घर से बुलाकर चार दोस्तों ने की दिव्यांग की हत्या, शव जलाया

जागरण संवाददाता गाजियाबाद झगड़े के बाद चार युवकों ने अपने दिव्यांग दोस्त को घर से बुलाकर मार डाला। इतना ही नहीं पहचान मिटाने को उपले लगाकर शव जला दिया। घटना 22 नवंबर की रात नंदग्राम थाना क्षेत्र की हरबंस नगर कालोनी की है।

JagranPublish:Sat, 27 Nov 2021 07:41 PM (IST) Updated:Sat, 27 Nov 2021 07:41 PM (IST)
घर से बुलाकर चार दोस्तों ने की दिव्यांग की हत्या, शव जलाया
घर से बुलाकर चार दोस्तों ने की दिव्यांग की हत्या, शव जलाया

जागरण संवाददाता, गाजियाबाद: झगड़े के बाद चार युवकों ने अपने दिव्यांग दोस्त को घर से बुलाकर मार डाला। इतना ही नहीं, पहचान मिटाने को उपले लगाकर शव जला दिया। घटना 22 नवंबर की रात नंदग्राम थाना क्षेत्र की हरबंस नगर कालोनी की है। शुक्रवार रात घर के पास खाली मैदान में दिव्यांग का कंकाल मिला है। दिव्यांग के भाई की शिकायत पर पुलिस ने रिपोर्ट दर्ज कर तीन आरोपितों को गिरफ्तार किया है। पुलिस ने अवशेषों के आधार पर डीएनए जांच की तैयारी शुरू कर दी है। जातिसूचक टिप्पणी से शुरू हुआ था विवाद : हरबंस नगर निवासी सोनू ने बताया कि उनके पिता भोरन सिंह की आठ साल पहले और मां लक्ष्मी की अप्रैल 2021 में मौत हो गई थी। उनके छोटे भाई सचिन उर्फ सुदामा (25) का दायां पैर पोलियोग्रस्त था। वह बड़े भाई संदीप और विशाल के साथ रहता था, जबकि सोनू पास में ही किराए पर रहता है। सचिन सिहानी रोड स्थित एक फैक्ट्री में काम करता था। सचिन की कालोनी में ही रहने वाले विवेक उर्फ पैंटा, रवि उर्फ गंजा, सौरभ और सचिन उर्फ सरदार से दोस्ती थी। सोनू ने बताया कि 21 नवंबर, 2021 को कालोनी के पीछे खाली मैदान में सचिन दोस्तों के साथ पार्टी कर रहा था। आरोप है कि विवेक ने सचिन पर जातिसूचक टिप्पणी की। विरोध पर चारों ने सचिन से मारपीट की। रवि ने कैंची से सचिन की गर्दन पर वार कर दिया। शोर सुनकर पहुंचे बड़े भाई संदीप ने सभी को शांत कराया। शराब पिलाकर गला दबाकर मार डाला : सचिन 22 नवंबर की शाम दोस्तों के साथ इसी मैदान में बैठा आग के पास सेंक रहा था। सोनू उसे घर ले आया और रात 10 बजे विवेक और सौरभ घर आकर सचिन को अपने साथ इसी मैदान में ले गए। तभी से सचिन लापता था। 23 नवंबर की सुबह सचिन के स्वजन ने पूछा तो रवि ने जानकारी से इन्कार किया। कुछ देर तक सचिन की तलाश करने का बहाना बनाकर वह फरार हो गया। सोनू ने थाना नंदग्राम में शिकायत दी तो पुलिस आरोपितों के घर पहुंची, लेकिन सभी फरार थे। शुक्रवार को सौरभ सिहानी गेट सीओ अवनीश कुमार के कार्यालय पहुंचा और सचिन की हत्या के बारे में बताया। उसने कहा कि रवि ने सचिन को मारा है। सीओ उसे लेकर थाना नंदग्राम पहुंचे और रवि और विवेक को हिरासत में लेकर पूछताछ की। पुलिस के मुताबिक आरोपितों ने पहले अपने साथ सचिन को शराब पिलाई और फिर सचिन का गला दबाकर मार डाला। आरोपितों ने पेंचकस से भी उस पर कई वार किए थे। घटना के बाद शव को पास में पड़े कूड़े के पास ले गए। आसपास मौजूद बिटोड़े में से उपले निकाले और सचिन का शव जला दिया। आरोपितों की निशानदेही पर पुलिस पहुंची तो यहां कंकाल मिला। स्वजन ने सचिन की शर्ट व बेल्ट से उसकी पहचान की।

वर्जन..

अवशेषों को कब्जे में लेकर डीएनए जांच की प्रक्रिया शुरू है। सौरभ, विवेक और रवि को गिरफ्तार किया है, जबकि सचिन उर्फ सरदार की तलाश जारी है।

-अमित कुमार, एसएचओ, नंदग्राम।