दिल्ली

उत्तर प्रदेश

पंजाब

बिहार

उत्तराखंड

हरियाणा

झारखण्ड

राजस्थान

जम्मू-कश्मीर

हिमाचल प्रदेश

पश्चिम बंगाल

ओडिशा

महाराष्ट्र

गुजरात

Gorakhpur Triple Murder Case: काल डिटेल से तय होगी पूर्व विधायक और पूर्व ब्‍लाक प्रमुख की भूमिका

पुलिस जांच के संबंध में प्रतीकात्‍मक फाइल फोटो, जेएनएन।

पुलिस ने जब सिंहासन को गिरफ्तार कर उससे पूछताछ शुरू की तो चौकाने वाला तथ्‍य सामने आया। उसने कहा था कि गोरखपुर के एक पूर्व विधायक व पूर्व ब्लाक प्रमुख से उसके अच्छे संबंध है। दोनों लोगों पैरवी करेंगे।

Satish Chand ShuklaMon, 10 May 2021 05:49 PM (IST)

गोरखपुर, जेएनएन। गगहा में 20 दिन के अंदर तीन लोगों की हत्या कर सनसनी फैलाने वाले सन्नी, युवराज और घटना के साजिशकर्ता सिंहासन यादव से पूर्व विधायक व प्रमुख के क्या संबंध हैं पुलिस इसकी पड़ताल कर रही है।रविवार को जेल गए सिंहासन यादव ने पूछताछ में दोनों नेताओं से अच्छे संबंध होने की बात स्वीकार की।अब काल डिटेल के जरिए पुलिस इसे पुष्ट कर रही है।

गगहा क्षेत्र में 10 मार्च को जिला पंचायत सदस्य पद के दावेदार रितेश मौर्य और 30 मार्च को दुकानदार शंभू मौर्य व उनके कर्मचारी संजय पांडेय की गोली मारकर हत्या कर दी गई। वारदात को अंजाम देने वाले सन्नी सिंह उर्फ म़ृगेंद्र, युवराज सिंह उर्फ राज को एसटीएफ की मदद से गगहा पुलिस ने सात मई की शाम को गिरफ्तार किया। दोनों ने पूछताछ में बताया था कि नेवादा के रहने वाले सिंहासन यादव ने वारदात को अंजाम देने के लिए असलहा मुहैया कराया था। पुलिस ने जब सिंहासन को गिरफ्तार कर उससे पूछताछ शुरू की तो चौकाने वाला तथ्‍य सामने आया। उसने कहा था कि पूर्व विधायक व पूर्व ब्लाक प्रमुख से उसके अच्छे संबंध है। दोनों लोगों पैरवी करेंगे।

अपराधियों के शरणदाता के रूप में हैं पूर्व विधायक और पूर्व ब्‍लाक प्रमुख

शरणदाता के रूप में पूर्व विधायक व प्रमुख का नाम सामने आने के बाद पुलिस के साथ ही क्राइम ब्रांच ने अपनी जांच तेज कर दी है।प्रभारी निरीक्षक गगहा सुधीर सिंह ने बताया कि सन्नी, युवराज और सिंहासन को शरण देने वालों के बारे में जानकारी जुटाई जा रही है। सभी के खिलाफ कार्रवाई होगी।

सूचना देने वाला बदमाश जेल गया

सन्नी और उसके साथियों को स्थानीय व्यापारियों के बारे में सूचना देने वाले बदमाश पोशु उर्फ मोहम्मद उवैश को गगहा पुलिस ने रविवार की शाम गिरफ्तार किया। हत्या की कोशिश के मामले में वह वांछित था।काल डिटेल की जांच में पोशु के संबंध बदमाशों से होने की जानकारी मिली थी।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.