दीपों की रोशनी से आलोकित हुए गंगा घाट

दीपों की रोशनी से आलोकित हुए गंगा घाट

अद्भुत अलौकिक और बेमिसाल..। देव दीपावली पर सोमवार को लहुरीकाशी के घाट असंख्य दीपों के प्रकाश पुंज से आलोकित हुए तो कुछ यही शब्द थे लोगों की जुंबा पर।

Publish Date:Mon, 30 Nov 2020 10:49 PM (IST) Author: Jagran

जागरण संवाददाता, गाजीपुर : अद्भुत, अलौकिक और बेमिसाल..। देव दीपावली पर सोमवार को लहुरीकाशी के घाट असंख्य दीपों के प्रकाश पुंज से आलोकित हुए तो कुछ यही शब्द थे लोगों की जुंबा पर। दीपों की लौ गंगा की लहरों में इस कदर अठखेलियां कर रहीं थीं मानों आसमां तारों संग धरती पर उतर आया हो। इस नजारे को नजरों के साथ मोबाइल और तस्वीरों में कैद करने को हर लोग व्यग्र रहे।

नगर समेत ग्रामीण अंचलों में देव दीपावली पर सोमवार की शाम अदभुत नजारा देखने को मिला। विभिन्न प्रकार की रंगोली बनाकर गंगा घाट अनगिनत दीयों से सजाए गए थे जो बरबस ही लोगों को आकर्षित कर रहे थे। छोटे-बड़े सभी प्रकार की रंगोली के आकार में लगाए गए दीये देर रात तक जलते रहे। शाम होते ही गंगा घाट दीपों से जगमगा उठे। मां गंगा की आरती ने सभी को भक्ति रस में डूबो दिया। ददरीघाट, कलेक्टर घाट, नवापुरा घाट, स्टीमर घाट, चीतनाथ घाट, पोस्ता घाट, अंजही घाट, गोला घाट पर करीब 10 हजार दीपक जलाए गए थे। इस दौरान फोर्स की व्यवस्था की गई थी। मुख्य अतिथि चेयरमैन सरिता अग्रवाल ने दीप जलाकर कार्यक्रम का शुभारंभ किया। गंगा आरती में सैकड़ों श्रद्धालुओं की भीड़ उमड़ पड़ी।

---

रोशनी से इठलाया बूढ़ेनाथ महादेव घाट

सैदपुर : बूढ़ेनाथ महादेव घाट पर मां गंगा सेवा संघ की तरफ से असंख्य दीप जलाए गए। क्षेत्राधिकारी राजीव द्विवेदी ने दीपोत्सव का शुभारंभ किया। चंद मिनट बाद पूरा घाट दीपों से जगमगा उठा। कई लोगों ने दीयों को गंगा में प्रवाहित कर मन्नतें मांगी। रात करीब नौ बजे मां गंगा की भव्य आरती की गई। गंगा सेवा संघ के अध्यक्ष दिनेश कुशवाहा ने आने वाले लोगों का स्वागत किया। घाट के ऊपर बूढ़ेनाथ महादेव मंदिर, मां दुर्गा मंदिर, हनुमान मंदिर, राम जानकी लक्ष्मण मंदिर व भगवान गणेश मंदिर को झालर व फूलों से सजाया गया था। देव दीपावली उत्सव में घाट पर आए लोगों ने मंदिर में दर्शन-पूजन किया। जगह-जगह लोग सेल्फी लेते दिखाई दिए। संघ के सभी पदाधिकारी व सदस्य पूरे मनोयोग से घाट पर बने दीये में तेल भरने व उसे जलाने में लगे रहे। इसी क्रम में नगर स्थित पक्का घाट, संगत घाट, महावीर घाट, रामघाट, रंगमहल घाट, सिद्धेश्वर महादेव घाट, कोल्हुआ घाट, औड़िहार स्थित बाराह रूप घाट के अलावा ग्रामीण अंचलों में स्थित मंदिरों व पोखरों पर दीप जलाए गए।

------

गौरी पर्णकुटी पर हवन-पूजन

खानपुर: गोमती किनारे बसे गौरी स्थित पर्णकुटी आश्रम पर कार्तिक पूर्णिमा के दिन हवन, आरती और भजन-कीर्तन के बाद साधु संतों का भंडारा आयोजित किया गया। दूर-दराज के आश्रमों से आए साधु-संतों को मनोज सिंह ने कंबल व सैनिटाइजर वितरित किया। शाम ढलते ही गोमती की लहरों में हजारों दीप प्रज्वलित कर देवताओं को अर्पित किए गए। बहादुरगंज: स्थानीय मां चंडी धाम परिसर में मंदिर समिति की ओर से एक हजार एक दीपक जलाकर देव दीपावली मनाई गई। इसके अलावा मां दुर्गा मंदिर, भगवान विश्वकर्मा मंदिर, ब्रह्मा स्थान व शिवालयों पर भी दीपक जलाए गए।

---

मन मोह ले रही थी विभिन्न प्रकार की रंगोली

मुहम्मदाबाद : नगर से सटे महादेवा स्थित सोमेश्वर महादेव मंदिर परिसर में विभिन्न तरह की रंगोली बनाकर दीयों से सजाया गया था। देव दीपावली देखने के लिए मंदिर परिसर में पहुंचे श्रद्धालु सेल्फी व फोटो कैमरे में कैद करते रहे। इस दौरान भारत का नक्शा, ॐ, स्वास्तिक की रंगोली बनाकर काफी आकर्षक ढंग से सजाया गया था।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.