Holi 2021: संभल कर खेलें होली, वरना बेरंग हो सकती है जिंदगी

डाॅक्टर लोगों को संभल कर होली खेलने की सलाह दे रहे हैं।

बाजार में प्राकृतिक और रासायनिक दो तरह के रंग व गुलाल बिक रहे हैं। रासायनिक रंग व गुलाल कुछ सस्ता मिलता है। वहीं लगने के बाद यह ज्यादा चटक दिखता है। इस कारण बहुत सारे लोग रासायनिक रंग और गुलाल का प्रयोग करते हैं।

Prateek KumarSun, 28 Mar 2021 07:08 PM (IST)

साहिबाबाद  [अवनीश मिश्र]। चहुंओर होली की धूम मची है। बाजार में हर प्रकार के रंग व गुलाल बिक रहे हैं। उनमें रासायनिक रंग और गुलाल भी शामिल हैं, जो आंखों और त्वचा के लिए बेहद नुकसान दायक साबित हो सकते हैं। आंखों की रोशनी जा सकती है। त्वचा की रंगत छिन सकती है। ऐसे में डाॅक्टर लोगों को संभल कर होली खेलने की सलाह दे रहे हैं।

आंखों को पहुंच सकता है नुकसान

बाजार में प्राकृतिक और रासायनिक दो तरह के रंग व गुलाल बिक रहे हैं। रासायनिक रंग व गुलाल कुछ सस्ता मिलता है। वहीं, लगने के बाद यह ज्यादा चटक दिखता है। इस कारण बहुत सारे लोग रासायनिक रंग और गुलाल का प्रयोग करते हैं। यह आंखों को बहुत नुकसान पहुंचा सकते हैं। डाॅक्टरों की मानें, तो रासायनिक रंग दानेदार होते हैं। आंखों में लगने से घाव हो सकता है। घाव बढ़कर अल्सर का रूप ले सकता है। आंखों की रोशनी जा सकती है। वहीं, रासायनिक गुलाल में छोटे-छोटे कण होते हैं। आंखों में उनके पहुंचने से काफी दिक्कत हो सकती है। आंखों में लाली, चुभन और सूजन की समस्या हो सकती है। वरिष्ठ नेत्र रोग विशेषज्ञ डाॅ. स्वप्न जैन बताते हैं कि रासायनिक रंग और गुलाल का बिल्कुल प्रयोग न करें। कोशिश हो कि फूलों से होली खेलें।

त्वचा हो सकती है बीमार

रासायनिक रंग और गुलाल त्वचा को नुकसान पहुंचाते हैं। बच्चों को तो ज्यादा समस्या होती है। उनकी नर्म और मुलायम त्वचा गंभीर रुप से बीमार हो सकती है। संक्रमण, खुजली, जलन, चक्कते आदि समस्या हो सकती है।

बरतें सावधानी

कोई रंग लगा रहा हो तो आंखें बंद कर लें, ताकि रंग अंदर न जा सके। रंग आंखों में चला जाए, तो फौरन ठंडे पानी से उसे धुलें व आंखों को रगड़ें नहीं। आंखों को साफ पानी से धोएं। खुरदुरे रंगों का इस्तेमाल कतई न करें। प्राकृतिक रंगों का प्रयोग करें। आयल पेंट का इस्तेमाल न करें। जिन लोगों को रंग से एलर्जी है वह रंगों से दूर रहें।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

पांच राज्यों के विधानसभा चुनावों से जुड़ी प्रमुख जानकारियों और आंकड़ों के लिए क्लिक करें।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.