कुशीनगर से भावनात्मक नाता जोड़ यूपी के सियासी चौसर पर चुनावी पासा फेंक गईं अनुप्रिया

यूपी विधानसभा चुनाव के पहले भगवान बुद्ध की महापरिनिर्वाण स्थली पहुंची अपना दल की राष्ट्रीय अध्यक्ष अनुप्रिया पटेल ने सियासी चौसर पर जातिगत समीकरण का चुनावी पासा फेंका। पिछड़ों के साथ बुद्ध के नाम पर दलित समाज को भी अपने साथ खड़ा करने की पुरजोर कोशिश की।

Navneet Prakash TripathiPublish:Sun, 05 Dec 2021 07:04 PM (IST) Updated:Mon, 06 Dec 2021 08:05 AM (IST)
कुशीनगर से भावनात्मक नाता जोड़ यूपी के सियासी चौसर पर चुनावी पासा फेंक गईं अनुप्रिया
कुशीनगर से भावनात्मक नाता जोड़ यूपी के सियासी चौसर पर चुनावी पासा फेंक गईं अनुप्रिया

गोरखपुर, अनिल कुमार त्रिपाठी। यूपी विधानसभा चुनाव के पहले भगवान बुद्ध की महापरिनिर्वाण स्थली पहुंची अपना दल की राष्ट्रीय अध्यक्ष अनुप्रिया पटेल ने सियासी चौसर पर जातिगत समीकरण का चुनावी पासा फेंका। पिछड़ों के साथ बुद्ध के नाम पर दलित समाज को भी अपने साथ खड़ा करने की पुरजोर कोशिश की। यह यूं ही नहीं किया पहले कुशीनगर से भावनात्मक नाता जोड़ा तो सोनेलाल पटेल को बुद्ध का अनुयायी बता खुद को बीच में खड़ा किया। उनको पता है कि इन दोनों का गठजोड़ प्रदेश में अपना दल को संख्या बल के साथ मजबूत राजनीतिक आधार भी देगी।

पिछडों के साथ दलितों को भी जोडने का किया प्रयास

बड़े करीने से पिछड़ा वर्ग को सहेजा तो दलित समाज की वकालत कर उनको शिद्दत से जोड़ा भी। केंद्रीय वाणिज्य और उद्योग राज्यमंत्री पटेल ने कहा कि मेरे पिता स्व. सोनेलाल पटेल ने जीवन पर्यंत दलित, पिछड़ा वर्ग और शोषितों के लिए सामाजिक न्याय की लड़ाई लड़ी। दलित और पिछड़ा वर्ग अलग-अलग रहकर अपने हक के हिस्सेदारी की लड़ाई नहीं जीत सकता। लोकतंत्र में जिसके पास संख्या बल है, वही ताकतवर माना जाता है। उसे ही सरकार में हिस्सेदारी निभाने का मौका मिलता है। मैने मंत्री रहते मेडिकल की नीट परीक्षा में 27 प्रतिशत आरक्षण की मांग सरकार से की थी। संघर्ष और पिछड़ा व दलित वर्ग की ताकत की देन है कि मैं इस समाज की लड़ाई देश की सर्वोच्च सदन में लड़ पा रही हूं।

कुशीनगर से उठी आवाज पूरे देश काे देगी संदेश

कहा कि भगवान बुद्ध की महापरिनिर्वाण स्थली ऊर्जा का संचार कर रही है। इस धरा से उठी आवाज केवल प्रदेश नहीं पूरे देश में एक नया संदेश देगी। लोकतंत्र में महिलाआें की भागीदारी के मजबूती से रखते हुए केंद्रीय मंत्री ने कहा कि घर की दहलीज से बाहर निकलें। अपना हक और अधिकार समझें। मातृ शक्ति का अशीर्वाद जहां मिलता है वहां विजय निश्चित है।

केंद्रीय मंत्री अनुप्रिया ने की बुद्ध वंदना

अपना दल(एस) की राष्ट्रीय अध्यक्ष और केंद्रीय वाणिज्य व उद्योग राज्यमंत्री अनुप्रिया पटेल रविवार को रैली को संबोधित करने के पूर्व महापरिनिर्वाण बुद्ध मंदिर कुशीनगर पहुंचीं। उन्होंने तथागत की लेटी प्रतिमा पर श्रद्धापूर्वक चीवर चढ़ाकर समाज व राष्ट्र की सुख-समृद्धि के लिए भगवान बुद्ध से आशीष मांगा। उन्होंने बुद्ध की धरती पर आने पर अपने को धन्य माना।कहा कि कुशीनगर की धरती की ऊर्जा करुणा, मैत्री व शांति के मार्ग पर चलने की प्रेरणा देता है।

2022 में फिर बनेगी एनडीए की सरकार

केंद्रीय वाणिज्य व उद्योग राज्य मंत्री अनुप्रिया पटेल ने कहा है कि यूपी की जनता एक बार फिर 2022 में भाजपा के नेतृत्व में एनडीए की सरकार बनाने का आशीर्वाद देने जा रही है। अपना दल का भाजपा से गठबंधन है। अभी हमारी सीटें फाइनल नहीं है। वार्ता चल रही है, जल्द ही सीटें फाइनल हो जाएगी। हमारे दल की भी प्रभावी भूमिका रहेगी। अपना दल नेत्री रविवार को कुशीनगर में जनसभा को संबोधित करने के पूर्व बुद्ध की महापरिनिर्वाण प्रतिमा का दर्शन करने के बाद पत्रकारों से बातचीत कर रही थीं। कहा कि अपना दल के संस्थापक सोनेलाल पटेल ने बुद्ध की शांति व मानवता को केंद्र में रखकर दल को समाज में ले गए। पार्टी उन नीतियों पर आगे बढ़ रही है। मैं भी बुद्ध की शरण में रहकर प्रदेश व देश की सेवा में जीवन समर्पित कर रही हूं। उन्होंने कहा कि प्रदेश में लगातार संगठन का विस्तार हो रहा है। प्रत्येक जनपद में जनमानस व अपना दल कार्यकर्ताओं के बीच में संगठन के नेता जा रहे हैं। 200 प्रभारी तैनात कर दिए गए हैं। सपा व अखिलेश के सवाल पर उन्होंने कहा कि लोकतंत्र प्रभावी हो इसके लिए विपक्ष का रहना जरूरी है। वह अपना कार्य कर रहे हैं। हम भी अपनी पांच साल की उपलब्धियों को लेकर जनता के बीच लगातार बने हैं।