दिल्ली

उत्तर प्रदेश

पंजाब

बिहार

उत्तराखंड

हरियाणा

झारखण्ड

राजस्थान

जम्मू-कश्मीर

हिमाचल प्रदेश

पश्चिम बंगाल

ओडिशा

महाराष्ट्र

गुजरात

कोविड कंट्रोल रूम में ड्यूटी न प्राइमरी शिक्षकों पर कार्रवाई की तैयारी, BSA ने भेजा नोटिस Gorakhpur News

कोविड कंट्रोल रूम में ड्यूटी न करने वाले शिक्षकों को बीएसए ने नोटिस दी है। - प्रतीकात्‍मक तस्‍वीर

गोरखपुर के बीएसए ने शिक्षकों को नोटिस जारी कर कहा है कि कोविड कंट्रोल रूम में शिक्षकों की ड्यूटी आपदा प्रबंधन अधिनियम 56 के अंतर्गत कोविड-19 महामारी के तहत जिलाधिकारी के निर्देश पर लगाई गई थी। ड्यूटी न करने वाले शिक्षकों पर कड़ी कार्रवाई की जाएगी।

Pradeep SrivastavaTue, 11 May 2021 01:45 PM (IST)

गोरखपुर, जेएनएन। कोविड कंट्रोल रूम में ड्यूटी नहीं करने वाले परिषदीय विद्यालय के शिक्षकों, शिक्षामित्रों व अनुदेशकों के विरुद्ध जिला प्रशासन व बेसिक शिक्षा विभाग सख्त हो गया है। जिलाधिकारी के निर्देश पर बीएसए ने सोमवार को ड्यूटी से अनुपस्थित रहने वाले 58 शिक्षकों को नोटिस जारी करते हुए तत्काल उपस्थित होने का निर्देश दिया। साथ ही निर्देश का पालन नहीं करने वाले शिक्षकों को कठोर कार्रवाई की चेतावनी दी है।

बीएसए बीएन सिंह ने शिक्षकों को जारी नोटिस में कहा है कि कोविड कंट्रोल रूम में शिक्षकों की ड्यूटी आपदा प्रबंधन अधिनियम 56 के अंतर्गत कोविड-19 महामारी के तहत जिलाधिकारी के निर्देश पर लगाई गई थी। जिसमें 58 शिक्षक, शिक्षामित्र व अनुदेशक अनुपस्थित पाए गए हैं। यदि सभी तत्काल उपस्थित होकर अपने दायित्वों का संपादन करना सुनिश्चित नहीं करते तो इनके विरुद्ध आपदा प्रबंधन 56 तथा बेसिक शिक्षा नियमावली 1978 के तहत अनुशासनात्मक कार्रवाई करते हुए उच्चाधिकारियों को अवगत करा दिया जाएगा।

किस ब्लाक के कितने शिक्षक

बीएसए ने ड्यूटी नहीं करने पर जिन शिक्षकों को नोटिस जारी किया है उनमें जंगल कौड़िया व गगहा के नौ-नौ, खजनी के 11, बड़हलगंज, बांसगांव व कौड़ीराम के दो-दो, सरदारनगर के सात, उरुवा व पाली के तीन-तीन, बेलघाट व गोला के चार-चार व सहजनवां के एक शिक्षक शामिल हैं।

टीका लगवा चुके शिक्षकों की ही लगे ड्यूटी

उत्तर प्रदेशीय प्राथमिक शिक्षक संघ ने कोविड कंट्रोल रूम में उन्हीं शिक्षकाें की ड्यूटी लगाने की मांग की है जिनका टीकाकरण हो चुका है। इसको लेकर सोमवार को संघ ने बीएसए, डीएम, मंडलायुक्त व सीडीओ को ज्ञापन सौंपा। ज्ञापन में संघ के जिलाध्यक्ष राजेश धर दूबे व जिलामंत्री श्रीधर मिश्रा ने कहा कि चुनाव ड्यूटी से पूर्व यदि शिक्षकों का टीकाकरण कराया गया होता तो जिले के 48 शिक्षकों को अपनी जान नहीं गंवानी पड़ती। अभी भी जहां कई शिक्षक अपना इलाज करा रहे हैं वहीं अन्य शिक्षकों में कोरोना को लेकर खौफ व्याप्त है।

उन्होंने कहा कि कोविड कंट्रोल रूम में शिक्षकों की ड्यूटी फ्रंट लाइन कर्मी की श्रेणी में आता है। ऐसे में ड्यूटी करने वाले सभी शिक्षकों का टीकाकरण हर हाल में जरूरी है। बीएसए ने शिक्षक संघ की मांग पर डीएम को पत्र लिखकर टीका लगवा चुके शिक्षकों की ही कंट्रोल रूम में ड्यूटी लगाए जाने का अनुरोध किया है।

पंचायत चुनाव कराकर लौटे शिक्षक की कोरोना से मौत

चरगांवा निवासी बेसिक शिक्षा परिषद में शिक्षक 30 वर्षीय विजय शंकर पाठक का कोरोना से निधन हो गया। पंचायत चुनाव की ड्यूटी से आने के बाद से वह कोरोना से पीड़ित थे। हालत बिगड़ने पर स्वजन उन्हें पहले एक निजी चिकित्सालय ले गए।

बेड न मिलने के कारण मेडिकल कालेज ले गए। मेडिकल कालेज के कोविड वार्ड में आठ मई को उन्होंने दम तोड़ दिया। उनके आक्सीजन लेवल में सुधार नहीं हो सका था। विजय ने हाल ही में हुई शिक्षक भर्ती में विभाग ज्वाइन किया था। वह पाली ब्लाक के कंपोजिट विद्यालय रीठुआखोर में कार्यरत थे। पंचायत चुनाव में उनकी ड्यूटी बेलघाट ब्लाक में लगी थी। उनके निधन पर शिक्षकाें एवं शुभचिंतकों ने शोक व्यक्त किया है।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.