VIDEO: 24 घंटे बाद भी पकड़ में नहीं आया गाजियाबाद के पॉश इलाके में देखा गया तेंदुआ

राजनगर के राजकुंज में देखा गया तेंदुआ।

गाजियाबाद के पॉश इलाके राजनगर के राजकुंज में मंगलवार दोपहर में तेंदुआ दिखने से हड़कंप मच गया था। जब तक कुछ समझ पाते वह भीड़ की आंखोें से ओझल होकर गायब हो गया था। इससे इलाके में सनसनी मच गई थी।

Publish Date:Tue, 24 Nov 2020 02:31 PM (IST) Author: JP Yadav

गाजियाबाद, जागरण संवाददाता। दिल्ली से उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद में मंगलवार को उस समय हड़कंप मच गया, जब यहां के एक पॉश इलाके में तेंदुआ देखा गया।  राजनगर में मंगलवार को तेंदुआ (लैपर्ड) दिखाई दिया। इसके बाद आनन-फानन में पुलिस, प्रशासन के साथ ही वन विभाग के अफसरों ने मौके पर भ्रमण किया। कई घरों के बाहर लगे सीसीटीवी कैमरों की फुटेज लेकर जांच-पड़ताल की गई। वन विभाग की टीम ने आसपास के पांच क्षेत्रों में कांबिंग शुरू कर दी है। 24 घंटे बाद तेंदुआ पकड़ में नहीं आया है।

इंग्राहम इंस्टीट्यूट में वन विभाग की मेरठ और दिल्ली से बुलाई गई टीमों ने डेरा डाल लिया है। तेंदुए को पकड़ने के लिए तीन पिंजरे भी इंग्राहम इंस्टीट्यूट परिसर में रखवा दिए गए हैं। डीएम अजय शंकर पांडेय ने स्थानीय नागरिकों से अपील की है कि सुरक्षा की दृष्टि से अपने घरों में रहें। बच्चों को घर से बाहर न निकलने दें। डीएम ने बताया कि तेंदुआ के कविनगर क्षेत्र में होने की सूचना मिल रही है। वन विभाग की टीम पकड़ने के लिए जुट गई है। तेंदुआ पकड़े जाने पर नागरिकों को बता दिया जाएगा।

इंग्राहम इंस्टीट्यूट से पहुंचा जीडीए वीसी के आवास पर

तेंदुआ सबसे पहले इंग्राहम इंस्टीट्यूट की दीवार फांदकर सीधे जीडीए वीसी के आवास में दाखिल हो गया। यहां पर वह जनरेटर रूम में छुप गया। स्वीपर हरिमोहन जैसे ही मोटर चलाने जनरेटर रूम में पहुंचा तो तेंदुए को देखकर चिल्ला पड़ा। हरिमोहन पर तेंदुए ने वार करना चाहा, लेकिन उसके साथियों ने तेंदुआ पर लाठी चला दी। इससे डरकर वह आवास से बाहर निकलने लगा और पेड़ पर चढ़कर राजकुंज की तरफ सड़क पर कूद गया। यहीं पर सीसीटीवी कैमरे में कैद हो गया।

तेंदुआ ओझल पर खतरा बरकरार

शहर के सबसे पाश इलाके राजनगर में तेंदुआ का दिखना बड़ा सवाल है। बेशक सीसीटीवी कैमरे में दिखने के बाद तेंदुआ ओझल हो गया हो लेकिन खतरा बरकरार है। सूत्र बताते हैं कि वायु सेना हिंडन स्टेशन के अफसरों ने कई बार वन विभाग को पत्र लिखा है कि कई तेंदुआ परिसर में मौजूद हैं। हालांकि, वायु स्टेशन की चारदीवारी है, इसलिए वहां से बाहर निकलना भी जांच का विषय है। दरअसल जिले में घना वन्य क्षेत्र तीन स्थानों पर ही है। इनमें एक हिंडन वायु सेना स्टेशन, सिटी फोरेस्ट और कमला नेहरू नगर। इसके अलावा रईसपुर, मसूरी, नाहल, मुरादनगर, एएलटीटीसी, इंग्राहम इंस्टीटयूट और वेब सिटी में भी वन्य क्षेत्र है। वन विभाग का मानना है कि उत्तराखंड से यह तेंदुआ आया होगा लेकिन इतनी लंबी दूरी पैदल तय करना आसान नहीं हैं।

इससे पहले अगस्त महीने में गाजियाबाद में वैशाली सेक्टर-3 एफ में तड़के करीब साढ़े तीन बजे एक सीसीटीवी फुटेज में तेंदुए जैसा जानवर दिखाई दिया था। मकान मालिक तब 3 दिन की छुट्टियों पर शहर से बाहर गए हुए थे। उनके घर के बाहर लगे सीसीटीवी फुटेज को उन्होंने अपने फोन पर देखा था। इसे देखने के बाद उन्होंने सोसाइटी में तेंदुए जैसा एक जानवर होने की आशंका जताई थी।

वहीं, आरडब्ल्यूए की सूचना पर वन विभाग के रेंजर ने टीम के साथ पूरे इलाके का सर्वे किया, लेकिन तेंदुए जैसा दिखने वाले जानवर का कोई सुराग नहीं मिला। इसके बाद वन विभाग ने नोएडा, दिल्ली, फरीदाबाद के रेंजर को अवगत कराने के साथ ही अलर्ट कर दिया था। कई दिनों की तलाशी के बाद भी तेंदुए का पता नहीं चल पाया था।

 

Coronavirus: निश्चिंत रहें पूरी तरह सुरक्षित है आपका अखबार, पढ़ें- विशेषज्ञों की राय व देखें- वीडियो

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.