युवक की हत्या कर कुसम्ही जंगल में फेका शव, जानवर खा गए थे शरीर का हिस्‍सा

कुसम्ही जंगल के रजही बीट मेंहत्या कर फेका गया युवक का शव क्षत-विक्षत हालात में 26 नवंबर को मिला। जिसका सिर धड़ से अलग था। शरीर के ऊपरी हिस्से को जानवर खा गए थे।लकड़ी बीनने गई महिलाओं ने शव देख सूचना गांव के लोगों को दी।

Navneet Prakash TripathiPublish:Fri, 26 Nov 2021 08:10 PM (IST) Updated:Fri, 26 Nov 2021 08:10 PM (IST)
युवक की हत्या कर कुसम्ही जंगल में फेका शव, जानवर खा गए थे शरीर का हिस्‍सा
युवक की हत्या कर कुसम्ही जंगल में फेका शव, जानवर खा गए थे शरीर का हिस्‍सा

गोरखपुर, जागरण संवाददाता। कुसम्ही जंगल के रजही बीट मेंहत्या कर फेका गया युवक का शव क्षत-विक्षत हालात में 26 नवंबर को मिला। जिसका सिर धड़ से अलग था। शरीर के ऊपरी हिस्से को जानवर खा गए थे।लकड़ी बीनने गई महिलाओं ने शव देख सूचना गांव के लोगों को दी।ब्लाक प्रमुख के पति ने एसएसपी को बताया।शव की शिनाख्त नहीं हुई है।

लकडी बिनने गई महिलाओं ने देखा शव

सुबह नौ बजे रजही गांव की महिलाएं जंगल में चांदमारी के पास लकड़ी बीनने गई थीं।25 वर्षीय युवक का क्षत-विक्षत शव देख शोर मचाते हुए वह गांव की तरफ भागी और घटना की जानकारी स्वजन के साथ ही ब्लाक प्रमुख प्रतिनिधि मुन्ना सिंह को दी।प्रमुख प्रतिनिधि ने खोराबार थानेदार को बताया।एक घंटे बाद भी पुलिस के न पहुंचने पर एसएसपी को बताया।जिसके बाद फोरेंसिक टीम के साथ थानेदार पहुंचे और शव काे कब्जे में लिया।

घटनास्‍थल पर पडी थी देसी शराब की दो शीशी

घटनास्थल के पास खून के छींटे दिख रहे थे।शव के पास देसी शराब की दो शीशी पड़ी थी। आशंका जताई जा रही है कि शराब के नशे में धारदार हथियार से युवक की हत्या कर सिर काट दिया गयाा।बचने के लिए उसने संघर्ष किया था।25 वर्षीय युवक के शरीर पर नीला जींस, छीटेदार शर्ट था। जेब की तलाशी लेने पर कोई दस्तावेज नहीं नहीं मिला।प्रभारी निरीक्षक खोराबार राहुल सिंह ने बताया कि युवक की शिनाख्त नहीं हुई है।पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद पता चलेगा की मौत कैसे हुई है।

विदेश भेजने के नाम पर हड़पे ढाई लाख, दी तहरीर

सिकरीगंज के भउसा उर्फ बनकटा निवासी उमेश सिंह ने बड़हलगंज के एक व्यक्ति पर विदेश भेजने के नाम पर ढाई लाख रुपये हड़पने का आरोप लगाया है। उमेश ने बड़हलगंज थाने में तहरीर देकर कहा कि मामखोर निवासी एक व्यक्ति ने एक मार्च 2011 को यूरोप भेजने के नाम पर उनसे ढाई लाख रुपये लिए थे और उनके साथ धोखाधड़ी करके टूरिस्ट वीजा देकर भेज दिया तो उन्हें इरान से वापस कर दिया गया। उसके बाद रुपये मांगने पर वह टाल-मटोल कर रहा है। बड़हलगंज के उपनिरीक्षक अश्विनी तिवारी ने कहा कि मामला दस साल पुराना है। तहरीर मिली है। जांच कर कार्रवाई की जाएगी।