एमएमएमयूटी में प्रवेश प्रक्रिया शुरू, जानिए कौन सी एजेंसी कराएगी पेपर Gorakhpur News

मदन मोहन मालवीय प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. जेपी पांडेय। जागरण

एमएमएमयूटी में विभिन्न स्नातक व परास्नातक पाठ्यक्रमों में प्रवेश के लिए प्रक्रिया शुरू हो गई है। एनटीए ने एमएमएमयूटी के साथ ही लखनऊ के एकेटीयू और कानपुर के एचबीटीयू में प्रवेश के लिए आवेदन आमंत्रित कर दिया है।

Rahul SrivastavaSun, 04 Apr 2021 09:10 PM (IST)

गोरखपुर, जेएनएन : मदन मोहन मालवीय प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय (एमएमएमयूटी) में विभिन्न स्नातक व परास्नातक पाठ्यक्रमों में प्रवेश के लिए प्रक्रिया शुरू हो गई है। पहली बार प्रवेश के लिए परीक्षा का आयोजन एनटीए (नेशनल टेस्टिंग एजेंसी) कर रही है। एनटीए ने एमएमएमयूटी के साथ ही लखनऊ के एकेटीयू और कानपुर के एचबीटीयू में प्रवेश के लिए आवेदन आमंत्रित कर दिया है।

प्रवेश प्रक्रिया को व्‍यापक स्‍वरूप देने के लिए एनटीए से परीक्षा कराने का लिया फैसला

संवाददाताओं से बातचीत में कुलपति प्रो. जेपी पांडेय ने बताया कि विश्वविद्यालय ने प्रवेश प्रक्रिया को व्यापक स्वरूप देने के लिए एनटीए से प्रवेश परीक्षा कराने का फैसला लिया गया है। बीते वर्ष इस संदर्भ में एनटीए को प्रस्ताव भेजा गया था। प्रस्ताव मंजूर हो गया। एनटीए इसके लिए राज्य स्तरीय प्रवेश परीक्षा यूपीसेट-2021 आयोजित करने जा रही है। विश्वविद्यालय अब सिर्फ पीएचडी में प्रवेश के लिए परीक्षा आयोजित करेगा। यह परीक्षा जुलाई के पहले सप्ताह में प्रस्तावित है।

एक दर्जन विषयों में प्रवेश के लिए आवेदन आमंत्रित

कुलपति ने बताया कि विश्वविद्यालय में बीटेक लेटरल एंट्री, बीबीए, बीफार्मा, एमबीए, एमसीए, एमएससी (फिजिक्स, केमिस्ट्री और मैथ) के साथ ही एमटेक के एक दर्जन विषयों में प्रवेश के लिए आवेदन आमंत्रित किया गया है। आवेदन आनलाइन करना होगा और इसके लिए एनटीए की वेबसाइट पर जाना होगा। आवेदन की अंतिम तिथि 30 अप्रैल है।

एक फार्म से तीन विश्वविद्यालय में होगा आवेदन

कुलपति प्रो. जेपी पांडेय ने बताया कि प्रवेश परीक्षा के आवेदन शुल्क में भी इस बार रियायत दी गई है। सामान्य व ओबीसी छात्रों को 1300 रुपए जबकि एससी, एसटी व छात्राओं को 650 रुपये ही आवेदन शुल्क देना होगा। एक ही फार्म से एमएमएमयूटी, एकेटीयू, एचबीटीयू तीनों विश्वविद्यालय में आवेदन हो सकेगा। पहले इसके लिए छात्रों को अलग-अलग आवेदन करना पड़ता था। सिर्फ एमएमयूटी में प्रवेश के लिए छात्रों को 1500 रुपए शुल्क देने होते थे।

61 शहरों में बनेंगे केंद्र

कुलपति ने बताया कि यूपीसेट की परीक्षा 18 मई को होगी। इसके लिए देश के 61 शहरों में केंद्र बनाया जाएगा, जिसका विवरण यूपीसेट की वेबसाइट से प्राप्त किया जा सकता है। देश के दूसरे प्रांतों के 20 शहरों में सेंटर बनाए जाएंगे। प्रदेश के 41 शहरों में सेंटर होंगे।

गेट क्वालिफाइड को मिलेगी वरीयता

कुलपति प्रो. जेपी पांडेय ने बताया कि एमटेक में स्पेशलाइजेशन में गेट क्वालीफाइड छात्रों को प्रथम वरीयता दी जाएगी। उन्हें यूपीसेट में शामिल होने की जरूरत नहीं है। ऐसे अभ्यर्थियों को प्रथम वरीयता में प्रवेश दिया जाएगा। बची हुई सीटों पर यूपीसेट के जरिये प्रवेश होगा।

पहली बार होगा बीफार्मा में प्रवेश

प्रो. जेपी पांडेय ने बताया कि विश्वविद्यालय में बीफार्मा पाठ्यक्रम भी इस वर्ष शुरू किया जा रहा है। बीफार्मा में 60 सीटें हैं। एनटीए द्वारा आयोजित प्रवेश परीक्षा के माध्यम से ही बीफार्मा में भी प्रवेश लिया जाएगा। बीफार्मा संचालित करने वाला एमएमएमयूटी प्रदेश का पहला राज्य तकनीकी विश्वविद्यालय है।

पहली बार जेईई मेन से होगा बीटेक में प्रवेश

कुलपति ने बताया कि विश्वविद्यालय में बीटेक की 1035 सीटें हैं। इन सीटों पर प्रवेश संयुक्त प्रवेश परीक्षा (जेईई) के जरिए होगा। यह परीक्षा भी एनटीए ही आयोजित करती है।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.