लखनऊ में बेचा गया था लोनी का बच्चा, आठ महिला सहित 11 दबोचे गए

पुलिस क्षेत्राधिकारी अतुल कुमार ने बताया कि जांच में कुछ अन्य नाम प्रकाश में आए। जिन्हें हिरासत में लेकर पूछताछ की गई। पूछताछ में बच्चे को लखनऊ निवासी को साढे पांच लाख रुपये में बेचे जाना पता चला। बच्चे की बरामदगी के लिए पुलिस टीम लखनऊ रवाना की गई थी।

Prateek KumarSat, 22 May 2021 05:24 PM (IST)
आठ महिला सहित 11 दबोचे गए ।

साहिबाबाद [अजय सक्सेना]। लोनी कोतवाली क्षेत्र की डाबर तालाब कालोनी से 10 दिन पूर्व गायब हुए बच्चे को पुलिस ने लखनऊ से सकुशल बरामद कर लिया है। बच्चे को लखनऊ में साढ़े पांच लाख रुपये में बेचा था। पुलिस ने गिरोह के 11 सदस्यों को गिरफ्तार किया है। गिरोह के तीन और सदस्यों के नाम प्रकाश में आए हैं। पुलिस उनकी गिरफतारी के लिए दबिश दे रही है। पुलिस ने बरामद बच्चे को दंपती के सुपुर्द कर दिया है।

बता दें कि 12 मई को डाबर तालाब कालोनी में रहने वाले बच्चे के चोरी होने का मामला प्रकाश में आया था। दंपती ने पुलिस से शिकायत की थी। पुलिस ने रिपोर्ट दर्ज कर जांच शुरू कर दी थी। जांच में दंपती द्वारा बच्चा बेचने का मामला सामने आया था। जिस पर पुलिस ने दंपती, उनके रिश्तेदारों से पूछताछ कर रही थी। पुलिस क्षेत्राधिकारी अतुल कुमार सोनकर ने बताया कि जांच में कुछ अन्य नाम प्रकाश में आए। जिन्हें हिरासत में लेकर पूछताछ की गई। पूछताछ में बच्चे को लखनऊ निवासी एक दंपति को साढे़ पांच लाख रुपये में बेचे जाना पता चला। बच्चे की बरामदगी के लिए पुलिस टीम लखनऊ रवाना की गई थी। देर रात पुलिस बच्चे को लेकर लोनी पहुंची। पुलिस ने बताया कि बच्चा चोर गिरोह के 11 आरोपितों को गिरफ्तार किया गया है। तीन सदस्य फिलहाल पुलिस गिरफ्त से बाहर हैं। उनकी गिरफ्तारी के लिए संभावित स्थानों पर दबिश दी जा रही है।

ऐसे बेचे थे बच्चा : पुलिस क्षेत्राधिकारी

लोनी अतुल कुमार सोनकर ने बताया कि लखनऊ के थाना आलमबाग के मधुबन नगर निवासी आलोक अग्निहोत्री, विजय निवासी वाहिद, उस्मान कालोनी डासना निवासी तरमीम, मोनी उर्फ मोनिका व रूबिना, वजीराबाद दिल्ली निवासी प्रीति, विकासपुरी दिल्ली निवासी सरोज, द्वारका दिल्ली निवासी ज्योति, बुद्ध विहार दिल्ली निवासी सरोज, तिलक नगर दिल्ली निवासी असमीत कौर उसके पति गुरमीत को गिरफ्तार किया गया है। आलोक की बहन को कोई बच्चा नहीं था। उसने गुरमीत और असमीत कौर से साढ़े पांच लाख रुपये में यह बच्चा खरीदा था। उन दोनों ने बच्चे को चोरी कराया था। उन दोनों का नंबर हैडी हंट नामक वेबसाइट पर है। जिन्हें बच्चे की आवश्यकता होती है, उन्हें कॉल करता है। अब तक यह लोग कितने बच्चे बेच चुके हैं, उसकी जानकारी जुटाई जा रही है।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.