top menutop menutop menu

रेलवे के 597 कर्मचारी हटाए जाएंगे, जाने-क्‍या है मामला Gorakhpur News

गोरखपुर, जेएनएन। भारतीय रेलवे स्तर पर पुनर्नियोजित कर्मचारियों की सेवा समाप्त होगी। पूर्वोत्तर रेलवे प्रशासन ने इसकी शुरुआत भी कर दी है। लखनऊ, इज्जतनगर मंडल के अलावा मुख्यालय गोरखपुर स्थित कार्मिक विभाग के पुनर्नियोजित कर्मी पांच माह पहले ही हटा दिए गए हैं।

रेल कर्मचारियों में उहापोह की स्थिति

विभागीय जानकारों के अनुसार अगले सप्ताह में पूर्वोत्तर रेलवे में एक भी पुनर्नियोजित कर्मचारी शेष नहीं बचेंगे। संख्या शून्य हो जाएंगी। हालांकि, रेलवे बोर्ड ने जोनल कार्यालयों को अभी समीक्षा करने के लिए निर्देशित किया है। विभागों में समीक्षा शुरू भी हो गया है। लेकिन समीक्षा की औपचारिकता के साथ ही पुनर्नियोजित कर्मचारियों की सेवा भी समाप्त कर दी जा रही है। इसको लेकर वाराणसी मंडल, कारखानों व अन्य विभागों में तैनात शेष बचे पुनर्नियोजित कर्मचारियों में उहापोह की स्थिति बनी हुई है। अब वे भी अपनी सेवा समाप्ति तय मान रहे हैं। पूर्वोत्तर रेलवे में नवंबर 2020 तक 597  पुनर्नियोजित कर्मचारी तैनात किए गए हैं।

भारतीय रेलवे में 2017 से लागू है री-इंगेजमेंट स्कीम

विभागीय कार्य प्रभावित न हों, इसके लिए भारतीय रेलवे में सेवानिवृत्त कर्मचारियों के लिए वर्ष 2017 से री-इंगेजमेंट स्कीम (पुनर्नियोजन योजना) लागू हैं। एक दिसंबर 2019 को यह स्कीम समाप्त हो रही थी, लेकिन रेलवे बोर्ड ने इसे एक साल के लिए बढ़ा दिया था। बाद में एक वर्ष पूरा होने से पहले ही यह स्कीम धराशायी हो गई। जानकारों का कहना है कि संक्रमण काल में वैसे ही दफ्तरों में पर्याप्त कार्य नहीं है। रेलवे में जल्द ही ई आफिस भी अनिवार्य हो जाएगा। सारे कार्य ई प्लेटफार्म पर ही होंगे। ऐसे में पुनर्नियोजित कर्मचारियों की उपयोगिता नहीं रही गई हैं।

कुलियों और सफाई कर्मचारियों में फेसमास्क वितरित

गोरखपुर रेलवे स्टेशन पर वरिष्ठ मंडल वाणिज्य प्रबंधक के दिशा-निर्देशन में कुलियों और सफाई कर्मचारियों में 190 फेसमास्क वितरित किया गया। फेसमास्क वितरण में रेलवे से संबद्ध नव स्वर्ग संस्था के पदाधिकारियों ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। इस मौके पर एसपी सिंह, टीएन पांडेय, जितेंद्र कुमार, पीके सिंह, अफजाल अहमद, राजेश श्रीवास्तव, शर्दुल मोहन पांडेय, फैज आलम, अखिलेश, अरुण कुमार, रंजीत, जफर अहमद आदि रेलकर्मी मौजूद थे। 

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.