हैं।

Rahul SrivastavaFri, 30 Jul 2021 09:30 AM (IST)
बाल गृह कांड मामले में सीबीआइ ने 19 लोगों के लिए बयान। प्रतीकात्‍मक तस्‍वीर

गोरखपुर, जागरण संवाददाता : देवरिया जिले के चर्चित बाल गृह कांड की जांच कर रही सीबीआइ अपने कैंप कार्यालय डाक बंगला में जमी रही और कागजात सहेजते नजर आई। सीबीआइ आज लखनऊ के लिए रवाना हो जाएगी।

एक से डेढ़ माह में विवेचना पूरी कर लेगी सीबीआइ

स्टेशन रोड पर संचालित बाल गृह कांड की जांच सीबीआइ के इंस्पेक्टर विवेक श्रीवास्तव कर रहे हैं। दिन भर टीम डाक बंगला में जमी रही और जिला प्रोवेशन कार्यालय समेत अन्य जगहों से मिले कागजात को सहेजने में जुटी रही। सात दिनों में सीबीआइ ने कुल 19 लोगों से पूछताछ कर उनका बयान दर्ज किया है। सूत्रों का दावा है कि एक से डेढ़ माह के अंदर सीबीआइ इस प्रकरण की विवेचना पूरी कर लेगी। अगस्त 2018 में बाल गृह कांड का पर्दाफाश किया गया था। पहले एसआइटी इसकी जांच की थी। 2019 से प्रकरण की जांच सीबीआइ कर रही है।

हाटा विद्युत उपकेंद्र पहुंची देवरिया की एसओजी, पूछताछ

कुशीनगर जनपद के हाटा के विद्युत उपकेंद्र पर तैनात एसएसओ की हुई हत्या की गुत्थी सुलझाना पुलिस के लिए आसान नहीं दिख रहा है। दो दिन गुजर जाने के बाद भी पुलिस को कोई सुराग हाथ नहीं लगा। एसओजी हाटा पहुंची और कुछ लोगों से पूछताछ कर घटना के तह में जाने का प्रयास किया, हालांकि पुलिस को सफलता नहीं मिल सकी। पुलिस अधिकारी जल्द ही इस घटना का पर्दाफाश कर देने का दावा जरूर कर रहे हैं।

हत्‍या कर फेंक दिया गया था शव

बरियारपुर थाना क्षेत्र के ग्राम सरैया के रहने वाले 30 वर्षीय अरविंद कुमार यादव पुत्र राधेश्याम हाटा विद्युत उपकेंद्र पर एसएसओ (सब स्टेशन आपरेटर) के पद पर तैनात थे। मंगलवाररात उनकी हत्या कर बरियारपुर थाना क्षेत्र के मुंडेरा के समीप बोरे में शव रख फेंक दिया गया। इस मामले में मुकदमा दर्ज कर पुलिस विवेचना कर रही है। घटना के पर्दाफाश के लिए लगाई गई जिले की एसओजी हाटा विद्युत उपकेंद्र पहुंची और साथ काम करने वाले एसएसओ व लाइनमैन से पूछताछ की।

नहीं लग सका कोई सुराग

तीन घंटे तक चली पूछताछ में भी एसओजी को कोई सुराग हाथ नहीं लग सका और न ही घटना के कारणों का ही पता चल सका। उधर पुलिस का मोबाइल काल डिटेल पर बहुत जोर है। काल डिटेल से यही पता चल रहा है कि तीन बजे के आसपास के परिवार के ही एक सदस्य का अंतिम बार फोन आया है और बातचीत हुई है, लेकिन इसके बाद किसी से उनकी बातचीत नहीं हुई है। अंतिम लोकेशन साकेत नगर में ही दिखा है। सीओ कपिलमुनी सिंह ने कहा कि टीमें लगी है। जल्द ही इस घटना का पर्दाफाश कर दिया जाएगा।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.