विदेश में योग से स्वस्थ जीवन की राह दिखा रहे यश पराशर के छात्र

दीपा शर्मा गाजियाबाद योगाचार्य यश पराशर के छात्र-छात्रा विदेश में योग की शिक्षा देकर स्व

JagranSun, 20 Jun 2021 09:47 PM (IST)
विदेश में योग से स्वस्थ जीवन की राह दिखा रहे यश पराशर के छात्र

दीपा शर्मा, गाजियाबाद : योगाचार्य यश पराशर के छात्र-छात्रा विदेश में योग की शिक्षा देकर स्वस्थ जीवन की राह दिखा रहे हैं। कोरोना काल में दुनिया भर के विभिन्न देशों में योग प्रणायाम का महत्व समझा रहे हैं। साथ ही स्वस्थ जीवन के लिए योग को अपना रहे हैं। इसके अलावा उत्तर प्रदेश के भी कई जिलों में रहने वाले छात्र-छात्रा योग के अंतरराष्ट्रीय खिलाड़ी हैं और कोरोना काल में दूसरों को भी योग की शिक्षा दे रहे हैं।

यश पराशर ने बताया कि कई ऐसे युवकों को देखा जिनके अंदर लगन बहुत है और मेहनती भी हैं। लेकिन मेहनत की सही दिशा का पता नहीं था और आर्थिक तंगी से जूझ रहे थे। उन्होंने ऐसे ही छात्रों को योग सिखाने की शुरुआत की थी और अब उनके छात्र देश विदेश में अच्छा पैसा और नाम कमा रहे हैं। साथ ही खुद स्वस्थ रहने के साथ परिजनों को भी योग के सहारे स्वस्थ जीवन दिया है।

--- दो साल की उम्र से शुरु किया था योग 32 वर्षीय आचार्य यश पराशर ने दो साल की उम्र से अपने चाचा सतीश चंद्र महाराज के गुरुकुल में रहकर प्रारंभिक शिक्षा ग्रहण की और योग सीखा। इसके बाद दर्शनशास्त्र से परास्नातक और बाबू बनारसी दास विश्वविद्यालय लखनऊ से नेचुरोपैथी में एनडीडीवाई किया। 2017 में उन्हे विवि के कार्यक्रम में ही राज्यपाल द्वारा महर्षि पतंजलि योग सम्मान से सम्मानित किया। अपनी पढ़ाई के दौरान उन्होंने सैकड़ों छात्र-छात्राओं को योग की शिक्षा दी। यश पराशर के 36 छात्र-छात्रा अंतरराष्ट्रीय योग खिलाड़ी और विदेश में योग शिक्षक हैं। गोविदपुरम में रहने वाले यश पाराशर 65 दिन से लगातार फेसबुक पर लाइव कर देश-विदेश के करीब पांच लाख लोगों को योग से जोड़ चुके हैं। इसके अलावा उत्तर प्रदेश योग एसोसिएशन के महासचिव हैं। पिछले 15 साल से योग को पूर्ण खेल का दर्जा दिलाने के लिए प्रयासरत हैं। --- -ये शिक्षक और खिलाड़ी हैं यश पराशर के शिष्य अंतरराष्ट्रीय योग खिलाड़ी विकास कश्यप पिछले 15 साल से योग कर रहे हैं और दूसरों को भी करा रहे हैं। जो इस समय में राष्ट्रीय योग आसन रेफरी और यूपी पुलिस बटालियन-6 के योग कोच हैं। इसके अलावा मयूर विहार स्थित सीआरपीएफ की बटालियन में भी योग कोच रह चुके हैं। 2015 में थाइलैंड, 2015 मलेशिया, 2016 में वियतनाम में हुई योग प्रतियोगिताओं में पदक हासिल किए।

---- अंतरराष्ट्रीय योग खिलाड़ी व शिक्षक पुष्पेंद्र आर्य को योग से जुड़े हुए 14 साल हो गए हैं। अंतरराष्ट्रीय स्तर पर योग प्रदर्शन कर पदक हासिल किए। फिलहाल वियतनाम में योग शिक्षक हैं। वियतनाम में ही सर्वश्रेष्ठ योग शिक्षक की उपाधि भी प्राप्त हुई है।

---

मनीष खत्री कई अंतरराष्ट्रीय योग प्रतियोगिताओं में भाग लेकर पदक जीत चुके हैं। 2013 से वियतनाम में योग शिक्षक हैं। कोरोना काल में उन्होंने वियतनाम से दूसरे देशों के लोगों को भी योग के लिए जागरूक किया और योगाभ्यास भी कराया।

--- यश पराशर के छात्र दीपक चौहान राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय योग रेफरी हैं। जो फिलहाल योग शिक्षक भी हैं उनकी छात्रा भवी जैन भी अंतरराष्ट्रीय खिलाड़ी हैं। जिन्होंने 2018 में सिगापुर में योग प्रतियोगिता में भाग लेकर पदक हासिल किया था।

--- प्रवीण पाठक पिछले छह सालों से योग कर रहे हैं। वह प्रदेश व राष्ट्रीय योग प्रतियोगिताओं में स्वर्ण पदक प्राप्त कर चुके हैं। इन्हें 2017 में उत्तर प्रदेश के योगासन सम्राट के खिताब से सम्मानित किया गया था।

--- संघ से जुड़े दीपक उपाध्याय को योग करते हुए करीब चार साल हुए हैं। 2017 में उन्होंने सिगापुर में हुई योग प्रतियोगिता में कास्य पदक हासिल किया था। जिसमें करीब 20 देशों से योग खिलाड़ियों ने हिस्सा लिया था।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.