संदिग्‍ध परिस्थितियों में सर्राफा कारोबारी की मौत, बेटे ने बताया छत से गिरने की वजह से हुआ हादसा

गोरखनाथ इलाके मेंं रहने वाले सर्राफा कारोारी की संदग्धि परिस्‍थतियों में मौत हो गई है। बेटे और परिवार के लोगों का कहना है कि रात में छत पर टहलते समय गिर जाने की वजह से उनकी मौत हुई है। मोहल्‍ले के लोग हादसा मानने को तैयार नहीं हैं।

Navneet Prakash TripathiWed, 22 Sep 2021 03:42 PM (IST)
सर्राफा कारोबारी अजय कुमार वर्मा। फाइल फोटो

गोरखपुर, जागरण संवाददाता। गोरखनाथ के हुंमायूपुर उत्तरी निवासी 45 वर्षीय सर्राफ अजय कुमार वर्मा की 21 सितंबर की रात घर की रहस्‍तय परिस्थितियों में मौत हो गई। अजय के बड़े पुत्र आकाश का कहना है कि उनके पिता रात में शराब के नशे में छत से फिसलकर गिरे हैं। जिसके चलते उनकी मौत हुई है। हालांकि मुहल्ले में यह भी चर्चा है कि पिता-पुत्र में आये दिन विवाद होता था। आशंका जताई जा रही है कि सर्राफ की मौत के तार पिता-‍पुत्र के बीच का विवाद से जुडे हैं, लेकिन स्वजन इस बात से इंकार कर रहे हैं।

भाइयों से अलग रहते थे सर्राफ

अजय कुमार चार चार भाई थे। चारो भइयों का शहर में अलग-अलग मकान है। अजय हुंमायूपुर उत्तरी स्थित गोकुल अपार्टमेंट के सामने रहते थे। अजय की अलीनगर में ज्वैलरी की दुकान है। अजय के बड़े पुत्र आकाश के मुताबिक रात करीब 11 बजे उनके पिता शराब के नशे में अकेले तीसरी की छत पर टहल रहे थे। इस दौरान अचानक उनका पांव फिसल गया और वह गिर गए। उन्होंने कहा कि आवाज सुनकर वह नीचे पहुंचे और पिता की स्थिति गंभीर देखकर वह उन्हें इलाज के लिए जिला अस्पताल लेकर गए। वहां चिकित्सकों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया।

शराब पीने को लेकर पिता-पुत्र में होता था विवाद

मुहल्ले में यह भी चर्चा है कि पिता पुत्र में शराब को लेकर आये-दिन कहा सुनी होती थी। 21 सितंबर की रात भी दोनों में विवाद हुआ था। हालांकि स्वजन इस बात से इंकार करते हैं, जबकि एक रिश्तेदार का कहना है कि परिवार में चार सदस्य हैं तो कहा-सुनी कोई बड़ी बात नहीं है।

आनन-फानन में हुआ अंतिम संस्कार

21 सितंबर की रात में ही किसी ने इसकी सूचना गोरखनाथ पुलिस को दे दी। मौके पर पुलिस पहुंची थी। स्वजन, मृतक का पोस्टमार्टम कराने के लिए तैयार नहीं हुए। सुबह आकाश ने आनन-फानन पिता का अंतिम संस्कार कर दिया। स्वजन का आनन-फानन में अंतिम संस्कार करना संदिग्ध प्रतीत हो रहा है। स्वजन जहां से गिरने की बात कर रहे हैं, वहां करीब तीन फीट की रेलिंग लगी हुई है। ऐसे में वह छत से कैसे गिर गए, यह समझ से परे है। बिना पोस्‍टमार्टम कराए शव को स्‍वजन के हवाले कर देने को लेकर पुलिस भी सवालों के घेरे में आ गइ्र है।

स्‍वजन नहीं कराया पोस्‍टमार्टम

गोरखनाथ थानेदार रामअज्ञा सिंह बताते हैं कि सर्राफ के स्वजन ने मौत को लेकर कोई सूचना नहीं दी। गश्त के दौरान पुलिस को इसकी जानकारी हुई तो वह खुद मौके पर पहुंच गई। स्वजन शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजने के लिए तैयार नहीं थे। ऐसे में शव उन्हें सौंप दिया गया।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.