top menutop menutop menu

गलत शटडाउन के कारण हाथ पर रख लिया 11 हजार वोल्‍ट लाइन का तार, प्राइवेट कर्मी की मौत Gorakhpur News

गलत शटडाउन के कारण हाथ पर रख लिया 11 हजार वोल्‍ट लाइन का तार, प्राइवेट कर्मी की मौत Gorakhpur News
Publish Date:Fri, 14 Aug 2020 12:48 PM (IST) Author: Pradeep Srivastava

गोरखपुर, जेएनएन। फोन पर गलत शटडाउन देने से शुक्रवार सुबह राप्‍तीनगर में एक प्राइवेट कर्मचारी की करंट से मौत हो गई। बिजलीकर्मियों ने राप्‍तीनगर फेज तीन में नई लाइन बनाने के लिए फोन पर शटडाउन मांगा और उपकेंद्र पर मौजूद एसएसओ ने फेज एक का शटडाउन दे दिया। प्राइवेट कर्मचारी ने जैसे ही 11 हजार वोल्‍ट की लाइन पर हाथ रखा, उसके हाथ जलने लगा। पोल से गिरने से उसका पेट भी फट गया। मौके पर ही उसने दम तोड़ दिया। अधीक्षण अभियंता शहर यूसी वर्मा ने पूरे प्रकरण की जांच के निर्देश दिए हैं।

राप्‍तीनगर के आनंद विहार मोहल्‍ले में आंबेडकर स्‍कूल के पास बिजली निगम नई लाइन बनवा रहा है। शुक्रवार को ठीकेदार मनीष मिश्र के कर्मचारी राप्‍तीनगर फेज तीन स्थित आनंद विहार पहुंचे। उनके साथ बिजली निगम का एक संविदा लाइनमैन भी था। काम शुरू करने से पहले संविदा लाइनमैन ने राप्‍तीनगर उपकेंद्र के एसएसओ को फोन किया और शटडाउन देने को कहा। एसएसओ ने फेज तीन की जगह फेज एक का शटडाउन दे दिया। शटडाउन की जानकारी मिलने के बाद संविदा लाइनमैन ने काम शुरू करने को कहा। इसके बाद खोराबार थाना क्षेत्र के कुसुम्‍ही स्थित कुरमौल केवटाना निवासी शिवचरन (45 वर्ष) पोल पर चढ़ गया। जैसे ही उसने 11 हजार की लाइन पर हाथ रखा, तेज धमाके के साथ वह पोल से नीचे गिर गया।

फोन से शटडाउन न लेने का है आदेश

बिजली निगम के तत्‍कालीन चेयरमैन आलोक कुमार ने किसी भी हाल में फोन पर शटडाउन न देने के निर्देश दिए थे। उनका कहना था कि फोन पर शटडाउन देने से कभी-कभी बड़ा हादसा हो जाता है। इसके बाद भी बिजलीकर्मी अपनी हरकतों से बाज नहीं आते हैं और फोन पर ही शटडाउन लेते हैं।

गोला में हो गया था विवाद

गोला बाजार उपकेंद्र में फोन पर शटडाउन देने से मना करने पर बिजलीकर्मियों ने एसएसओ की पिटाई कर दी थी। इसका वीडियो वायरल होने पर बिजलीकर्मियों ने एसएसओ से माफी मांगकर समझौता कर लिया था।

कई लाइनमैन की हो चुकी है मौत

फोन पर शटडाउन लेकर काम शुरू करने के दौरान बिजली आने से कई लाइनमैन की मौत हो चुकी है। पिछले साल दीनदयाल उपाध्‍याय गोरखपुर विश्‍वविद्यालय के बगल में शटडाउन के बाद भी बिजली आने से संविदाकर्मी की मौत हो गई थी। परिजनों ने बिजली निगम के अफसरों के खिलाफ एफआइआर दर्ज कराने की मांग को लेकर डीएम आवास के सामने शव रखकर प्रदर्शन भी किया था। तब परिजनों को पांच लाख रुपये मुआवजा देकर मामला शांत कर दिया गया। शास्‍त्री चौक पर करंट से एक संविदाकर्मी बुरी तरह घायल हो गया था।

 

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.