भदौला से था चौधरी अजित सिंह का खास जुड़ाव, लोगों ने कहा- किसानों के लिए उनका किया हुआ काम हमेशा रहेगा याद

मोदीनगर-मुरादनगर में चौधरी अजित सिंह का रहता था आना जाना।

गुरुवार को जैसे ही सुबह 9 बजे अजित सिंह के निधन की खबर इंटरनेट मीडिया पर चली तो उनको श्रद्धांजलि देने वालों का तांता लग गया। लोगों ने गहरा दुख जताया और शोक संतृप्त परिवार के साथ खड़े रहने का पूरा पूरा भरोसा दिया।

Prateek KumarThu, 06 May 2021 06:56 PM (IST)

मुरादनगर, जागरण संवाददाता। पूर्व कैबिनेट मंत्री चौधरी अजित सिंह के जाने से रालोद ही नहीं, दूसरे दलों के नेताओं व कार्यकर्ताओं ने भी दुख जताया। बागपत लोकसभा से अजित सिंह सात बार सांसद रहे। एक बार राज्यसभा सदस्य भी रहे। चार बार केंद्रीय मंत्रिमंडल में उनको महत्वपूर्ण जिम्मेदारी मिली। लेकिन, मोदीनगर मुरादनगर से उनका जुड़ाव लगातार बना रहा। समर्थकों के यहां उनका आना-जाना बना रहता था। गुरुवार को जैसे ही सुबह 9 बजे अजित सिंह के निधन की खबर इंटरनेट मीडिया पर चली तो उनको श्रद्धांजलि देने वालों का तांता लग गया। लोगों ने गहरा दुख जताया और शोक संतृप्त परिवार के साथ खड़े रहने का पूरा पूरा भरोसा दिया।

पक्ष के साथ विपक्ष ने भी चौधरी अजित सिंह के राजनीतिक और सामाजिक जीवन की प्रशंसा की और उनको किसान, मजदूर, दबे, कुचले वर्ग का सच्चा हितैषी करार दिया। बागपत से सांसद डा. सत्यपाल सिंह, आरजेडी नेता केसी त्यागी जैसे नेताओं ने श्रद्धांजलि दी और दुख प्रकट किया। उनके समर्थक भी मायूस नजर आए। सभा आयोजित कर कार्यकर्ताओं ने अजित सिंह को श्रद्धांजलि दी और उनके राजनीतिक, सामाजिक जीवन पर चर्चा की। उनको श्रद्धांजलि देने वालों में सतेंद्र तोमर, ललित सेन, योगेश कुमार फफराना, रामभरोसेलाल मौर्य आदि अनेक लोग मौजूद रहे।

इनका कहना है

चौधरी अजित सिंह का जाना कार्यकर्ताओं के लिए ही नहीं, राजनीति के लिए भी बहुत बड़ी क्षति हैं। उन्होंने हमेशा गरीब, किसान, मजदूर की आवाज को बुलंद किया। किसान, मजदूर उनका हमेशा ऋणी रहेगा।

अमरजीत सिंह बिड्डी, निर्वतमान चेयरमैन, गन्ना विकास परिषद मोदीनगर।

मोदीनगर-मुरादनगर क्षेत्र के लोगों से चौधरी अजित सिंह का बड़ा लगाव था। यहां के लोगों से वे बड़े उत्साह से मिलते थे। पूर्व प्रधानमंत्री चौधरी चरण सिंह के पैतृक गांव भदौला से भी अजित सिंह का खास लगाव था। जो भी व्यक्ति उनसे मिलने जाता था, वे लोगों से क्षेत्र की कुशलछेम जरूर पूछते थे।

रणबीर दहैया, क्षेत्रीय सचिव रालोद।

किसान और उद्यमी के बीच बेहतर समन्वय बनाने में चौधरी अजित सिंह का योगदान हमेशा सराहनीय रहा। उन्होंने किसानों की आवाज को बुलंद करने के साथ साथ एक रास्ता निकाला, जिससे उद्योगों का संचालन भी बेहतर तरीके से संचालित रहा। उनके बेहतर कार्यों के लिए चौधरी अजित सिंह हमेशा याद किए जाएंगे।

डीडी कौशिक, महाप्रबंधक पीआर, मोदी शुगर मिल।

चौधरी अजित सिंह का यूं अचानक असमय चले जाना बहुत परेशान करने वाला क्षण है। चौधरी साहब ने अपने पिता के रास्ते पर चलकर किसान, मजूदरों की आवाज को मजबूत किया। हम हमेशा उनके बताए रास्ते पर चलकर किसान, मजदूरों की लड़ाई लड़ते रहेंगे।

सुदेश शर्मा, पूर्व विधायक, मोदीनगर।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.