Ghaziabad Air Pollution : गाजियाबाद में सांस के रोगी की मौत से हड़कंप

वायु प्रदूषण से जिले में पहली मौत हुई है। जिला एमएमजी अस्पताल में विजयनगर के रहने वाले 50 वर्षीय शेर मोहम्मद को शुक्रवार सुबह को सांस फूलने पर अस्पताल की इमरजेंसी में भर्ती कराया गया था। भर्ती करने के तुरंत बाद मरीज का आक्सीजन स्तर तेजी से गिरने लगा।

Madan PanchalSat, 27 Nov 2021 10:23 PM (IST)
वायु प्रदूषण बढ़ने से सांस के मरीजों की संख्या तेजी से बढ़ गई है।

गाजियाबाद, जागरण संवाददाता। वायु प्रदूषण बढ़ने से जिले में सांस के रोगी की मौत हुई है। जिला एमएमजी अस्पताल में विजयनगर के रहने वाले 50 वर्षीय शेर मोहम्मद को शुक्रवार सुबह को सांस फूलने पर अस्पताल की इमरजेंसी में भर्ती कराया गया था। भर्ती करने के तुरंत बाद मरीज का आक्सीजन स्तर तेजी से गिरने लगा। चिकित्सकों ने मरीज को भाप के अलावा आक्सीजन देनी शुरू कर दी। इलाज भी शुरू कर दिया।

भर्ती करने पर मरीज का आक्सीजन स्तर 95 से 98 के बीच था, लेकिन शनिवार सुबह को यह गिरकर 70 पर आ गया। दोपहर पौने दो बजे मरीज ने दम तोड़ दिया। डा.आरपी ¨सह और डीके वर्मा ने मिलकर मरीज का इलाज किया, लेकिन दोनों ही मरीज को बचा नहीं सके। बता दें कि विगत एक महीने में ओपीडी में 10 हजार से अधिक सांस के रोगी पहुंचे हैं। रोज पांच मरीजों की हालत खराब हो रही है।

बेहोश होकर गिर पड़ी ओपीडी में पहुंची युवती

जिला एमएमजी अस्पताल की ओपीडी में शनिवार को पैर दर्द की जांच कराने पहुंची युवती की हालत खराब हो गई। अर्थला की रहने वाली युवती बेहोश होकर गिर पड़ी। आनन-फानन में युवती को इमरजेंसी में भर्ती कराया गया है। युवती के दोनों पैरों ने काम करना बंद कर दिया है। डा.संतराम वर्मा ने बताया कि जांच के बाद बीमारी की पुष्टि होगी। इलाज जारी है।

प्रदूषण बढ़ने से सांस के मरीजों की संख्या तेजी से बढ़ गई है। सांस और अस्थमा के पुराने रोगियों की इस दौरान गंभीर हालत हो रही है। ऐसे में बाहर निकलने से बचना चाहिए।

डा.आरपी सिंह, वरिष्ठ फिजिशियन, जिला एमएमजी अस्पताल।

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.